रूसी सैनिकों ने वर्ष 2014 में क्रीमिया पर हमला किया था। उस वक्त नकाबपोश बंदूकधारियों ने जीआईजेएन के सदस्य संगठन ‘क्रीमियन सेंटर फॉर इन्वेस्टिगेटिव सेंटर‘ का कार्यालय भी तबाह कर दिया था। इसके कर्मचारियों को तब कीव में स्थानांतरित होना पड़ा। इमेज: स्क्रीनशॉट

मीडिया पर दुनिया भर में कई तरह के खतरे देखे जा रहे हैं। किसी भी तरह की धमकी मिलने पर पत्रकारों को तत्काल अपने घर या सुरक्षित स्थान तक पहुंचना जरूरी होता है। कई मामलों में ऐसे खतरों का पहले से अनुमान लगाया जा सकता है। इसलिए संवेदनशील इलाकों में रिपोर्टिंग के दौरान पत्रकारों को तत्काल सुरक्षित वापस लौटने की योजना तैयार रखनी चाहिए। उनके पास आवश्यक महत्वपूर्ण दस्तावेज भी हमेशा तैयार होने चाहिए। जरूरत पड़ने पर ऐसे दस्तावेज, पत्रकारों को यात्रा करने में मदद करेंगे। उन्हें सुरक्षित किसी क्षेत्र या देश में जाने संबंधी मदद मिल सकती है। आपको कौन-से दस्तावेज तैयार रखने हैं, इसकी यहां हमने एक सूची बनाई है। इसके अलावा पत्रकारों को सुरक्षित स्थानांतरित करने में मदद करने वाले संगठनों की जानकारी भी दी गई है।

इन दस्तावेजों को हमेशा तैयार रखें

  1. नीचे सूचीबद्ध दस्तावेजों की मूल या भौतिक प्रतियां अपने साथ रखें।
  2. सभी दस्तावेजों की तस्वीर लें। उन्हें किसी एन्क्रिप्टेड क्लाउड सेवा Dropbox या Sync.com इत्यादि में सुरक्षित स्टोर कर लें। आप इन्हें अपने परिजनों एवं विदेश में रहने वाले दोस्तों को भी भेज सकते हैं।
  • पासपोर्ट, सरकारी पहचान पत्र। जैसे, भारत में आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस।
  • हर दस्तावेज की समाप्ति तिथि देखें। यदि किसी की तिथि कुछ महीनों में समाप्त होने वाली हो, तो उसका नवीनीकरण करा लें।
  • यदि आपके पास कई पहचान दस्तावेज हैं, तो उन्हें अलग-अलग स्थानों पर रखें ताकि उनमें से एक दस्तावेज गुम होने पर कोई असुविधा न हो।
  • जन्म प्रमाणपत्र – जन्म की तारीख और स्थान को प्रमाणित करने वाला कोई आधिकारिक दस्तावेज।
  • अन्य दस्तावेज – विवाह प्रमाणपत्र, विश्वविद्यालय की डिग्री, डिप्लोमा, स्नातक और उपस्थिति का प्रमाण, ग्रेड, प्रेस कार्ड, पेशेवर प्रमाणपत्र, टीका प्रमाणपत्र।

नीचे बताई जा रही जानकारी से संबंधित दस्तावेज अंग्रेजी भाषा में एक फ़ाइल बनाकर क्लाउड सर्विस और अपने स्मार्टफोन में सुरक्षित रखें, ताकि इसे कॉपी-पेस्ट करके कहीं भी आसानी से भेज सकें।

  • अपना पूरा कानूनी नाम, स्थान और जन्म तिथि।
  • पासपोर्ट संख्या, जारी करने की संख्या और समाप्ति तिथि।
  • वर्तमान पता:  हालांकि ऑनलाइन संदेशों में इसे साझा करने में सावधानी बरतें।
  • ई-मेल पता।
  • फोन नंबर और, यदि भिन्न हो, तो व्हाट्सएप और सिग्नल नंबर।
  • स्थानीय और विदेशी संगठनों में रोजगार का स्थान/रोजगार का प्रमाण।

