संसाधन

पत्रकारों के लिए आपातकालीन सहायता

इस लेख को पढ़ें

दुनिया भर में हमारे सहयोगी पत्रकारों पर ख़तरा बढ़ता जा रहा है। वर्ष 1992 से अब तक दो हजार से भी अधिक पत्रकार मारे जा चुके हैं। हजारों पत्रकारों को हमले, धमकी, जेल और उत्पीड़न का शिकार होना पड़ा है। इसलिए आपातकालीन स्थितियों में मदद संबंधी पूरी जानकारी पत्रकारों के पास होनी चाहिए। जीआईजेएन की इस मार्गदर्शिका में ऐसे दर्जनों संगठनों की जानकारी दी गई है, जो पत्रकारों को खतरे में आपातकालीन सहायता प्रदान करते हैं।

ऐसी सहायता में चिकित्सा और कानूनी सहायता से लेकर खतरे में घिरे पत्रकार को किसी स्थान या देश से बाहर निकालने जैसी सुविधा भी शामिल है। यदि आप सचमुच किसी खतरे में हैं, तो संपर्क करने में संकोच न करें। आपके लिए कई प्रकार की सहायता उपलब्ध है। विवरण प्रस्तुत है।

The Committee to Protect Journalists : सीपीजे एक न्यूयॉर्क स्थित संगठन है। इसके  Journalist Assistance Program में किसी जोखिम में पड़े पत्रकार को कानूनी, मेडिकल और पुनर्वास (रीलोकेशन) सहायता मिलती है। यह दुनिया भर में मौत के शिकार और जेल में बंद पत्रकारों के परिवारों को सहायता भी देता है। ऐसी किसी सहायता का अनुरोध करने और प्रेस की स्वतंत्रता के उल्लंघन की रिपोर्ट करने के लिए यहां संपर्क करें

International Federation of Journalists: आईएफजे ने एक सुरक्षा कोष का गठन किया है। इसके तहत हिंसा, उत्पीड़न और धमकी का सामना करने वाले या चिकित्सा उपचार की आवश्यकता वाले पत्रकारों को सहायता मिलती है। सुरक्षा कोष के जरिए पत्रकारों को किसी खतरे, हिंसा, निर्वासन की स्थिति में अन्यत्र बसाने और बीमारी जैसे कई आपातकालीन मामलों में वित्तीय सहायता मिलती है।

Reporters Without Borders : पेरिस स्थित यह संगठन पत्रकारों और समाचार संगठनों को अपनी रक्षा करने हेतु और जेल में बंद पत्रकारों के परिवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करता है। इसका सहायता डेस्क देखें । आप फ्रीलांसरों के लिए बीमा की जानकारी यहां ले सकते हैं।

Free Press Unlimited : इस डच मीडिया डेवलपमेंट एनजीओ ने Reporters Respond बनाया है। यह एक अंतरराष्ट्रीय आपातकालीन कोष है जो पत्रकारों और मीडिया संगठनों की मदद करता है। किसी अनुरोध को 24 घंटे के भीतर जवाब देने का लक्ष्य रखा गया है। संपर्क : ईमेल reportersrespond@freepressunlimited.org  या + 31 20 8000 400 पर कॉल करें।

International Women’s Media Foundation: इसने IWMF Emergency Fund बनाया है। इसके अंतर्गत किसी भी देश में प्रिंट, ब्रॉडकास्ट या ऑनलाइन मीडिया में कार्यरत पूर्णकालिक या स्वतंत्र महिला पत्रकार को चिकित्सा सहायता, स्थानांतरण सहायता और कानूनी सहायता मिलती है। आईडब्ल्यूएमएफ ने महिला और पुरुष दोनों तरह के पत्रकारों के लिए  United States Journalism Emergency Fund भी बनाया है। इसके अलावा,  Black Journalists Therapy Relief Fund की भी स्थापना की गई है। यह वित्तीय कठिनाई का सामना करने वाले अश्वेत पत्रकारों की आर्थिक सहायता के लिए बनाया गया है, जो मानसिक स्वास्थ्य सहायता के लिए भुगतान करने में असमर्थ हैं।

