संसाधन

» गाइड

बिजनेस टूल्स: अध्याय 4 – एनालिटिक्स और एसईओ

इस लेख को पढ़ें

हर एक मीडिया संस्थान के लिए अपने वेबसाइट की पहुंच संबंधी पूरी जानकारी भी जरूरी है। इसके लिए ऐसे उपकरण उपलब्ध हैं, जो वेबसाइट के ट्रैफिक डेटा का आकलन करते हैं। वेबसाइट के विजिटर्स की डिजिटल और भौगोलिक उत्पत्ति की पूरी जानकारी इनसे मिल सकती है। लोग आपके वेबसाइट को देखने के लिए किस उपकरण का उपयोग कर रहे हैं, इसका पता भी लगाया जाता है। कौन से लेख ज्यादा लोकप्रिय हुए, इसकी जानकारी भी मिलेगी। वेबसाइट पर ट्रैफिक बढ़ाने और विजिटर के अनुभवों को बेहतर बनाने के लिए कैसे कदम उठाए जाएं, ऐसी चीजों में भी इन उपकरणों से मदद मिलती है।

डेटा एनालिटिक्स और एसईओ उपकरण

Ahrefs

एहरेफ्स: यह उपयोग में बेहद आसान और शक्तिशाली एसईओ टूल है। यह छोटी वेबसाइटों के लिए मुफ्त उपकरणों का एक सूट प्रदान करता है। लेकिन इसका एक भुगतान आधारित संस्करण भी है। इस टूल के प्रमुख कार्य हैं- आपकी वेबसाइट के ब्रोकेन लिंक्स का विश्लेषण करना, अन्य ऐसे साइटों का विश्लेषण करना जिनका आपकी साइट से लिंक जुड़ा हो, प्रतियोगियों की तुलना में आपकी साइट की रैंकिंग, बेहतर एसईओ प्रदर्शन के लिए कीवर्ड का सुझाव देना, वर्डप्रेस प्लग-इन संबंधी प्रस्ताव देना इत्यादि। एहरेफ्स वेबसाइट अन्य एसईओ और एनालिटिक्स टूल संबंधी कई संसाधन भी प्रदान करती है।

लागत: इसके कुछ उपकरण निःशुल्क हैं। इसका भुगतान आधारित संस्करण प्रथम उपयोगकर्ता के लिए मासिक 99 डॉलर और प्रत्येक अतिरिक्त उपयोगकर्ता के लिए 30 डॉलर से शुरू होता है।

भाषा: अंग्रेजी, स्पेनिश, फ्रेंच, जर्मन, इतालवी, डच, पोलिश, पुर्तगाली, रूसी, स्वीडिश, तुर्की, जापानी और चीनी।

Google Analytics

गूगल एनालिटिक्स: छोटे और मध्यम आकार के उपयोगकर्ताओं के लिए गूगल की ऐसी अधिकांश सुविधाएं निशुल्क हैं। ‘गूगल एनालिटिक्स‘ आपके वेबसाइट पर आने वाले विजिटर्स के व्यवहार का विश्लेषण प्रस्तुत करता है। लोगों द्वारा साइट विजिट की अवधि और वेबसाइट के भीतर क्लिक की संख्या जैसी गतिविधियों की भी रिपोर्ट मिल जाती है। ‘गूगल एनालिटिक्स‘ अब गूगल के बड़े मार्केटिंग प्लेटफॉर्म सॉफ्टवेयर के अंतर्गत निर्मित हो रहा है, उपयोगकर्ताओं को अन्य टूल्स से जुड़ने में सक्षम बनाता है। जैसे, यदि आप ‘गूगल एडवरटाइजिंग टूल्स‘ का उपयोग करते हैं, तो आप यह निर्धारित करने के लिए मीट्रिक निर्धारित कर सकते हैं कि विज्ञापन पर क्लिक करने वाले विजिटर का आपके अनुसार ‘सफल बदलाव‘ (कन्वर्जन) क्या होगा। आप ‘गूगल एनालिटिक्स‘ में इसके परिणाम भी देख सकते हैं।