यदि विदेश में आपका कोई विश्वसनीय मित्र या संपर्क है, तो इनमें से कुछ दस्तावेजों की डिजिटल प्रतियां उनके पास भेजकर सुरक्षित रखने का अनुरोध करें।

व्यक्तिगत दस्तावेज

  • फोटोग्राफ और अन्य ऐसी चीजों की डिजिटल कॉपी बनाएं, जिसे आप महत्वपूर्ण समझते हैं और जिसे आप याद रखना चाहते हैं।
  • सब कुछ किसी भरोसेमंद क्लाउड सर्विस में सुरक्षित रखें।

बचाव के तरीके

  • यदि आपको तत्काल एक आसान, अस्थायी रास्ता चाहिए, तो किसी सुरक्षित देश में पर्यटक वीजा के लिए आवेदन करें।
  • उन अंतरराष्ट्रीय संगठनों से संपर्क करें, जिनके साथ आपने पहले काम किया है। जैसे, कोई मीडिया संगठन, ऑनलाइन पत्रिका। ऐसे समाचार संगठन, जिनके लिए आपने फ्रीलांस रिपोर्टर के रूप में काम किया है, या ऐसे गैर-सरकारी संगठन, जिनके लिए आपने परामर्श दिया है, या जिनके लिए आपने कोई सेवा या कंसलटेंसी उपलब्ध कराई है।
  • जिनके साथ आपने काम किया हो, उनसे अनुभव प्रमाणपत्र मांगें। प्रमाणपत्र अंग्रेज़ी में ही रहें। ऐसे दस्तावेज जिनमें आपके काम का रिकॉर्ड या सबूत हो। जैसे, आपके द्वारा किए गए काम और रोजगार या फ्रीलांसिंग की तारीखों को प्रमाणित करने वाला दस्तावेज। उस पर प्रधान संपादक या मानव संसाधन अधिकारी के हस्ताक्षर हों।
  • उन संगठनों से पूछें कि क्या उनके पास उस देश की सरकार में उच्च स्तर पर मजबूत संबंध हैं? यदि आप उस देश में शरणार्थी की तरह रहने के लिए आवेदन दें, तो क्या इसमें आपको उस संगठन से मदद मिल सकती है?
  • कोई प्रतिकूल स्थिति आने पर आपके मामले में सहायता के लिए इलेक्ट्रॉनिक दस्तावेज उपलब्ध कराने संपर्क व्यक्ति के रूप में आपकी मदद करने हेतु उस संगठन के किसी एक व्यक्ति का नाम मांग लें। ऐसे नॉडल पर्सन का नाम और संपर्क का विवरण मिलने पर आपके लिए आसानी होगी।
  • उन अंतरराष्ट्रीय पेशेवर संगठनों से संपर्क करें, जिनके आप सदस्य हैं। उनसे अपने लिए समर्थन पत्र और सदस्यता या भागीदारी का प्रमाणपत्र हासिल करें।
  • अन्य देशों में शरण लेने और शरणार्थी का दर्जा पाने के लिए उचित रास्ते तलाशें। उन देशों से शुरू करें, जहां आपके परिवार का कोई सदस्य रहता है, जैसे माता-पिता, दादा-दादी, भाई-बहन, पति या पत्नी, बच्चे।
  • यदि आप यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि कहां से शुरू करें, तो उन देशों के दूतावासों से संपर्क कर सकते हैं जिनमें आप रुचि रखते हैं। उनसे यह भी पता लगा सकते हैं कि इसकी प्रक्रिया क्या है।
  • आप किसी ‘शरणार्थी सहायता संगठन‘ से संपर्क कर सकते हैं ताकि अन्य देश में शरणार्थी बनने के लिए कानूनी ढांचे को समझने में आसानी हो।

डिजिटल और शारीरिक सुरक्षा कदम

किन संगठनों से संपर्क करें?

