संसाधन

» टिपशीट

आलेख

अपना ख़ुद का न्यूज़ स्टार्टअप स्थापित करने के लिए दस टिप्स

इस लेख को पढ़ें

मैक्सिकन पत्रकार एलेजांद्रा ज़ैनिक तथा डेविड बारस्टो को वर्ष 2013 में खोजी पत्रकारिता के लिए संयुक्त तौर पर पुलित्जर पुरस्कार मिला था। इसके कुछ ही समय बाद एलेजांद्रा ज़ैनिक ने अपने देश में पत्रकारिता की स्थिति पर विचार करने के लिए तीन समकालीन पत्रकारों के साथ विस्तृत चर्चा की।

इस चर्चा में खोजी पत्रकारिता से जुड़ी चुनौतियों पर विचार किया गया। वह कहती हैं- “हमें लगा कि चारों तरफ़ एक अजीब सी शांति फैल रही है। असुरक्षा की स्थिति बढ़ रही है। संगठित अपराध और भ्रष्टाचार बढ़ रहा है। तमुलिपास जैसे सीमावर्ती राज्यों में खोजी रिपोर्टिंग करना अधिक खतरनाक होता जा रहा है।”

इस चर्चा के बाद  Quinto Elemento Lab  बनाने का सुझाव आया। खोजी रिपोर्टिंग और नवाचार के लिए एक ऐसी गैर-लाभकारी प्रयोगशाला, जो राजधानी से बाहर के पत्रकारों के काम में सहायता करेगी। शुरूआत के आठ महीनों तक उनके पास पैसे नहीं थे। लेकिन जब उन्होंने पिच के लिए स्टोरी आइडिया मांगे तो पहली ही बार में 120 स्टोरी आइडिया मिल गए। तब उन्हें यह बात समझ में आ गई कि वाकई कुछ अच्छा होने जा रहा है। इसी दौरान सह-संस्थापक मार्सेला तुराती ने गुप्त कब्रों और लापता लोगों पर महत्वपूर्ण जांच की एक श्रृंखला पेश की। इसके साथ ही सफलता के दरवाजे खुल गए।

समय के साथ, ‘क्विंटो एलिमेंटो लैब’ का विकास होता गया। आज इसमें आठ लोगों का स्टाफ कार्यरत है, जो स्वतंत्र पत्रकारों के एक समूह के साथ काम करता है। लैब को अब तक 11 विभिन्न फाउंडेशनों का सहयोग मिल चुका है। रिपोर्टिंग से संपादन की ओर बढ़ते हुए एलेजांद्रा ज़ैनिक अब ऐसे युवा पत्रकारों और संपादकों का मार्गदर्शन करती हैं, जो सत्ता में बैठे लोगों को जवाबदेह ठहराने वाली खोजी पत्रकारिता करना चाहते हैं।

‘क्विंटो एलिमेंटो लैब’ की स्टोरीज को काफी सराहना मिली है। इसे कई पुरस्कार भी मिले हैं। इसे लैटिन अमेरिकी कॉन्फ्रेन्स ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म (COLPIN) में सर्वश्रेष्ठ खोजी रिपोर्टिंग पुरस्कार मिला था। मार्सेला तुराती को गुप्त कब्रों पर खोजी रिपोर्टिंग के लिए गैबो पुरस्कार मिला। यह लैटिन अमेरिका का एक प्रमुख पुरस्कार है।

इसकी टीम ने मेक्सिको में कोविड-19 डाटा में स्वदेशी लोगों के कम प्रतिनिधित्व की जांच संबंधी डाटा पत्रकारिता के लिए सिग्मा एवार्ड भी जीता। इसने वर्ष 2021 में पुलित्जर हेतु शॉर्टलिस्टेड जांच, फिनसेन फ़ाइल्स में भी सहयोगी भूमिका निभाई।

इमेज: एलेजांद्रा ज़ैनिक के सौजन्य से

एलेजांद्रा ज़ैनिक अपने देश में एक चर्चित खोजी पत्रकार हैं। उनकी यह यात्रा काफी कठिन रही है। वह कहती हैं कि किसी संगठन की स्थापना संबंधी विचारों के बीज को सफलता की कहानी तक विकसित होने में समय और दृढ़ संकल्प की आवश्यकता होती है। एक महिला निदेशक होने के नाते कई अन्य चुनौतियां भी सामने आती हैं।

