संसाधन

» गाइड

बिजनेस टूल्स: अध्याय 7 – सामग्री प्रबंधन प्रणाली

इस लेख को पढ़ें

मीडिया संगठनों के लिए ‘कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम‘ (सामग्री प्रबंधन प्रणाली) भी जरूरी है। इस अध्याय में ‘वेब प्रकाशन‘ और ‘सामग्री प्रबंधन प्लेटफॉर्म‘ की पूरी जानकारी दी गई है। इसमें ‘वर्डप्रेस‘ पर केंद्रित किया गया है, क्योंकि यह सभी जगहों पर आसानी से उपलब्ध है तथा इसमें ‘ऐड-ऑन‘ की भी अच्छी सुविधा है।

‘वर्डप्रेस‘ और ‘प्लग-इन‘

WordPress

वर्डप्रेस: यह दुनिया की सबसे लोकप्रिय ‘सामग्री प्रबंधन प्रणाली‘ है। यदि आप इस गाइड को ऑनलाइन पढ़ रहे हों, तो संभवतः आप इसे किसी ‘वर्डप्रेस साइट‘ पर ही पढ़ रहे होंगे। इंटरनेट की 40 फीसदी सामग्री वर्डप्रेस पर बनी है। संभव है कि आपकी साइट भी ‘वर्डप्रेस‘ पर बनी हो।

‘वर्डप्रेस‘ के दो हिस्से हैं- ‘वर्डप्रेस डॉट ओआरजी‘ तथा ‘वर्डप्रेस डॉट कॉम‘। दोनों की अलग अलग सेवाएं हैं। वर्डप्रेस डॉट ओआरजी में आप एक ओपन सोर्स कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम पा सकते हैं। यह मुफ्त है। लेकिन इसके लिए जरूरी है कि आप अपनी खुद की होस्टिंग सेट करें। आपको अपना ‘डोमेन नाम‘ लेना होगा।

‘वर्डप्रेस डॉट कॉम‘ द्वारा एक ऐसा उत्पाद बेचा जाता है जिसमें सीएमएस, होस्टिंग और डोमेन नाम सेवा- तीनों उपलब्ध है। इसके अलावा थीम का एक पूर्व निर्धारित सेट और ग्राहक सेवा भी उपलब्ध है। आपके द्वारा भुगतान किए गए शुल्क के अनुसार एनालिटिक्स और एसईओ जैसी अतिरिक्त कार्यक्षमताएं भी मिल जाएगी।

‘वर्डप्रेस डॉट ओआरजी‘ काफी बहुमुखी है। यह आपको वर्डप्रेस ऐड-ऑन की तमाम सुविधाओं तक पहुंचने की अनुमति देता है। किसी छोटी परियोजना के लिए इसकी होस्टिंग सेवा का उपयोग करना बेहद आसान है। ‘वर्डप्रेस‘ के लिए दो प्रकार के एक्सटेंशन हैं। पहला- ‘प्लग-इन‘, जो आपकी वेबसाइट और बैकएंड संबंधी काम के तरीकों में मदद करते हैं। दूसरा- ‘थीम‘, जो वेबसाइट के रंगरूप को बेहतर करके आकर्षक बनाते हैं। प्लग-इन और थीम आपको मुफ्त मिल सकते हैं, या फिर फ्रीमियम या सशुल्क भी हो सकते हैं। ‘फ्रीमियम‘ में बुनियादी सुविधाएं निशुल्क मिलती हैं तथा उन्नत सेवाओं के लिए भुगतान करना पड़ता है। इस गाइड के अन्य अध्याय में ‘मेलचिंम्प‘ और ‘कोरल प्रोजेक्ट‘ जैसे कई उत्पादों की चर्चा की गई है, जो ‘वर्डप्रेस‘ के ‘प्लग-इन‘ उपलब्ध कराते हैं।

लागत: यदि आपने होस्टिंग और डोमेन नाम खुद भुगतान करके ले रखा हो, तो ‘वर्डप्रेस डॉट ओआरजी‘ की सुविधाएं निःशुल्क मिल सकती हैं। ‘वर्डप्रेस डॉट कॉम‘ का बेसिक बिजनेस प्लान 25 डॉलर प्रतिमाह पर उपलब्ध है।

 