Lifeline Fund : लाइफलाइन इम्बेटेड सीएसओ एसिस्टेंस फंड द्वारा पत्रकार संगठनों तथा नागरिक समाज समूहों को आपातकालीन वित्तीय सहायता दी जाती है। यह 17 सरकारों और फाउंडेशनों द्वारा समर्थित है। इसमें लाइफलाइन चिकित्सा सहायता, कानूनी प्रतिनिधित्व, परीक्षण निगरानी, अस्थायी स्थानांतरण, सुरक्षा उपकरण जैसे खर्चों के लिए अल्पकालिक आपातकालीन अनुदान मिलता है। यह मानवाधिकारों या लोकतंत्र के मुद्दों पर काम करने वाले पत्रकारों की मदद के लिए ज्यादा प्रतिबद्ध है।

Media Defence: यह लंदन स्थित संगठन है। यह पत्रकारों, नागरिक-पत्रकारों और स्वतंत्र मीडिया को कानूनी खतरे की स्थिति में मदद करता है। यह मीडिया की स्वतंत्रता की रक्षा हेतु कानूनी सहायता करता है। मुकदमे लड़ने के लिए संगठनों को धन भी प्रदान करता है।

Rory Peck Trust : यह लंदन में स्थित है। यह अपने वित्तीय सहायता कार्यक्रम द्वारा दुनिया भर में फ्रीलांस पत्रकारों और उनके परिवारों को सहायता प्रदान करता है। वर्तमान में इसके दो फंड संचालित हैं- क्राइसिस फंड और थेरेपी फंड।

 

The German RSF branch के पास दुनिया भर में पत्रकारों की मदद करने वाले कार्यक्रम हैं। Help in Exile कार्यक्रम उन पत्रकारों की मदद करता है, जिन्हें किसी प्रकार के खतरे और दमन के कारण अपना घर या देश छोड़ने की नौबत आती हो। Help in Need कार्यक्रम उन पत्रकारों की सहायता करता है जिन्हें किसी सुरक्षित मेजबान देश की तलाश है, जहां वे अपनी जिंदगी पर किसी खतरे के बगैर पत्रकारिता जारी रख सकें।

European Centre for Press & Media Freedom: इसने महिला मीडियाकर्मियों के लिए एक अलार्म सेंटर बनाया है। यहां वे खुद पर खतरों तथा हमलों की जानकारी देकर मदद या सलाह ले सकती हैं।

Canadian Journalists For Free Expression इसके द्वारा ‘जर्नलिस्ट्स इन डिस्ट्रेस’ कार्यक्रम चलाया जाता है। इसके तहत दुनिया भर के उन पत्रकारों को मानवीय सहायता मिलती है, जिनके जीवन और कल्याण को उनकी रिपोर्टिंग के कारण खतरा है। यह फंड पत्रकारों को हिरासत में लिए जाने पर कानूनी फीस, पत्रकारों के आग में फंसने या कवरेज के दौरान आहत होने पर चिकित्सा खर्च, खतरनाक स्थिति से भागने के लिए परिवहन लागत, मृत या जेल गए पत्रकारों के परिवारों के लिए वित्तीय सहायता इत्यादि प्रदान कर सकता है। यह किसी सुरक्षित देश में शरण लेने पर प्रथम वर्ष के पुनर्वास लागत में भी मदद कर सकता है। (CJFE.org)

International Media Support : यह एक सुरक्षा पैकेज प्रदान करता है। इसमें निम्नलिखित सहायता शामिल हैं :

  1. प्रशिक्षण : जोखिम विश्लेषण और खतरे को कम करने संबंधी प्रशिक्षण, प्राथमिक चिकित्सा, सुरक्षित संचार, संघर्ष क्षेत्र और संवेदनशील पत्रकारिता, मीडियाकानून और आचार संहिता आदि विषयों में प्रशिक्षण।
  2. व्यावहारिक उपाय: 24/7 हॉटलाइन, सुरक्षित आवास, सुरक्षा निधि, सुरक्षा उपकरण, कानूनी सहायता, आपातकालीन सहायता आदि।
  3. वकालत: हमलों और खतरे के स्तर की निगरानी, अंतरराष्ट्रीय समर्थन का प्रबंध करना, गाइड और हैंडबुक का विकास करना, बेहतर कानूनों के माध्यम से पत्रकारों की सुरक्षा में सरकारों की भागीदारी और पत्रकारों की भूमिका की समझ प्रदान करना, सुरक्षाबलों और मीडिया के बीच संवाद को आगे बढ़ाना, आपसी समझ बढ़ाना आदि।