एलेजांद्रा ज़ैनिक को न्यूयॉर्क टाइम्स की टीम के बतौर पुलित्जर एवार्ड मिला था। उस टीम ने जांच की थी कि किस तरह वॉल-मार्ट ने मैक्सिकन बाजार पर हावी होने के लिए रिश्वत का इस्तेमाल किया था। एलेजांद्रा ज़ैनिक को जॉर्ज पोल्क पुरस्कार भी मिला। वह हमेशा काफी विनम्र रहती हैं। वह अंतरराष्ट्रीय मान्यता से मिले अवसरों के लिए प्रति कृतज्ञ महसूस करती हैं। दिल से वह अब भी एक फील्ड रिपोर्टर हैं। वह न्यूज़ रूम और फील्ड में बिताए गए अपने वर्षों को याद करना चाहती हैं।

अब उन्होंने इस साइट का नेतृत्व पत्रकार अरमांडो तालामांटेस को सौंप दिया है। ‘क्विंटो एलिमेंटो लैब’ की यात्रा के पांच साल बाद एलेजांद्रा ज़ैनिक ने अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने छोटे खोजी रिपोर्टिंग स्टार्टअप स्थापित करने के संबंध में निम्नलिखित दस सुझाव दिए।

‘क्विंटो एलिमेंटो लैब’ की ‘द वे टू फाइंडिंग देम’ – यह लिखित रिपोर्टों और पॉडकास्ट की एक श्रृंखला है। यह मेक्सिको में गायब हुए लोगों की खोज के विभिन्न तरीके बताती है। इमेज: स्क्रीनशॉट

एक योग्य प्रशासक नियुक्त करें – एलेजांद्रा ज़ैनिक कहती हैं कि कई खोजी मीडिया संगठनों में प्रबंधन संबंधी कार्यों के लिए किसी प्रोफेशनल प्रशासक के बजाय खबरों का जुनून रखने वाले पत्रकारों को रखा जाता है। जबकि एक पेशेवर प्रशासक (एडमिनिस्ट्रेटर) नियुक्त करना पहला कदम होना चाहिए। ऐसा नहीं करना ‘क्विंटो एलिमेंटो लैब’ के लिए आत्मघाती था। हम लगभग बंदी के कगार तक पहुंच चुके थे। यह भी ध्यान में रखें कि आप ऐसे पदों पर किस तरह नियुक्ति करते हैं। यह काम एचआर यानी मानव संसाधन से जुड़ा है। आप लोगों की भर्ती कैसे करते हैं? आप साक्षात्कार कैसे करते हैं? उनके संदर्भों की जाँच कैसे करते हैं? किस तरह यह निर्धारित करते हैं कि अच्छे गुण क्या हैं? आप ईमानदारी और योग्यता का परीक्षण कैसे करते हैं? एक पत्रकार के रूप में आपको यह कम महत्वपूर्ण बात लग सकती है। लेकिन यह एक मौलिक काम है।

कानूनी सिस्टम को जानें – वह सलाह देती हैं कि नियमों और कानूनों के बारे में हमेशा जागरूक रहें। यह हमेशा बदलते रहते हैं। जैसे, मेक्सिको में एनजीओ को मिलने वाले विदेशी धन पर प्रतिबंध लगाने की कोशिश की जा रही है। इसलिए इन कार्यों से जुड़े अन्य लोगों से जानकारी लेते रहें। पता करें कि अल साल्वाडोर, ग्वाटेमाला, या निकारागुआ में क्या चल रहा है? क्या किसी संगठन को कोई अनुदान मिला है?