यह आपको ‘गूगल सर्च कॉनसोल‘ से भी जोड़ता है। वहां आप देख सकते हैं कि आपकी साइट गूगल सर्च परिणामों में कैसा प्रदर्शन करती है। गूगल एनालिटिक्स डेटा का उपयोग गूगल द्वारा खुद अपने व्यवसाय के लिए भी किया जाता है। यदि आपके वेबसाइट में ‘गूगल एनालिटिक्स ट्रैकर्स‘ जुड़ा हो, तो कुछ ब्राउजरों और प्लग-इन गतिविधियों को ‘ब्लॉक‘ करने का संकेत देगा। इसमें ‘कुकीज स्वीकार करें‘ पॉपअप बनाने की आवश्यकता होगी। यह अब आमतौर पर पूरे वेब पर देखा जाता है। यदि आपका संगठन अपने उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता को प्राथमिकता नहीं देता हो, तो ‘गूगल एनालिटिक्स‘ सबसे अच्छा है। यह अपनी शक्ति और उपयोग में आसानी दोनों के मामले में सबसे अच्छा एसईओ और एनालिटिक्स (विश्लेषिकी) टूल है। ‘गूगल एनालिटिक्स‘ को बेहद भी आसानी से वर्डप्रेस सीएमएस प्लेटफॉर्म के साथ जोड़ सकते हैं। यह कई वेबसाइट निर्माण टूल्स के साथ पैकेज में भी आता है। जैसे, स्क्वायरस्पेस, मेलचिम्प।

लागत: छोटे और मध्यम आकार के संगठनों के लिए यह निशुल्क है। गैर-लाभकारी संस्थाओं और चैरिटी संस्थाओं के लिए छूट भी उपलब्ध है।

भाषा: यह कई भाषाओं में उपलब्ध है।

Impact Tracker

इम्पैक्ट ट्रैकर: इस अध्याय के अधिकांश टूल्स की तरह सभी एनालिटिक्स स्वचालित नहीं होते हैं। कई समाचार संगठनों, खासकर गैर-लाभकारी मीडिया संस्थाओं को अब अपनी रिपोर्टिंग का प्रभाव मापने के लिए उपयुक्त साधन की तलाश होती है। भले ही इसे चाहे जिस तरह से पेश किया जाए। इनका उपयोग किसी कॉलेज के प्रोफेसर द्वारा किया जा रहा हो, या किसी नीति परिवर्तन की ओर ले जाता हो। ‘सेंटर फॉर इन्वेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग‘ का सरल इम्पैक्ट ट्रैकर टूल एक ड्रुपल-आधारित वेब डेटाबेस है। यह उपयोगकर्ताओं को विभिन्न तरीकों से यह बताने की सुविधा देता है कि किस स्टोरी ने कैसा प्रभाव पैदा किया है। विभिन्न श्रेणियों का एक प्रारंभिक सेटअप के बाद आप एक ‘वेब फॉर्म‘ बना सकते हैं। इसमें उपयोगकर्ताओं को विभिन्न प्रकार की प्रतिक्रिया दर्ज करने की सुविधा मिलती है। इस तरह किसी स्टोरी या रिपोर्ट के प्रभाव का आकलन करने के लिए टाइमलाइन और रिपोर्ट बनाना संभव होता है।

लागत: यह निशुल्क है।

भाषा: यह अंग्रेजी में उपलब्ध है।

Matomo

मटोमो: पहले इसका नाम ‘पिविक‘ था। यह एक ऑपेन सोर्स टूल है। यह वेबसाइट एनालिटिक्स प्रदान करता है। उपयोगकर्ता इसे बिना किसी लागत के अपने सर्वर पर स्थानीय रूप से होस्ट कर सकते हैं। अगर वे वेब सामग्री परोस रहे हैं, तो इसे वर्डप्रेस के साथ एकीकृत भी कर सकते हैं। अपने डेटा को होस्ट करने के लिए मटोमो की मासिक शुल्क आधारित सेवा भी उपलब्ध है। ‘गूगल एनालिटिक्स‘ जैसी अन्य सेवाओं की तरह, ‘मटोमो‘ भी उपयोगकर्ता को कई सुविधाएं देता है। जैसे, आप यह देख सकते हैं कि आपके साइट के विजिटर कैसे व्यवहार करते हैं, किस प्रकार आपकी वेबसाइट पर नेविगेट करते हैं, किस तरह के ‘सर्च कीवर्ड‘ के जरिए आपकी साइट पर आए हैं, इत्यादि।

