आलेख

जीआईजेएन वेबिनार: स्वास्थ्य और जवाबदेही: कोविड संबंधी खरीदी पर इनवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग कैसे करें

इस लेख को पढ़ें

पूरी दुनिया की तरह दक्षिण एशिया ने भी कोविड-19 के गंभीर दुष्परिणाम देखे हैं। 2019 के आखिरी महीनों से आरंभ हुई इस महामारी ने करोड़ों लोगों को बीमार किया है। लाखों लोगों ने अपनी जान गंवाई है।

महामारी के पिछले दो वर्षों में सरकारों के स्वास्थ्य संबंधी खर्चों में बेतहाशा वृद्धि हुई है। सरकारों ने अपने स्वास्थ्य बजट का बहुत बड़ा हिस्सा वैक्सीन खरीदने में लगाया। इसके पहले सैनिटेशन मशीनरी, अस्थाई आइसोलेशन सेंटर, नए ऑक्सीजन प्लांट और इमरजेंसी सेवाओं पर भी बेतहाशा खर्च किया गया है। महामारी से निपटने के लिए काफी बड़ी राशि के कॉन्ट्रैक्ट या टेंडर रातों-रात आवंटित किए गए।

सरकारी धन के व्यय में पारदर्शिता और जवाबदेही होना मूलभूत आवश्यकता है। महामारी के उत्तरार्द्ध में भी सरकारों के स्वास्थ्य बजट में काफी इज़ाफ़ा हुआ है। लिहाजा, पूरी दुनिया के ‘वॉचडॉग’ खासकर खोजी पत्रकारों की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है। उनसे अपेक्षा है कि इस क्षेत्र में यदि कोई अनियमितता अथवा भ्रष्टाचार हो तो उसकी जांच करके समाज के सामने लाएं।

इस जीआईजेएन वेबिनार के माध्यम से दुनिया के तीन वरिष्ठ पत्रकार अपने अनुभव साझा करेंगे। बताएंगे कि इस महत्वपूर्ण क्षेत्र में इन्वेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग किस तरह की जाए। स्वास्थ्य क्षेत्र में अनियमितताओं के भंडाफोड़ के तरीके भी बताएंगे। चूंकि सरकारें स्वास्थ्य मामलों में समुचित पारदर्शी प्रक्रिया नहीं अपनाती हैं, इसलिए इस पर रिपोर्टिंग काफी चुनौतीपूर्ण है।

क्रिसी जाइल्स: यूनाइटेड किंगडम की ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज़्म में ग्लोबल हेल्थ एडिटर हैं। इसके पहले वे विश्व के सबसे बड़े स्वास्थ्य फाउंडेशन Wellcome में Mosaic प्रकाशन की संपादक थीं। विश्वविद्यालय स्तर पर उन्होंने बायोकेमिस्ट्री का अध्ययन किया है। वह इंपीरियल कॉलेज लंदन से विज्ञान संचार में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त कर चुकी हैं।

 

सुप्रिया शर्मा: भारत के प्रमुख डिजिटल समाचार प्लेटफार्म scroll.in की कार्यकारी संपादक और इन्वेस्टिगेटिव रिपोर्टर हैं। उन्होंने अपनी खोजी खबरों के माध्यम से पत्रकारिता जगत में ख्याति अर्जित की है। वह एनडीटीवी और टाइम्स ऑफ इंडिया में काम कर चुकी हैं। भारत के प्रतिष्ठित “रामनाथ गोयनका अवार्ड” और “चमेली देवी जैन पत्रकारिता पुरुस्कार” उन्हें मिल चुके हैं। ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के रायटर्स इंस्टीट्यूट फॉर स्टडी ऑफ जर्नलिज्म की अध्येता रही हैं।