क्विंटो एलिमेंटो लैब टीम की रणनीतिक योजना बैठक। इमेज: एलेजांद्रा ज़ैनिक के सौजन्य से

अपने मॉडल की जांच करें – जब पहली बार ‘क्विंटो एलिमेंटो लैब’ की टीम ने यह परियोजना बनाई थी, उस वक्त ऐसा काम करने वाली कोई अन्य संस्था इस क्षेत्र में सक्रिय नहीं थी। लेकिन पांच साल बाद परिदृश्य बदल गया है। एलेजांद्रा ज़ैनिक कहती हैं – “दो साल पहले हमें पता चला कि अन्य संगठन भी हमारे जैसा काम कर रहे हैं। वे अपनी स्टोरी प्रकाशित नहीं कर रहे, बल्कि सामग्री तैयार करते हैं। यदि अन्य लोग भी गुणवत्तापूर्ण काम की पेशकश कर रहे हैं, तो इसका मतलब है कि अब हमारे पास जमीनी स्तर पर प्रतिस्पर्धा है। यह दिखाना महत्वपूर्ण है कि आपके पास क्या विशेषता है। आप खबरों की पहुंच और प्रभाव को कैसे सुधार कर आगे बढ़ा सकते हैं? क्या कुछ ऐसी चीजें हैं जिनके कारण आपको अपने पारिस्थितिकी तंत्र में बदलाव लाना होगा?”

अपनी फंडिंग रणनीति पर विचार करें – “हम जिस प्रकार की खोजी पत्रकारिता करते हैं, उसे कुछ समय तक अनुदान देने वाली संस्थाओं और फाउंडेशनों पर निर्भर रहना पड़ता है। लेकिन यदि उनका फोकस बदल जाए तो क्या होगा?” वह चेतावनी देती हैं- “कोविड-19 के बाद दुनिया में बढ़ती असमानता एक बड़ा मुद्दा है। लेकिन हम नहीं जानते कि ऐसे फाउंडेशन कब तक लोकतंत्र और प्रेस की स्वतंत्रता का समर्थन करते रहेंगे।” खोजी पत्रकारिता का वित्तपोषण काफी महंगा है। सब्सक्राइबर मॉडल की सफलता पर भी संदेह है। “फिलहाल, सदस्यता मॉडल के साथ ऐसा कोई तरीका नहीं है जो ऐसे काम को वित्तपोषित कर सके।”

अपनी सामग्री साझा करने की योजना बनाएं – ‘क्विंटो एलिमेंटो लैब’ शुरू करने के समय उनके पास कोई मार्केटिंग या ब्रांडिंग नहीं थी। उन्होंने ’प्रोपब्लिका मॉडल’ का अनुसरण करते हुए मुफ्त में अपनी सामग्री साझा की। वह बताती हैं कि शुरुआत में ही यह समझ में आया कि निशुल्क तौर पर उच्चगुणवत्ता वाली संपूर्ण और विश्वसनीय सामग्री प्रदान करें। अपनी स्टोरीज के लिए कानूनी दायित्व भी हमारी टीम पर ही था। इस तरह हमारे काम के लिए एक जगह खुल गई। दूसरी बात, हम देश भर में ऐसे स्टार्टअप्स को अच्छी सामग्री के साथ मदद कर रहे थे, जिसे वे खुद नहीं कर सकते थे। वह कहती हैं- “हमारी टीम अब यह विचार कर रही है कि यह मॉडल लंबी अवधि तक काम करेगा, अथवा नहीं। अब हमें लगता है कि मॉडल को मुफ़्त के बदले अनुदान या सदस्यता में बदलना पड़ सकता है। हम नहीं जानते कि कितना शुल्क लेना है। एक भागीदार कितना भुगतान कर सकता है, यह भी स्पष्ट नहीं। क्या हमारी संपादकीय प्रक्रिया किसी तरह बदलेगी? क्या इस मामले में मीडिया संस्थानों का भी कोई पक्ष होगा? हम अब ऐसे प्रश्न पूछ रहे हैं।”

एक संगठनात्मक चार्ट बनाएं – वह कहती हैं, “हमने दोस्तों के साथ शुरुआत की थी। ऐसी टीम में किसी संगठनात्मक चार्ट की जरूरत नहीं दिखती। लेकिन हरेक को यह जानना जरूरी है कि वह किसे रिपोर्ट करे। निर्देशक को यह जानना चाहिए कि टीम का कौन सदस्य कहां है। क्या वे ऐसे काम कर रहे हैं जो हमारे मूल काम के अनुरूप हैं? यह एक कठिन काम है। आपको स्वतंत्र और उदार किस्म के अपने सांगठनिक स्वरूप को बदलकर एक संरचित और व्यवस्थित स्वरूप की ओर ले जाना होगा। आपको एक संस्थापक सदस्य के बतौर कोई पद नहीं चाहिए। लेकिन एक ऐसा पद चाहिए, जिसका दायित्व स्पष्ट हों। यह बात बिल्कुल स्पष्ट रहे कि टीम का कौन सदस्य क्या करता है।”