भाषा: ‘वर्डप्रेस डॉट कॉम‘ 17 भाषाओं में उपलब्ध है। ‘वर्डप्रेस डॉट ओआरजी‘ या वर्डप्रेस के किसी भी प्लग-इन के लिए देखें – translate.wordpress.org  – यहां आपको पता चल जाएगा कि कौन सी सुविधाओं का अनुवाद किन भाषाओं में किया गया है।

मीडिया संगठनों के लिए उपयोगी कुछ अन्य ‘प्लग-इन‘

DocumentCloud

डोक्यूमेंट क्लाउड: इसके ‘प्लग-इन‘ को आप एडोब के ‘डोक्यूमेंट क्लाउड‘ साइट पर आसानी से प्राथमिक स्रोत दस्तावेजों को एम्बेड करके अपलोड कर सकते हैं।

लागत: यह निशुल्क है।

Editorial Calendar

एडिटोरियल कैलेंडर: इसमें आप अपनी सभी अनुसूचित (शिड्यूल्ड) पोस्ट को कैलेंडर के रूप में देख सकते हैं। किसी भी पोस्ट को बेहद आसानी से ड्रैग एंड ड्रॉप करके स्थानांतरित कर सकते हैं। उनकी तारीख और समय बदलकर पुनर्निर्धारित भी कर सकते हैं। किसी ड्राफ्ट पोस्ट का प्रबंधन करने और विषय (सब्जेक्ट लाइन) को संपादित करने की सुविधा भी है।

लागत: यह निशुल्क है।

भाषा: अंग्रेजी, डेनिश, डच, फ्रेंच, ग्रीक, इतालवी, जापानी, रूसी, स्पेनिश और स्वीडिश।

Jetpack

जेटपैक: यह वर्डप्रेस ऑटोमेटिक के अंतर्गत आता है। यह सिंगल प्लग-इन फीचर की व्यापक श्रृंखला का पैकेज है। जेटपैक आपकी साइट को सुरक्षा भी प्रदान करता है। यह किसी वायरस के हमलों को रोकता है और इसमें एंटी-स्पैम और एंटी-मैलवेयर सुविधाएं भी मिलती हैं। यह स्वचालित साइट बैकअप भी उपलब्ध कराता है। यह आपकी वेबसाइट संबंधी ऐसे आँकड़े भी प्रदान करता है, जिन्हें वर्डप्रेस डॉट ओआरजी के साइट्स में शामिल नहीं किया गया हो।

इसमें अन्य विशेषताएं भी हैं। जेटपैक में ‘संपर्क फॉर्म‘ बनाने के लिए टेम्प्लेट उपलब्ध हैं। सोशल मीडिया पर स्वचालित पोस्टिंग की भी सुविधा है। इसमें बड़ी फोटो को लोड करने का समय तेज करने और गूगल एनालिटिक्स से लिंक करने की सुविधा भी है। यदि आपको जेटपैक द्वारा उपलब्ध कराने वाली सारी सुविधाओं की जरूरत न हो, तो यह वर्डप्रेस डॉट ओआरजी साइट में कुछ आवश्यक कार्य जोड़ देता है। आपको यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि किन अतिरिक्त प्लग-इन के साथ अपनी वेबसाइट के किन पहलुओं को अपने हिसाब से ठीक करना चाहिए।

लागत: इसकी निशुल्क योजना में कुछ सुविधाएं मिलती हैं, सभी नहीं। बेसिक दैनिक साइट बैकअप 4.77 डॉलर प्रतिमाह से शुरू होता है।

भाषा: यह 44 भाषाओं में उपलब्ध है।

Largo

लार्गो: यह ‘इंस्टीट्यूट फॉर ननप्रोफिट न्यूज‘ द्वारा समाचार वेबसाइटों के लिए विकसित एक वर्डप्रेस थीम है।

लागत: यह निशुल्क है।

भाषा: इसमें वर्डप्रेस डॉट ओआरजी के समान भाषाओं की सुविधा है।

Ninja Forms

निन्जा फॉर्म: इसके जरिए बेहद आसानी से फॉर्म बनाए जा सकते हैं। इसमें वेबसाइट के आगंतुकों से फीडबैक लेने की काफी सुविधा है। यह सर्वेक्षण संबंधी जवाब, संपर्क जानकारी और अन्य डेटा एकत्र करने में उपयोगी है। यह दर्शकों को फाइलें अपलोड करने और ‘पेपैल‘ के जरिए दान भेजने की सुविधा भी देता है।