आपातकालीन स्थानांतरण प्रदान करने वाले संगठन

किसी पत्रकार को अपने कार्यक्षेत्र में खतरा होने पर तत्काल किसी अन्य सुरक्षित स्थान या देश में जाने की आपातकालीन जरूरत पड़ सकती है। यहां उन संगठनों की सूची है, जो अपने काम के कारण खतरे से घिरे पत्रकारों को आपातकालीन स्थानांतरण में मदद करते हैं:

  1. Canadian Journalists for Free Expression (सीजेएफई)
  • इस सहायता के लिए आवेदन करने के लिए, आवेदक को एक पत्रकार होना चाहिए। इसका सत्यापन IFEX के किसी सदस्य द्वारा अथवा आपातकालीन सहायता प्रदान करने वाले किसी संगठन द्वारा होना चाहिए।
  • यह सहायता आमतौर पर 500 से 1500 कनेडियन डॉलर तक होती है।
  • कोई पत्रकार CJFE से अधिकतम दो अलग-अलग अनुदान ले सकता है।
  • सुरक्षित देश में पहुंचने के प्रथम वर्ष के भीतर पुनर्वास लागत की भरपाई हो सकती है।
  • मदद के लिए अंग्रेजी में आवेदन करना होगा।

किन चीजों के लिए वित्तीय सहायता मिलेगी?

  • पत्रकारों को हिरासत में लिए जाने पर कानूनी खर्च।
  • पत्रकार किसी आग की चपेट में आए अथवा कवरेज के दौरान घायल हो जाए, तो चिकित्सा व्यय मिलेगा।
  • खतरनाक स्थिति से भागने के लिए परिवहन का खर्च।
  • मृत या जेल गए पत्रकारों के परिवारों के लिए वित्तीय सहायता।
  • सुरक्षित देश में पहुंचने के प्रथम वर्ष के भीतर पुनर्वास लागत।
  1. Free Press Unlimited (एफपीयू): यह जीवन निर्वाह हेतु आर्थिक मदद प्रदान करता है। यह उन पत्रकारों के लिए अल्पकालिक सहायता है, जो तत्काल काम करने में सक्षम नहीं हैं। अस्थायी रूप से असुरक्षित या कमजोर स्थिति में किसी अन्य सुरक्षित जगह पर शरण लेने का खर्च भी मिल सकता है। यहां आवेदन करें।

किसे मिलेगी सहायता?

इस सहायता के लिए वही पत्रकार आवेदन कर सकते हैं, जो निम्नलिखित आवश्यकताओं को पूरा करते हैं :

  • आप एक मीडिया संगठन हैं या एक कार्यरत मीडिया पेशेवर हैं।
  • आपकी आपातकालीन स्थिति का मुख्य कारण एक मीडिया पेशेवर के रूप में आपका काम है।
  • यह सहायता संरचनात्मक नहीं है बल्कि आकस्मिक और एकमुश्त आधार पर मिलती है।
  • आप मानते हैं कि हमारे समर्थन का उद्देश्य आपके काम को जल्द ही पुनः शुरू कराना है।
  • आपकी स्थिति के बारे में कम से कम दो विश्वसनीय स्रोतों द्वारा सत्यापन कराया जा सकता है।
  1. International Women’s MediaFoundation (आईडब्ल्यूएमएफ): यह किसी संकट में तीन महीने की अस्थायी पुनर्वास सहायता प्रदान करता है। कार्यक्रम के संबंध में अधिक जानकारी यहां मिलगी। आवेदन करने के लिए यहां लिंक है।
  2. Journalisten helfen Journalisten (पत्रकारों की मदद करने वाले पत्रकार: जेएचजे) जर्मन-आधारित संगठनों से स्थानांतरण हेतु मदद के लिए अपना आवेदन ईमेल करें।
  3. Reporter Ohne Grenzen: यह ‘रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स’ की जर्मन शाखा से जुड़ा एक स्थानांतरण कार्यक्रम है। उनसे (kontakt@reporter-ohne-grenzen.de) पर संपर्क करें।
  4. Freedom House  : इसका एक ‘इमरजेन्सी एसिस्टेंस प्रोग्राम’ (an emergency assistance program) है। इससे सहायता पाने और आवेदन जमा करने के बारे में पूछताछ करने के लिए (info@csolifeline.org) पर संपर्क करें।
  5. Front Line Defenders (एफएलडी) : यह अंतर्राष्ट्रीय संगठनों को वित्त पोषित नहीं करता। इसके द्वारा मदद केवल निमंत्रण के आधार पर दी जाती है।
  6.  International Federation of Journalists (आईएफजे) – आईएफजे के सुरक्षा कोष के लिए आवेदन करने के लिए यहां क्लिक करें