पारदर्शी रहें – खोजी पत्रकारिता खुद ही दूसरों को जिम्मेदार ठहराती है। इसलिए आपकी फंडिंग और मददगारों के बारे में खुलापन जरूरी है। वह कहती हैं, “फंडर्स और जनता, दोनों को पारदर्शिता चाहिए। हमें मिलने वाले पैसे का क्या होता है? उसका हम क्या करते हैं? पारदर्शिता बहुत महत्वपूर्ण है। इसमें जांच और संतुलन जरूरी है।”

अपने स्टाफ को महत्व दें, पुरस्कृत करें – सीमित बजट के बावजूद अपने संस्थान को आगे बढ़ने और अपनी लोकप्रियता बढ़ाने के लिए प्रमुख पत्रकारों को जोड़ने का प्रयास करें। “हमें प्रतिस्पर्धी होना होगा। प्रतिभावान लोगों को अपने साथ बनाए रखना होगा। उन्हें समुचित वेतन देना होगा। हम छुट्टियों के साथ अन्य क्षतिपूर्ति का भी प्रयास करते हैं। इसके अलावा, अपने लोगों को आवश्यकतानुसार नए कौशल सिखाने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम भी अपने सीमित बजट में आयोजित कर सकते हैं।”

एक टीम के रूप में काम करें – क्विंटो एलिमेंटो लैब ने अपनी सबसे बड़ी जांच के लिए टीम के बीच काम बांट दिए। एक ही परियोजना पर हरेक पत्रकार अपनी विशेषज्ञता के अनुसार काम कर सके, ऐसा कार्य विभाजन किया गया। “कोई डाटा ला रहा था। कोई सूचना का अधिकार से जानकारी जुटा रहा था।” वह कहती हैं कि ज़मीनी स्तर पर रिपोर्टिंग भी महत्वपूर्ण है। हालांकि मेक्सिको में सुरक्षा स्थिति एक जटिल आयाम है। “किसी को ज़मीनी रिपोर्ट के लिए भेजने का निर्णय बहुत कठिन है। कुछ खबरों में काफी समय लग गया क्योंकि हम तय नहीं कर सके कि उन क्षेत्रों में भेजने के लिए कौन-सा समय अनुकूल है। लेकिन संपादक के लिए खबर से ज्यादा अपने पत्रकारों की सुरक्षा प्राथमिक है। यह बात पत्रकारों की दिलचस्पी बनाए रखती है।”

अस्तित्व बचाए रखने के साथ विकास पर भी ध्यान दें – “लंबे समय तक हमारी नीति काफी सख्त थी। हमारे पास बेहद मामूली, छोटा कार्यालय था। हर कोई अपने निजी कंप्यूटर का उपयोग करता था। संस्थापकों के रूप में सबने कड़ी मेहनत की। लेकिन आगे बढ़ने के लिए सही समय को पहचानना महत्वपूर्ण है।” वह कहती हैं, “अब हम सोचते हैं कि इसे टिकाऊ बनाने का तरीका टीम को बढ़ाना है। विकास के लिए एक अलग मानसिक संरचना जरूरी है। आगे बढ़ने के प्रयास में जोखिम भी हैं। क्या आप दो नए पत्रकारों को जोड़ सकते हैं? क्या इससे आपको आर्थिक नुकसान होगा? आपको अपने काम में क्या चाहिए? विकास के बारे में सोचने से पहले आपको कैसे अनुदान की आवश्यकता है? आपकी टीम में कोई ऐसा व्यक्ति होना चाहिए, जो प्रशासन संबंधी पहलुओं और संख्याओं के बारे में अच्छा जानकार हो। यह बहुत डरावना दौर है। इसलिए ऐसे निर्णय काफी सोच-समझकर लेने होंगे।”