रजनीश भंडारी: नेपाल इन्वेस्टिगेटिव मल्टीमीडिया जर्नलिज्म नेटवर्क के संस्थापक और मुख्य संपादक हैं। वे काठमांडू के जाने-माने खोजी रिपोर्टर, फिल्मकार और पत्रकारिता शिक्षक हैं। समय-समय पर उनके मल्टीमीडिया संबंधित कार्य न्यूयॉर्क टाइम्स, नेशनल ज्योग्राफिक, अल जजीरा, बीबीसी इत्यादि में आते रहे हैं। वे यूरोपियन जर्नलिज़्म सेंटर समर्थित वेबसाइट और जर्नलिस्ट फॉर ट्रांसपेरेंसी में मल्टीमीडिया एडिटर रहे हैं।

                                वेबिनार के सूत्रधार दीपक तिवारी, जीआईजेएन (हिंदी) के संपादक है।

 

वेबिनार से जुड़ने का लिंक ……

दिनांक: 24 मार्च 2022, गुरुवार

समय:

17:30 PM (इस्लामाबाद )
18:00 PM (दिल्ली)
18:15 PM (काठमांडू )
18:30 PM (ढाका)

हमारे भावी कार्यक्रमों और खोजी पत्रकारिता संबंधी लेख इस ट्विटर फ़ीड पर देखें @gijnHin

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

इमेज: मैसूर में एक मतदाता सहायता केंद्र पर जानकारी लेते हुए भारतीय नागरिक, अप्रैल 2024, इमेज - शटरस्टॉक

भारतीय चुनावों में फ़ैक्ट चेकिंग के सबक

लोकतंत्र के मूल्यों को बनाए रखने के लिए तथ्यों के आधार पर मतदाताओं को निर्णय लेने का अवसर मिलना आवश्यक है। इसके लिए ‘शक्ति‘ – इंडिया इलेक्शन फैक्ट चेकिंग कलेक्टिव का निर्माण किया गया। इस प्रोजेक्ट में गूगल न्यूज इनीशिएटिव की मदद मिली। इस पहल का नेतृत्व डेटालीड्स ने किया। इसके साझेदारों में मिस-इनफॉर्मेशन कॉम्बैट एलायंस (एमसीए), बूम, द क्विंट, विश्वास न्यूज, फैक्टली, न्यूजचेकर तथा अन्य प्रमुख फैक्ट चेकिंग (तथ्य-जांच) संगठन शामिल थे। इंडिया टुडे और प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) जैसे मीडिया संस्थानों ने भी इसमें भागीदारी निभाई।

Recorder panel at IJF24

रिकॉर्डर : रोमानिया में स्वतंत्र मीडिया का अनोखा राजस्व मॉडल

रिकॉर्डर को वर्ष 2017 में एक विज्ञापन राजस्व मॉडल की योजना के साथ लॉन्च किया गया था। अब इसकी 90 प्रतिशत आय दर्शकों से आती है। यह रोमानिया का एक स्वतंत्र खोजी मीडिया संगठन है। वीडियो और वृत्तचित्रों में इसकी विशेषज्ञता है।

समाचार और विश्लेषण

जब सरकारें प्रेस के खिलाफ हों तब पत्रकार क्या करें: एक संपादक के सुझाव

जिन देशों में प्रेस की आज़ादी पर खतरा बढ़ रहा है, वहां के पत्रकारों के साथ काम करने में भी मदद मिल सकती है। पत्रकारों को स्थानीय या अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संगठनों के साथ गठबंधन बनाकर काम करने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा- “आप जिन भौगोलिक सीमाओं तथा अन्य चुनौतियों का सामना कर रहे हों, उन्हें दरकिनार करने का प्रयास करें।“

Nalbari,,Assam,,India.,18,April,,2019.,An,Indian,Voter,Casts

डेटा पत्रकारिता समाचार और विश्लेषण

भारत में खोजी पत्रकारिता : चुनावी वर्ष में छोटे स्वतंत्र मीडिया संगठनों का बड़ा प्रभाव

भारत में खोजी पत्रकारिता लगभग असंभव होती जा रही है। सरकारी और गैर-सरकारी दोनों प्रकार की ताकतें प्रेस की स्वतंत्रता के प्रति असहिष्णु हो रही हैं। उल्लेखनीय है कि विश्व के 180 देशों के प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत वर्ष 2022 में 150वें स्थान पर था। लेकिन वर्ष 2023 में इससे भी नीचे गिरकर 161वें स्थान पर आ गया।