पत्रकार कैसे बचें क़ानूनी झंझटों और मुक़दमों से: जीआईजेएन गाइड

Print More

चेतावनी: इस लेख में दी गई जानकारी कानूनी सलाह नहीं है और इसे कानूनी सलाह के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। इस दस्तावेज़ में जानकारी केवल मार्गदर्शन के उद्देश्य से प्रदान की गई है।

मीडिया की आजादी किस हद तक खतरे में है इसके संकेत पिछले 12 महीनों में मिले हैं। वैश्विक महामारी कोरोना के चलते पिछले दिनों में ऐसे खतरों में तेजी सी आई है। ऐसे में गलत सूचनाओं से निपटने की आड़ में अधिनायकवादी शासकों ने दमनकारी कानूनी उपायों का सहारा लिया है। ऑनलाइन जानकारी को नियंत्रित करने के लिए नवीन तरीकों का उपयोग किया जा रहा है जिससे पत्रकारिता पर सरकारों का दबाब बना रहे। पत्रकार लगातार हिंसा के शिकार हो रहे हैं और उनकी मनचाहे ढंग से गुप्त निगरानी की जा रही है। पत्रकारों पर इन हमलों के लिए अक्सर कोई जवाबदेही नहीं होती है, जबकि पत्रकारों के खिलाफ पुलिस या सुरक्षा बलों के लोग या राजनेता षड्यंत्रपूर्वक हिंसा और दबाने का कार्य करते हैं।

इन दिनों पत्रकार भी आधारहीन मुकदमों का लगातार सामना कर रहे हैं। यह  SLAPPs (Strategic Lawsuits Against Public Participation) मुकदमे पत्रकारों और अन्य ऐसे लोगों पर नकेल कसने लादे गये हैं जो शक्तिशाली व्यक्तियों या ताकतवर कम्पनियों या व्यापारियों के व्यवहार पर आलोचनात्मक टिप्पणियां करते हैं। एक पत्रकार या मानवाधिकार रक्षक पर मुकदमे दबाव डालने के लिए लाए जाते हैं, न कि अधिकार को साबित करने के लिए और यह प्रायः बेकार, तुच्छ या अतिरंजित दावों पर आधारित होते हैं। स्वतंत्र पत्रकारिता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए एक और चुनौती सरकारों द्वारा ऑनलाइन सूचना पर पाबंदी लगाने की कोशिशें हैं। कठोर और दमनकारी माहौल को लागू करने के लिए इंटरनेट को नियंत्रित या समय समय पर बंद किया जाता है। कई देश अलग-अलग तरीकों से ऑनलाइन अभिव्यक्ति पर तेजी से नकेल कस रहे हैं। कई देशो के भीतर अलग अलग क्षेत्रों में इंटरनेट को अत्यधिक नियंत्रित किया जा रहा है। इसमें इंटरनेट को या तो समय-समय पर अवरुद्ध किया जाता है या फिर वेबसाइटों को फ़िल्टरिंग के माध्यम से नियंत्रित किया जाता है।

इस समय स्वतंत्र पत्रकारिता को गम्भीर चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। पत्रकारिता के माध्यम से जीविका चलाने में मुश्किलें हो रही हैं क्योकि सत्ताधारी लोग कठिन क़ानूनों को ज़बरदस्ती थोप रहे हैं। ऐसी चुनौतियों से निपटने के लिए पत्रकार अंतरराष्ट्रीय कानून द्वारा प्रदान की गई सुरक्षा को जानकर उसका लाभ उठा सकते हैं। निम्नांकित दिशानिर्देशों में यह जानकारी दी गई है कि किस तरह अंतरराष्ट्रीय क़ानूनी मानकों का एक सामान्य अवलोकन पत्रकारों को उन ख़तरों से बचा सकता है जिनका उन्हें आमतौर पर सामना करना पड़ता है। ये दिशानिर्देश एक पत्रकार के रूप में आपको रोजमर्रा के कानूनी खतरों को रोकने, कम करने और खुद को बचाने के तरीके के बारे में सलाह देते हैं।

मानहानि

मानहानि एक सामान्य कानूनी शब्द है जिसे मोटे तौर पर एक झूठे बयान के प्रसार के रूप में समझा जाता है जो किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाता है। इन्टरनेशनल ह्युमन राइट्स लॉ के अंतर्गत मानहानि को किसी व्यक्ति के “सम्मान और प्रतिष्ठा” पर “गैरकानूनी हमलों” से सुरक्षा के कवच के रूप में समझा जा सकता है। प्रत्येक देश या उसके क़ानूनी क्षेत्राधिकार में मानहानि कानून अलग होता है। यही कारण है कि किसी भी मानहानि के दावे का बचाव करने में पहला कदम स्थानीय क्षेत्राधिकार का निर्धारण करना और स्थानीय कानून के अनुरूप सलाह लेना शामिल है।