साइट विश्लेषण करने के लिए मटोमो की सेवाएं कई नैतिक मूल्यों पर आधारित है। ‘गूगल एनालिटिक्स‘ की तुलना में यह कुछ मानदंड का पालन करता है। जैसे, मटोमो अपने उपयोगकर्ता के डेटा को गोपनीय रख सकता है। वह आपके डेटा का इस्तेमाल अपने किसी उद्देश्य के लिए नहीं करता है। यानी दूसरों का विज्ञापन करने या दर्शकों के आइपी पते के माध्यम से उन्हें ट्रैक करने जैसे काम मटोमो नहीं करता। मटोमो का क्लाउड सर्वर यूरोप में स्थित है। यह यूरोपीय संघ के जीडीपीआर नियमों के अनुपालन पर भी जोर देता है। इसके लिए कुछ ऑनलाइन गोपनीयता और डेटा सुरक्षा प्रावधानों की आवश्यकता होती है। यह कष्टप्रद, क्लिक-थ्रू ऑप्ट-इन स्क्रीन की परेशानी से भी बचाता है, जिसका सामना अक्सर किसी वेबसाइट पर आने वाले अंतरराष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं को होता है।

लागत: स्थानीय होस्टिंग के लिए यह निशुल्क है। 50000 मासिक पेज व्यू वाली साइटों की क्लाउड होस्टिंग के लिए 29 डॉलर की दर है। वार्षिक शुल्क के साथ अतिरिक्त विश्लेषण सेवाएं प्रदान की जाती हैं।

भाषा: यह 54 भाषाओं में उपलब्ध है।

OpenWeb Analytics

ऑपेनवेब एनालिटिक्स: यह एक ‘फ्री और ऑपेन सोर्स‘ वेब एनालिटिक्स सॉफ्टवेयर है। यह एक वर्डप्रेस प्लग-इन के रूप में उपलब्ध है। लेकिन इसे किसी अन्य वेबसाइट के डेटाबेस में भी स्थापित किया जा सकता है। यह स्पष्ट और प्रयोग करने योग्य डैशबोर्ड सहित कई उपयोगी, परिष्कृत सुविधाएँ प्रदान करता है। विजिटर सबसे अधिक बार किस चीज पर क्लिक करते हैं, यह दिखाने के लिए एक ‘हीट मैप‘ भी है। उपयोगकर्ता को साइट पर लाने वाले ‘सर्च वर्ड‘ का विश्लेषण भी मिलता है। अज्ञात यूजर्स के ब्राउजिंग का डेटा भी मिल जाएगा। इसकी स्थापना और रखरखाव संबंधी काम के लिए कुछ तकनीकी और प्रोग्रामिंग कौशल जरूरी है।

लागत: यह निशुल्क है।

भाषा: यह अंग्रेजी में उपलब्ध है।

Plausible Analytics

प्लॉजिबल एनालिटिक्स: यह एक सरल और गोपनीयता-केंद्रित एनालिटिक्स है। यह काफी कम रिपोर्ट और प्रदर्शन प्रदान करता है। इसका तर्क यह है कि सरल होने से साइट के प्रदर्शन को गति मिलती है। इसमें उन चीजों को हटा दिया जाता है, जिनकी किसी छोटे संगठन को आवश्यकता ही नहीं होती। यह साइट के प्रदर्शन संबंधी जरूरी आँकड़े दिखाता है। जैसे- आगंतुकों की संख्या और साइट ट्रैफिक के मुख्य स्रोत। इसका गोपनीयता पर भी जोर है। यह सभी साइट विजिटर डेटा को पूरी तरह से अज्ञात रखता है। यह साइट विजिटर को जीडीपीआर सहमति बॉक्स के माध्यम से क्लिक करने से रोकता है। इसे इस्तेमाल करना भी अपेक्षाकृत सरल है।

लागत: साइट विजिटर की संख्या के अनुसार इसका शुल्क लगता है। 10000 पेज व्यू प्रतिमाह के लिए 6 डॉलर मासिक दर से शुरू होता है। 30 दिन के लिए मुफ्त ट्रायल की सुविधा भी मिलती है।