लागत: यह निशुल्क है। इसका व्यापक टेम्पलेट लाइब्रेरी के साथ सशुल्क संस्करण भी उपलब्ध है। लेकिन अधिकांश उपयोगकर्ताओं के लिए इसकी जरूरत नहीं है।

भाषा: यह 24 भाषाओं में उपलब्ध है।

Snowball

स्नोबॉल: यह एक इंटरैक्टिव एडिटर है। यह आपको लंबे लेख तैयार करने की सुविधा देता है। इसमें विभिन्न मीडिया प्रकारों और डिजाइन तत्वों जैसे वीडियो, डेटा विजुअलाइजेशन और पुल कोट्स शामिल हैं। इसे ऐसे लोगों द्वारा उपयोग करने योग्य बनाया गया है, जिनके पास कोडिंग का अनुभव नहीं है। यह लेख के प्रत्येक अनुभाग के लिए प्रासंगिक एचटीएमएल को संपादित करने में आसान ब्लॉकों में विभाजित करता है।

लागत: यह निशुल्क है।

StoryForm

स्टोरीफॉर्म: यह एक वर्डप्रेस प्लग-इन है। यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का उपयोग करता है। यह लंबी स्टोरीज के बेहतर लेआउट के लिए अनुकूलन योग्य टेम्पलेट्स का एक सेट है। यह कैप्शन प्लेसमेंट, थंबनेल छवियों को अनुकूलित करना, आवश्यकतानुसार पूर्णस्क्रीन वीडियो या फोटो के उपयोग में मदद करता है। स्टोरीफॉर्म यह भी सुनिश्चित करेगा कि आपके वेबसाइट का लेआउट सभी ब्राउजरों और मोबाइल पर एक समान दिखे।

लागत: प्रति माह एक स्टोरी के लिए यह निशुल्क है। शुल्क आधारित संस्करण में अधिक स्टोरीज की सुविधा है।

Woocommerce

वूकॉमर्स: यह ‘ऑटोमेटिक‘ द्वारा निर्मित है। इसी कंपनी ने वर्डप्रेस बनाया था। ‘वूकॉमर्स‘ वर्डप्रेस के लिए एक निःशुल्क ईकॉमर्स प्लग-इन है। यह आपकी साइट को किसी भुगतान प्रोसेसर से जोड़ता है। जैसे- पेपाल, स्ट्राइप इत्यादि। इस सुविधा के कारण आप वर्डप्रेस साइट के जरिए कोई सामान बेचने या दान स्वीकार करने में सक्षम होते हैं। प्रतिवर्ष 199 डॉलर की दर से ‘वूकॉमर्स‘ एक प्रीमियम सेवा भी देता है जिसमें सदस्यता सेवाओं को समायोजित किया जाता है।

लागत: आपके लेन-देन की मात्रा के आधार पर इसके शुल्क का निर्धारण होता है।

Wordfence

वर्डफेन्स: वर्डप्रेस साइट के लिए यह एक ‘सुरक्षा प्लग-इन‘ है। यह फायरवॉल टूल, मैलवेयर, बॉट्स और कमेंट स्पैमिंग से सुरक्षा प्रदान करता है। इसमें कुछ अतिरिक्त सुविधाएँ भी हैं। जैसे, आपके द्वारा इंस्टॉल किए गए वर्डप्रेस प्लग-इन में सुरक्षा संबंधी समस्याओं का पता लगाना।

लागत: इसके निशुल्क संस्करण में ऐसी अधिकांश विशेषताएं मौजूद हैं जिनकी छोटी वेबसाइटों को आवश्यकता हो। प्रीमियम संस्करण 99 डॉलर प्रतिवर्ष (8.25 डॉलर प्रतिमाह) से शुरू होता है।

भाषा: अंग्रेजी, स्पेनिश, चेक, डच और चीनी।

Yoast

योआस्त: यह वर्डप्रेस के लिए सबसे लोकप्रिय एसईओ प्लग-इन है। यह मुफ्त और सशुल्क दोनों तरह के संस्करण प्रदान करता है। सशुल्क संस्करण काफी अधिक कार्यक्षमता प्रदान करता है। जैसे, डेड लिंक का स्वचालित रूप से पता लगाना, कई भाषाओं में कीवर्ड की सुविधा देना, किसी साइट को इस योग्य बनाना ताकि उसकी पोस्ट गूगल न्यूज में आ सके।

लागत: इसका निशुल्क संस्करण भी उपलब्ध है। अधिक सुविधाओं वाले प्रीमियम संस्करण का शुल्क 89 डॉलर वार्षिक है।