मानहानि से बचने या उससे नुक़सान कम करने की युक्तियाँ

वैसे तो पत्रकार कानूनी जोखिम को पूरी तरह से कम नहीं कर सकते हैं किन्तु नीचे दिए कुछ बिन्दुओ में ऐसे व्यवहारिक सुझाव शामिल हैं जो मानहानि के लिए उत्तरदायी पाए जाने की संभावना को कम करने में उपयोगी साबित होने चाहिए:

  • अच्छे पत्रकारिता सिद्धांतों का पालन करें। आप जो भी प्रकाशित करते हैं, उसमें पूरी तरह, निष्पक्ष और सटीक रहें, अपने स्रोतों और उद्धरणों को ध्यान से देखें, संभव हो बातचीत को सहमति के साथ रिकॉर्ड करें और वाक्यांशों को इस तरह से न बनाएं कि अर्थ का अनर्थ हो जाये। इसके अलावा, साक्षात्कार के विषय को अक्षरशः ज्यो का त्यों ही प्रस्तुत करे। साक्षात्कार की रिकॉर्डिंग या फोन कॉल सुरक्षित रखे और विश्वसनीय स्रोतों का उपयोग करें। Recording Phone Calls and Conversations और Journalism Skills and Principles के सिद्धांत देखें।
  • आप वही कहें जो आप जानते हैं और जो आप साबित कर सकते हैं। आप जो कह रहे हैं उससे अवगत रहें बयानों की सटीकता को नियंत्रित करें और अस्पष्टता से बचें।
  • अपने शोध और अन्य दस्तावेजों का रिकॉर्ड रखें। यदि आप किसी व्यवसाय या व्यक्ति के बारे में संभावित रूप से आलोचनात्मक या हंगामाखेज बयान देने जा रहे हैं, तो आपको यह साबित करने में सक्षम होना चाहिए कि आपका कथन सत्य है और तथ्यों पर आधारित है, इसलिए जहां भी संभव हो सबूत इकट्ठा करें
  • यदि रिकॉर्ड रखने के लिए ऑडियो या वीडियो की ज़रूरत है तो यह महत्वपूर्ण है कि आप लिखित रूप में उसकी स्पष्ट सहमति प्राप्त करें।
  • हमेशा अपने तथ्यों की जांच करें और विश्वसनीय स्रोतों का उपयोग करें। बिना तथ्यों के यह न मानें कि कहीं और लिखी गई बात सच है।
  • याद रखें कि आप मानहानिकारक बयान के पुनर्प्रकाशन के लिए उत्तरदायी हो सकते हैं। इसलिए जब बार-बार आरोप लगाने की बात हो तो सावधानी से चलें। भले ही आप किसी संभावित मानहानिकारक ट्वीट को सामान्य रूप से री-ट्वीट करते हैं तब भी आप पर मुकदमा होने का जोखिम है।
  • अगर आप किसी चीज़ पर अपनी राय दे रहे हैं, तो यह स्पष्ट कर दें कि यह आपका व्यक्तिपरक मूल्यांकन है और इसे अच्छी भावना के साथ प्रस्तुत किया गया है।
  • यदि आप जानते हैं कि आप जो लिख रहे हैं वह मानहानिकारक है, तो जांच लें कि आपको उस पर रिपोर्ट करने का अधिकार है या नहीं। कुछ विषय हैं जिन पर आपको रिपोर्ट करने का अधिकार है, भले ही वह मानहानिकारक हो या नहीं।
  • लेकिन इस बात से अवगत रहें कि मानहानि और मानहानि कानून देश के अनुसार अलग-अलग होते हैं और ब्रिटेन की कानूनी प्रणाली विशेष रूप से प्रेस के खिलाफ मानहानि के मुकदमों के प्रति सहानुभूति रखती है।
  • मानहानि के मुकदमे अधिक समय तक चलने वाले और खर्चीले होते हैं। ऐसे में अगर आप कोई मामला जीत भी जाते हैं तो भी अपना बचाव करने की लागत बहुत बड़ी हो सकती है। अतः मामले में आने वाले खर्चे को जानें और अपने भविष्य की सुरक्षा के लिए प्रोफ़ेशनल  इन्डेमनिटी या लायबिलिटी इन्शुरन्स पर विचार करें – खासकर यदि आप एक फ्रीलांसर हैं।