भाषा: अंग्रेजी, स्पेनिश, डच और स्वीडिश।

Screaming Frog

स्क्रीमिंग फ्रॉग: यह अपने वेबसाइट क्रॉलर, एसईओ स्पाइडर का एक मुफ्त संस्करण उपलब्ध कराता है। यह आपके वेबसाइट के टूटे हुए लिंक और डुप्लिकेट पेज ढूंढ सकता है। यह कनेक्शन मैप करने के लिए आपकी वेबसाइट का विजुअलाइजेशन बनाता है। यह मेटाडेटा और पेज टाइटल का विश्लेषण भी कर सकता है। इसका भुगतान आधारित संस्करण कई उन्नत सुविधाएँ प्रदान करता है। इनमें वर्तनी और व्याकरण की जाँच से लेकर सुरक्षा मुद्दों की पहचान करना, वैकल्पिक पाठ, अनुपलब्ध छवियों की पहचान करना जैसी सुविधाएं शामिल हैं। इसे ‘गूगल एनालिटिक्स‘ के साथ भी जोड़ सकते हैं।

लागत: 500 यूआरएल तक के लिए इसका मुफ्त संस्करण उपलब्ध है। भुगतान आधारित संस्करण 208 डॉलर प्रतिवर्ष पर उपलब्ध है।

भाषा: यह अंग्रेजी में उपलब्ध है तथा 39 भाषाओं में वर्तनी और व्याकरण जाँच की सुविधा भी है।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

पतनशील लोकतंत्र में कैसे टिके पत्रकारिता? भारत और हंगरी के संपादकों ने बताए पाँच उपाय

भारत में मीडिया संगठनों पर मनी लॉन्ड्रिंग या टैक्स-चोरी जैसे आर्थिक अपराधों के आरोप लगाए जाते हैं। पहले पत्रकारों के खिलाफ मानहानि के आरोपों का इस्तेमाल किया जाता था। उस पारंपरिक न्यायिक रणनीति को बदलकर अब आर्थिक आरोप लगाने का प्रचलन बढ़ा है। अदालतों में धीमी कानूनी प्रक्रिया के कारण यह परेशानी ज्यादा बढ़ जाती है। पत्रकारों के उत्पीड़न का एक तरीका उनकी यात्रा पर प्रतिबंध लगाना है।

Invetigative Agenda for Climate Change Journalism

जलवायु समाचार और विश्लेषण

जलवायु परिवर्तन पत्रकारिता के लिए खोजी एजेंडा

दुनिया भर में हजारों पत्रकार जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव पर रिपोर्टिंग कर रहे हैं। ऐसी पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए कई नेटवर्क स्थापित किए गए हैं। ऐसी पत्रकारिता जनसामान्य को सूचित करने और जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण है। यह सत्ता में बैठे उन लोगों को चुनौती देने के लिए भी जरूरी है, जो पर्यावरण संरक्षण की बात करते हैं, लेकिन वास्तव में पृथ्वी को जला रहे हैं। ऐसी सत्ता की जवाबदेही सुनिश्चित करना ही खोजी पत्रकारिता का मौलिक कार्य है।

टिपशीट

पत्रकार अपने स्मार्टफ़ोन से एक बेहतर फोटो कैसे ले सकते हैं

जेपीईजी फ़ाइलें अधिक पूर्ण चित्र बनाने के लिए फ़ोन की कम्प्यूटेशनल शक्ति का उपयोग करती हैं। प्रोरॉ फ़ाइलें तब तक उतनी बेहतर नहीं होंगी, जब तक कि आप उन पर काम न कर लें। वे सफेद के संतुलन और हाइलाइट्स पर बेहतर नियंत्रण प्रदान करती हैं। इनमें छाया और त्वचा टोन का अधिक गतिशील रेंज मिलता है।

Using Social Network Analysis for Investigations YouTube Image GIJC23

रिपोर्टिंग टूल्स और टिप्स

खोजी पत्रकारिता के लिए उपयोगी है ‘सोशल नेटवर्क एनालिसिस’

सोशल नेटवर्क एनालिसिस। यह कनेक्शन, पैटर्न और अनकही कहानियों की एक आकर्षक दुनिया है। पत्रकारों के टूलकिट में यह एक नई शक्तिशाली सुविधा जुड़ी है। यह हमारी दुनिया को आकार देने वाले रिश्तों के छिपे हुए जाल को उजागर करने में सक्षम बनाती है। यह केवल बिंदुओं को जोड़ने तक सीमित नहीं है। इससे सतह के नीचे मौजूद जटिल कहानियां भी उजागर हो सकती हैं।