नीचे उन संगठनों की सूची दी गई है, जो पत्रकारिता संबंधी काम के कारण खतरे में पड़े पत्रकारों को आपातकालीन सहायता प्रदान करते हैं:

‘द कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स‘ (Committee to Protect Journalists – सीपीजे): यह फ्रंटलाइन पत्रकारों को सहायता प्रदान करती है। अपने काम के कारण घायल, कैद या भागने के लिए मजबूर पत्रकारों को त्वरित सहायता मिलती है। इनसे संपर्क का सबसे आसान तरीका ईमेल: emergencies@cpj.org है।

‘कैनेडियन जर्नलिस्ट्स फॉर फ्री एक्सप्रेशन‘ (Canadian Journalists for Free Expression – सीजेएफई)  इसके द्वारा इन शर्तों के तहत आर्थिक सहायता दी जाती है:

  • आवेदक एक पत्रकार होना चाहिए, जिसका IFEX member या आपातकालीन सहायता प्रदान करने वाले किसी संगठन द्वारा सत्यापन किया जा सके।
  • इनके द्वारा आमतौर पर 400 से 1200 डॉलर तक सहायता राशि इी जाती है।
  • किसी पत्रकार को सीजेएफई से अधिकतम दो अलग-अलग अनुदान मिल सकते हैं।
  • सीजेएफई केवल अंग्रेजी में आवेदन स्वीकार करता है।

सीजेएफई की वित्तीय सहायता में पत्रकारों को हिरासत में लिए जाने पर कानूनी शुल्क, चिकित्सा व्यय, सुरक्षा के लिए परिवहन लागत, और एक सुरक्षित देश में पुनर्वास में आने वाली लागत जैसे खर्च शामिल हो सकते हैं।

‘फ्री प्रेस अनलिमिटेड'(Free Press Unlimited) यह उन पत्रकारों को अल्पकालिक सहयोग कर सकता है, जो किसी वजह से काम करने में सक्षम नहीं हैं। इसके अलावा, किसी असुरक्षित या कमजोर स्थिति से अस्थायी रूप से भागने के लिए भी आर्थिक सहायता मिल सकती है। आप यहां आवेदन कर सकते हैं। एफपीयू की साइट के अनुसार इसके लिए निम्नलिखित शर्तें हैं:

  • आवेदक कोई मीडिया संगठन या एक पेशेवर मीडियाकर्मी होना चाहिए।
  • आप पर आया संकट एक मीडिया पेशेवर के रूप में आपके काम का नतीजा है।
  • यह सहायता सिर्फ एकमुश्त आकस्मिक आधार पर दी जाती है। यह कोई नियमित मिलने वाली सहायता नहीं है।
  • इस सहयोग का उद्देश्य आपके काम को जल्द-से-जल्द फिर से शुरू कराना है।
  • दो विश्वसनीय स्रोतों के माध्यम से आपके संकट की पुष्टि कराई जा सकती है।

‘फ्रीडम हाउस‘ (Freedom House) यह एक आपातकालीन सहायता कार्यक्रम चलाता है। इसमें आवेदन जमा करने संबंधी पूछताछ के लिए ईमेल द्वारा संपर्क करें (info@csolifeline.org)।

‘इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स‘ (International Federation of Journalists आईएफजे): यह एक सुरक्षा कोष प्रदान करता है, जिसके लिए आप यहां आवेदन कर सकते हैं।

‘इंटरनेशनल मीडिया सपोर्ट‘ (International Media Support आईएमएस): यह एक सुरक्षा पैकेज प्रदान करता है। इसमें 24 घंटे हॉटलाइन, सुरक्षित घर, सुरक्षा निधि, सुरक्षा उपकरण, कानूनी सहायता, आपातकालीन सहायता इत्यादि शामिल है।

‘इंटरनेशनल वुमेन्स मीडिया फाउंडेशन (International Women’s Media Foundation आईडब्ल्यूएमएफ): इसके पास एक आपातकालीन कोष है। यह मनोवैज्ञानिक और चिकित्सा देखभाल, तीन महीने तक अस्थायी पुनर्वास सहायता और कानूनी सहायता प्रदान करता है। आप फंडिंग के लिए यहां आवेदन कर सकते हैं। आपको इन मानदंडों को पूरा करना होगा।

‘जर्नलिस्टन हेल्फेन जर्नलिस्टन (Journalisten helfen Journalisten जर्नलिस्ट्स हेल्पिंग जर्नलिस्ट्स): इस जर्मन-आधारित संगठन से मदद के लिए आवेदन हेतु यहां ईमेल कर सकते हैं : jhjgermany@t-online.de