स्रोत का संरक्षण

गोपनीय स्रोतों या व्हिसलब्लोअर के बिना खोजी पत्रकारिता के बहुत से कार्य असम्भव होते हैं। ऐसे व्यक्तियों को जो जनहित में जानकारी देते हैं उन्हें शारीरिक, आर्थिक या जनता के प्रतिशोध से बचाने के लिए गुप्त रखने की आवश्यकता हो सकती है। पत्रकारों को अपने गोपनीय स्रोतों की पहचान का खुलासा नहीं करने के लिए विश्व स्तर पर कुछ नैतिक सिद्धांत और दायित्व स्थापित किए हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर “वाचडॉग” या “जवाबदेही” पत्रकारिता को आसान बनाने में गोपनीय स्रोतों द्वारा निभाए जाने वाले महत्वपूर्ण कार्य की मान्यता में, स्रोत संरक्षण की एक मजबूत कानूनी परंपरा भी है।स्रोतों की जानकारी उजागर करने से सूचना प्रदान करने की स्वतंत्र धारा में बाधा पहुंचती है साथ ही अभिव्यक्ति और मीडिया की स्वतंत्रता पर भी मौन प्रभाव पड़ता है।

गोपनीय स्रोतों के सार्वजनिक होने के जोखिम से कैसे बचें या कम करें

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए डिजिटल सुरक्षा एक मूलभूत चिंता है। आज के डिजिटल युग में व्हिसलब्लोअर के साथ काम करने वाले पत्रकारों के लिए डिजिटल निगरानी के वातावरण में गोपनीय स्रोतों की सुरक्षा के लिए कुछ सर्वोत्तम प्रथाओं को पालन करना होता है। Perugia Principles for Journalists Working with Whistleblowers in the Digital Age के मुताबिक़ ये कुछ सूत्र स्रोतों की सुरक्षा के लिए उपयोगी हो सकते हैं:

  • अपने सूत्रों को हर प्रकार से सरंक्षण करके सुरक्षित रखें। पूछे जाने पर गुप्त सूत्रों का बचाव करें।
  • सूत्रों को आपसे सम्पर्क करने में सुरक्षित तरीके प्रदान करके मदद करे।
  • संभावित व्हिसलब्लोअर्स को अज्ञात और गुप्त माधयमों का उपयोग करके आपसे संपर्क करने के तरीकों और उनसे जुड़े जोखिमों को समझाने में मदद करें।
  • अपनी डिजिटल सुरक्षा की जिम्मेदारी लें और कूटरचित भाषा का उपयोग करें।
  • स्वयं और अपने सूत्र के लिए सबसे बड़े खतरों को समझें और दोनों की सुरक्षा के लिए आपको कौन से खास कदम उठाने की आवश्यकता है वह करें।
  • खबरों में डेटासेट के महत्व को पहचानते हुए, जहां संभव हो और सुरक्षित रूप से मूल दस्तावेज़ और डेटासेट प्रकाशित करें।
  • नैतिक, कानूनी और नियोक्ता दायित्वों के अनुरूप गोपनीय सूत्रों की रक्षा के लिए, पूछे जाने पर स्रोतों द्वारा प्रदान किए गए डेटा को सुरक्षित रूप से हटा दें।
  • गोपनीय सूत्रों और व्हिसलब्लोअर की सुरक्षा के लिए अंतरराष्ट्रीय,राष्ट्रीय और क्षेत्रीय कानूनी और नियामक ढांचे को समझें।

डिजिटल मीडिया लॉ प्रोजेक्ट निम्न बिन्दुओं की भी सलाह देता है:

  • गोपनीयता का वादा करने के बारे में तटस्थ रहें: अपने सूत्रों से गोपनीयता का वादा करने से आपको और आपके सूत्रों को लाभ मिल सकता है, लेकिन आपको वादा तभी करना चाहिए जब आपने लाभों और कमियों को ध्यान से आंकलन कर लिया हो।
  • शोध करें कि क्या आप अपने स्रोतों और अप्रकाशित जानकारी की सुरक्षा के लिए “पत्रकारिता विशेषाधिकार” का दावा कर सकते हैं: कुछ क्षेत्राधिकार “पत्रकारों” के लिए सुरक्षा प्रदान करते हैं जो इस जानकारी का अनुरोध करने वाले सम्मन या कानूनी मांग प्राप्त करते हैं।
  • विचार करें कि आप अपना काम कहां प्रकाशित करते हैं: जहां आप अपना काम प्रकाशित करते हैं, वहां आपके स्रोतों और समाचार एकत्र करने की जानकारी की सुरक्षा करने की आपकी क्षमता पर प्रभाव पड़ सकता है।