इन टिप्स को जीआईजेएन वुमेन की एक बैठक से लिया गया है। यह महिलाओं और गैर-बाइनरी खोजी पत्रकारों से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करने के लिए एक समूह है।

अतिरिक्त संसाधन

How Quinto Elemento Trains Mexico’s New Generation of Muckrakers

The 5th Element: A Mexican Investigative Reporting Lab

GIJN Resource Center: Sustainability


लॉरा डिक्सन जीआईजेएन में एसोसिएट एडिटर और स्वतंत्र पत्रकार हैं। वह पेरिस और ऑस्टिन, टेक्सास में फ्रीलांस कार्य और कोलंबिया से चार साल तक रिपोर्टिंग के बाद जीआईजेएन से जुड़ीं। वह ब्रिटेन में रहती हैं। 

 

 

एंड्रिया अर्ज़ाबा जीआईजेएन की स्पेनिश संपादक हैं। एक पत्रकार और मीडिया पेशेवर के रूप में उन्होंने लैटिन अमेरिका और संयुक्त राज्य अमेरिका में लैटिनक्स समुदायों के लोगों की कहानियों का दस्तावेजीकरण किया है।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

embracing failure open source reporting

क्रियाविधि

ओपन सोर्स रिपोर्टिंग में अपनी गलतियों से सीखें

ओपन सोर्स क्षेत्र में काम करने का मतलब डेटा के अंतहीन समुद्र में गोते लगाना है। आप सामग्री के समुद्र में नेविगेट करना, हर चीज़ को सत्यापित करना और गुत्थियों को एक साथ जोड़कर हल करना सीखते हैं। हालांकि, ऐसे भी दिन आएंगे जब आप असफल होंगे।

इमेज: मैसूर में एक मतदाता सहायता केंद्र पर जानकारी लेते हुए भारतीय नागरिक, अप्रैल 2024, इमेज - शटरस्टॉक

भारतीय चुनावों में फ़ैक्ट चेकिंग के सबक

लोकतंत्र के मूल्यों को बनाए रखने के लिए तथ्यों के आधार पर मतदाताओं को निर्णय लेने का अवसर मिलना आवश्यक है। इसके लिए ‘शक्ति‘ – इंडिया इलेक्शन फैक्ट चेकिंग कलेक्टिव का निर्माण किया गया। इस प्रोजेक्ट में गूगल न्यूज इनीशिएटिव की मदद मिली। इस पहल का नेतृत्व डेटालीड्स ने किया। इसके साझेदारों में मिस-इनफॉर्मेशन कॉम्बैट एलायंस (एमसीए), बूम, द क्विंट, विश्वास न्यूज, फैक्टली, न्यूजचेकर तथा अन्य प्रमुख फैक्ट चेकिंग (तथ्य-जांच) संगठन शामिल थे। इंडिया टुडे और प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) जैसे मीडिया संस्थानों ने भी इसमें भागीदारी निभाई।

Recorder panel at IJF24

रिकॉर्डर : रोमानिया में स्वतंत्र मीडिया का अनोखा राजस्व मॉडल

रिकॉर्डर को वर्ष 2017 में एक विज्ञापन राजस्व मॉडल की योजना के साथ लॉन्च किया गया था। अब इसकी 90 प्रतिशत आय दर्शकों से आती है। यह रोमानिया का एक स्वतंत्र खोजी मीडिया संगठन है। वीडियो और वृत्तचित्रों में इसकी विशेषज्ञता है।

समाचार और विश्लेषण

जब सरकारें प्रेस के खिलाफ हों तब पत्रकार क्या करें: एक संपादक के सुझाव

जिन देशों में प्रेस की आज़ादी पर खतरा बढ़ रहा है, वहां के पत्रकारों के साथ काम करने में भी मदद मिल सकती है। पत्रकारों को स्थानीय या अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संगठनों के साथ गठबंधन बनाकर काम करने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा- “आप जिन भौगोलिक सीमाओं तथा अन्य चुनौतियों का सामना कर रहे हों, उन्हें दरकिनार करने का प्रयास करें।“