‘रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स‘ (Reporters Without Borders आरएसएफ):  इससे सहायता पाने के लिए  assistance2@rsf.org पर अनुरोध भेजें या +33 1 4483 8466 पर फोन करें।

  • गाइड टू एक्साइल्ड जर्नलिस्ट्स‘ – निर्वासित पत्रकारों के लिए आरएसएफ की गाइड – इसमें यूएनएचसीआर,यूरोपीय संघ के देशों, अमेरिका और कनाडा में शरण पाने और शरणार्थी प्रक्रिया की जानकारी दी गई है।
  • अपडेट के लिए आरएसएफ के रूसी ट्विटर फीड को फॉलो करें।
  • स्थानांतरण आवेदन बनाने में आपको आरएसएफ की जर्मन शाखा ‘रिपोर्टर ओहने ग्रेनजेन‘ (Reporter Ohne Grenzen) की सहायता मिल सकती है। उनसे संपर्क करने के लिए – kontakt@reporter-ohne-grenzen.de
अंतर्राष्ट्रीय फैलोशिप

यदि आपके पास समय है, तो तनाव कम होने तक अपना देश छोड़ने के लिए इनमें से किसी एक अंतरराष्ट्रीय फेलोशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसमें आपको वीजा प्रक्रिया में मदद के अलावा कुछ सहायता राशि और आवास सुविधा मिल सकती है।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

Data mining workshop scraping website GIJC23

टिपशीट

‘डेटा माइनर’ के जरिए वेबसाइटों से उपयोगी डेटा कैसे निकालें?

Data Miner डाटा निकालने का एक निःशुल्क उपकरण और ब्राउज़र एक्सटेंशन है। यह आपको वेब पेजों को खंगालने और सुरक्षित डेटा को शीघ्रता से एकत्र करने में सक्षम बनाता है। यह स्वचालित रूप से वेब पेजों से डेटा एकत्र करके एक्सेल, सीएसवी, या जेएसओएन प्रारूपों में सेव करता है।

टिपशीट

अपना ख़ुद का न्यूज़ स्टार्टअप स्थापित करने के लिए दस टिप्स

मीडिया संगठनों में प्रबंधन संबंधी कार्यों के लिए किसी प्रोफेशनल प्रशासक के बजाय खबरों का जुनून रखने वाले पत्रकारों को रखा जाता है। जबकि एक पेशेवर प्रशासक (एडमिनिस्ट्रेटर) नियुक्त करना पहला कदम होना चाहिए।

पतनशील लोकतंत्र में कैसे टिके पत्रकारिता? भारत और हंगरी के संपादकों ने बताए पाँच उपाय

भारत में मीडिया संगठनों पर मनी लॉन्ड्रिंग या टैक्स-चोरी जैसे आर्थिक अपराधों के आरोप लगाए जाते हैं। पहले पत्रकारों के खिलाफ मानहानि के आरोपों का इस्तेमाल किया जाता था। उस पारंपरिक न्यायिक रणनीति को बदलकर अब आर्थिक आरोप लगाने का प्रचलन बढ़ा है। अदालतों में धीमी कानूनी प्रक्रिया के कारण यह परेशानी ज्यादा बढ़ जाती है। पत्रकारों के उत्पीड़न का एक तरीका उनकी यात्रा पर प्रतिबंध लगाना है।

Invetigative Agenda for Climate Change Journalism

जलवायु समाचार और विश्लेषण

जलवायु परिवर्तन पत्रकारिता के लिए खोजी एजेंडा

दुनिया भर में हजारों पत्रकार जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव पर रिपोर्टिंग कर रहे हैं। ऐसी पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए कई नेटवर्क स्थापित किए गए हैं। ऐसी पत्रकारिता जनसामान्य को सूचित करने और जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण है। यह सत्ता में बैठे उन लोगों को चुनौती देने के लिए भी जरूरी है, जो पर्यावरण संरक्षण की बात करते हैं, लेकिन वास्तव में पृथ्वी को जला रहे हैं। ऐसी सत्ता की जवाबदेही सुनिश्चित करना ही खोजी पत्रकारिता का मौलिक कार्य है।