क्या आपके पास इसमें जोड़ने के लिए किसी अन्य संगठन या संसाधन का कोई सुझाव है? अगर हां, तो हमें ईमेल करें। हम इस सूची उसे जोड़ देंगे।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

समाचार और विश्लेषण

जब सरकारें प्रेस के खिलाफ हों तब पत्रकार क्या करें: एक संपादक के सुझाव

जिन देशों में प्रेस की आज़ादी पर खतरा बढ़ रहा है, वहां के पत्रकारों के साथ काम करने में भी मदद मिल सकती है। पत्रकारों को स्थानीय या अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संगठनों के साथ गठबंधन बनाकर काम करने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा- “आप जिन भौगोलिक सीमाओं तथा अन्य चुनौतियों का सामना कर रहे हों, उन्हें दरकिनार करने का प्रयास करें।“

Nalbari,,Assam,,India.,18,April,,2019.,An,Indian,Voter,Casts

डेटा पत्रकारिता समाचार और विश्लेषण

भारत में खोजी पत्रकारिता : चुनावी वर्ष में छोटे स्वतंत्र मीडिया संगठनों का बड़ा प्रभाव

भारत में खोजी पत्रकारिता लगभग असंभव होती जा रही है। सरकारी और गैर-सरकारी दोनों प्रकार की ताकतें प्रेस की स्वतंत्रता के प्रति असहिष्णु हो रही हैं। उल्लेखनीय है कि विश्व के 180 देशों के प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत वर्ष 2022 में 150वें स्थान पर था। लेकिन वर्ष 2023 में इससे भी नीचे गिरकर 161वें स्थान पर आ गया।

post office boxes, shell companies

शेल कंपनियों के गुप्त मालिकों का पता कैसे लगाएं?

सहयोगियों ने मध्य पूर्व के एक राजा की विदेशी संपत्तियों की खोज की थी। पता चला कि यूके और यूएस में उस राजा के 14 आलीशान भवन थे। ऐसा गुप्त रूप से टैक्स-हेवन में फ्रंट कंपनियों के नेटवर्क के माध्यम से किया गया था। इस बात की नाटकीय पुष्टि तब हुई, जब एजेंटों द्वारा पंजीकरण दस्तावेजों में गुप्त ग्राहक के घर का पता ‘शाही महल‘ के रूप में दर्ज कराने की जानकारी मिली

Investigating AI Audio Deepfakes

टिपशीट

फर्जी एआई ऑडियो की जांच कैसे करें

एडवांस्ड स्पीच डीपफेक के द्वारा बिल्कुल असली लगने वाले नकली ऑडियो बनाए जा सकते हैं। उसकी सच्चाई को उस व्यक्ति के नजदीकी दोस्त भी नहीं पहचान सकेंगे। ऐसे ऑडियो क्लिप की जांच के लिए विशेषज्ञ और नए उपकरणों की आवश्यकता होती है। अक्सर पत्रकार किसी नेता के बारे में अपने ज्ञान, रिकॉर्डिंग की खराब गुणवत्ता, संदर्भ या सामान्य सामान्य ज्ञान के आधार पर किसी ऑडियो क्लिप में किए गए फर्जीवाड़े को तुरंत पहचान लेते हैं।