भाषा: यह 32 भाषाओं में उपलब्ध है।

Newspack

न्यूजपैक: यह छोटे एवं मध्यम आकार के न्यूजरूम के लिए एक संपूर्ण समाधान प्रस्तुत करता है। यह ‘वर्डप्रेस डॉट कॉम‘ और ‘गूगल न्यूज इनीशिएटिव‘ की एक परियोजना है। यह होस्ट की गई एक साइट प्रदान करता है जो प्लग-इन तथा ऐसी अन्य सुविधाओं के साथ पूर्व-कॉन्फिगर की जाती है, जो पत्रकारिता संगठनों के लिए आवश्यक हो। इनमें दान लेने की प्रक्रिया को आसान बनाने, पाठकों की टिप्पणियों, न्यूजलेटर साइन-अप की सुविधा, एसईओ, अनुकूलित छवि और वीडियो लोडिंग जैसी काफी सुविधाएं शामिल हैं। न्यूजपैक लगातार विकास की दिशा में है। इसका दुनिया भर में काफी बड़ा और सक्रिय उपयोगकर्ता समुदाय है जो एक-दूसरे के साथ-साथ सॉफ्टवेयर के डेवलपर्स से जुड़ा है। यदि आपका संगठन इसका खर्च वहन कर सके तो आप इसे ले सकते हैं। न्यूजपैक इस गाइड में वर्णित कई उपकरणों को चुनने, सदस्यता लेने और स्थापित करने में शामिल बहुत सारे श्रम से बचने का एक आसान तरीका है। इसका मूल्य आपको महंगा लग सकता है, लेकिन इसका उपयोग आपकी श्रम लागत में काफी बचत कर सकता है। खासकर यदि आपके संगठन में वेब डेवलपर्स नहीं हों।

लागत: प्रकाशन के वार्षिक राजस्व के आधार पर शुल्क का निर्धारण होता है। वार्षिक 250000 डॉलर तक राजस्व वाले समाचार संगठनों के लिए इसका बेसिक प्लान 500 डॉलर प्रतिमाह से शुरू होता है। न्यूजपैक का उपयोग करने के योग्य होने के लिए समाचार संगठनों को कई विशिष्ट मानदंडों को पूरा करना पड़ता है।

भाषा: यह कई भाषाओं में उपलब्ध है। न्यूजपैक के वर्तमान उपयोगकर्ताओं में से एक-तिहाई यू.एस. के बाहर स्थित हैं।

वर्डप्रेस के विकल्प

Wix and Squarespace एक जैसे उत्पाद हैं जो होस्टिंग और डोमेन नाम सेवाओं के साथ सीएमएस को पैकेज करते हैं। आप इसके किसी पूर्व-निर्मित टेम्प्लेट के सेट जरिए आसानी से वेबसाइट बना सकते हैं। इसमें विभिन्न तत्वों को ड्रैग-एंड-ड्रॉप कर सकते हैं। इनमें अतिरिक्त सुविधाएँ भी हैं। जैसे, एसईओ, ई-कॉमर्स क्षमता, ईमेल सूची प्रबंधन।

विक्स के पास एक निःशुल्क विकल्प भी है। लेकिन डोमेन नाम संबंधी सेवाएं केवल भुगतान आधारित संस्करण में है। अन्यथा आपकी वेबसाइट yourwebsite.wix.com में होगी। इनमें से कोई भी उपकरण व्यापक अनुकूलन की अनुमति नहीं देता है। यहां तक कि जानकार उपयोगकर्ता भी इसके कोड को देख या संपादित नहीं कर सकते हैं। दोनों उत्पाद किसी मुख्यतः व्यावसायिक परियोजनाओं के उपयोग के लायक बनाए गए हैं। यदि आप एक साफ-सुथरी, सरल वेबसाइट बनाना चाहते हैं और आपके पास बजट है, तो इनमें से किसी एक सेवा का उपयोग कर सकते हैं।

लागत: इन दोनों का बेसिक बिजनेस प्लान 18 डॉलर प्रतिमाह से शुरू होता। दोनों की सुविधाओं में थोड़ी भिन्नता है।

भाषा: विक्स – अंग्रेजी, स्पेनिश, पुर्तगाली, फ्रेंच, जर्मन, पोलिश, इतालवी, रूसी, जापानी, कोरियाई, तुर्की, चीनी, थाई, स्वीडिश, नॉर्वेजियन, डच, डेनिश, हिंदी और चेक।

भाषा: स्कवरस्पेस – अंग्रेजी, फ्रेंच, जर्मन, इतालवी, पुर्तगाली और स्पेनिश।

Drupal और  Joomla!

ड्रुपल और जूमला: ये दोनों ऑपेन सॉर्स कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम हैं। दोनों को कॉन्फिगर और परिचालन करने के लिए महत्वपूर्ण चरणों की आवश्यकता होती है। इनके पास विशाल उपयोगकर्ता समुदाय होने के बावजूद हाल के वर्षों में इनकी लोकप्रियता में गिरावट आई है। इसके कारण वर्डप्रेस उपयोगकर्ताओं के लिए इनके पास उपलब्ध थीम और प्लग-इन की कमी है। हम इन विकल्पों की अनुशंसा केवल तभी कर सकते हैं जब आपके पास एक ऑन-स्टाफ डेवलपर हो, जो आपके ड्रुपल या जूमला प्लेटफॉर्म को चालू करके संचालित कर सके, जो इसके बैकएंड और फ्रंट एंड दोनों को कॉन्फिगर कर सके और इसे अपडेट रख सके।

लागत: यह निशुल्क है, लेकिन आपके स्वयं के सर्वर और होस्टिंग की आवश्यकता है।

भाषा: ड्रुपल 100 भाषाओं में तथा जूमला 75 से अधिक भाषाओं में उपलब्ध है।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

embracing failure open source reporting

क्रियाविधि

ओपन सोर्स रिपोर्टिंग में अपनी गलतियों से सीखें

ओपन सोर्स क्षेत्र में काम करने का मतलब डेटा के अंतहीन समुद्र में गोते लगाना है। आप सामग्री के समुद्र में नेविगेट करना, हर चीज़ को सत्यापित करना और गुत्थियों को एक साथ जोड़कर हल करना सीखते हैं। हालांकि, ऐसे भी दिन आएंगे जब आप असफल होंगे।

इमेज: मैसूर में एक मतदाता सहायता केंद्र पर जानकारी लेते हुए भारतीय नागरिक, अप्रैल 2024, इमेज - शटरस्टॉक

भारतीय चुनावों में फ़ैक्ट चेकिंग के सबक

लोकतंत्र के मूल्यों को बनाए रखने के लिए तथ्यों के आधार पर मतदाताओं को निर्णय लेने का अवसर मिलना आवश्यक है। इसके लिए ‘शक्ति‘ – इंडिया इलेक्शन फैक्ट चेकिंग कलेक्टिव का निर्माण किया गया। इस प्रोजेक्ट में गूगल न्यूज इनीशिएटिव की मदद मिली। इस पहल का नेतृत्व डेटालीड्स ने किया। इसके साझेदारों में मिस-इनफॉर्मेशन कॉम्बैट एलायंस (एमसीए), बूम, द क्विंट, विश्वास न्यूज, फैक्टली, न्यूजचेकर तथा अन्य प्रमुख फैक्ट चेकिंग (तथ्य-जांच) संगठन शामिल थे। इंडिया टुडे और प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) जैसे मीडिया संस्थानों ने भी इसमें भागीदारी निभाई।

Recorder panel at IJF24

रिकॉर्डर : रोमानिया में स्वतंत्र मीडिया का अनोखा राजस्व मॉडल

रिकॉर्डर को वर्ष 2017 में एक विज्ञापन राजस्व मॉडल की योजना के साथ लॉन्च किया गया था। अब इसकी 90 प्रतिशत आय दर्शकों से आती है। यह रोमानिया का एक स्वतंत्र खोजी मीडिया संगठन है। वीडियो और वृत्तचित्रों में इसकी विशेषज्ञता है।

समाचार और विश्लेषण

जब सरकारें प्रेस के खिलाफ हों तब पत्रकार क्या करें: एक संपादक के सुझाव

जिन देशों में प्रेस की आज़ादी पर खतरा बढ़ रहा है, वहां के पत्रकारों के साथ काम करने में भी मदद मिल सकती है। पत्रकारों को स्थानीय या अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संगठनों के साथ गठबंधन बनाकर काम करने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा- “आप जिन भौगोलिक सीमाओं तथा अन्य चुनौतियों का सामना कर रहे हों, उन्हें दरकिनार करने का प्रयास करें।“