साइबर अपराध और उत्पीड़न का शिकार होने पर

पत्रकारों के सामने डिजिटल वातावरण मं कई चुनौतियाँ इस बात से संबंधित हैं कि कैसे नई तकनीकों को प्रभावी तरीके से इस्तेमाल और उपयोग किया जाए, साथ ही डेटा शोषण पर कैसे निगरानी रखी जाये। पत्रकारों को नियमित रूप से ऑनलाइन उत्पीड़न, समन्वित ऑनलाइन मानहानि अभियान, फ़िशिंग हमले, नकली डोमेन हमले, मैन-इन-द-मिडिल man-in-the-middle (MitM) हमले, और डिस्ट्रीब्यूटेड डिनायल-ऑफ-सर्विस (DDoS) लक्ष्यीकरण जैसे कई डिजिटल खतरों का सामना करना पड़ता है।राज्य संस्थानों की आलोचना करने वाले पत्रकारों को चुप कराने, डराने, धमकाने और बदनाम करने के लिए “ट्रोल आर्मी” का तेजी से इस्तेमाल किया जा रहा है।कमजोर न्यायपालिकाओं के कारण या शक्तिशाली संस्थाओं या स्वयं राज्य के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी के कारण प्रेस के खिलाफ हिंसा के अपराधियों पर मुकदमा चलाने के लिए कई कानूनी प्रणालियां धीमी या अक्षम हैं। न्यायिक स्वतंत्रता की यह कमी स्थानीय अदालतों के माध्यम से जवाबदेही को बहुत कठिन बना देती है।

साइबर क्राइम क्या है?

“साइबर अपराध” की कोई सटीक, सार्वभौमिक परिभाषा नहीं है, हालांकि अंतर्राष्ट्रीय संगठन आमतौर पर इस शब्द का उपयोग कंप्यूटर नेटवर्क या इंटरनेट के उपयोग के माध्यम से किए गए अपराध को संदर्भित करने के लिए करते हैं। इसमें आतंकवादी गतिविधियों और इंटरनेट की मदद से की गई जासूसी और कंप्यूटर सिस्टम में अवैध हैकिंग, सामग्री से संबंधित अपराध, डेटा की चोरी और हेरफेर, और साइबरस्टॉकिंग सहित गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल हो सकती है।

साइबर अपराध के प्रकार

  • डेटा गोपनीयता उल्लंघन

सीमा पार डेटा प्रवाह की मात्रा सहित डेटा का उपयोग हर साल बढ़ रहा है, खासकर व्यक्तिगत डेटा के संबंध में। हालांकि, व्यक्तिगत जानकारी के संग्रह और प्रसंस्करण के लिए पर्याप्त विनियमन की कमी है, जिसके महत्वपूर्ण प्रभाव हो सकते हैं, जिससे डेटा सुरक्षा नियम महत्वपूर्ण हो जाते हैं। General Data Protection Regulation of the European Union (GDPR) ) के सामान्य डेटा संरक्षण विनियमन के अनुसार, व्यक्तिगत डेटा उल्लंघन “सुरक्षा का उल्लंघन है जो आकस्मिक या गैरकानूनी विनाश, हानि, परिवर्तन, अनधिकृत प्रकटीकरण, या व्यक्तिगत डेटा को प्रेषित, संग्रहित या एक्सेस करने के लिए अग्रणी है या संसाधित है। ”

  • ऑनलाइन भाषण का अपराधीकरण

साइबर अपराध कानून आमतौर पर ऑनलाइन पोस्ट की गई अवैध या हानिकारक सामग्री की एक विस्तृत श्रृंखला से निपटने का प्रयास करता है। इसमें आतंकवादी प्रचार, नस्लवादी सामग्री, अभद्र भाषा, यौन रूप से स्पष्ट सामग्री (जैसे कि चाइल्ड पोर्नोग्राफ़ी), ईशनिंदा सामग्री, राज्यों और उनके संस्थानों की आलोचनात्मक सामग्री और बौद्धिक संपदा अधिकार धारकों द्वारा अनधिकृत सामग्री शामिल हो सकती है।

  • ऑनलाइन दुर्व्यवहार, साइबरस्टॉकिंग और साइबरबुलिंग

साइबरस्टॉकिंग और DDoS हमलों से लेकर डॉक्सिंग और ऑनलाइन यौन उत्पीड़न तक विभिन्न प्रकार के ऑनलाइन उत्पीड़न हैं। साइबरस्टॉकिंग टेक्स्ट संदेशों, फोन कॉल्स या सोशल मीडिया के माध्यम से ऑनलाइन अनुचित उत्पीड़न और धमकी है, और यह उस आनंद को गंभीर रूप से प्रतिबंधित करता है जो व्यक्तियों के पास उनके अधिकार ऑनलाइन हैं, विशेष रूप से कमजोर और हाशिए के समूहों में। शोध से पता चला है कि ऑनलाइन उत्पीड़न अक्सर व्यक्तिगत या शारीरिक विशेषताओं पर केंद्रित होता है, विशेष रूप से कमजोर और हाशिए के समूहों में, जिनमें यौन अल्पसंख्यक और महिलाएं शामिल हैं, जो पुरुषों की तुलना में बहुत अधिक स्तरों पर ऑनलाइन उत्पीड़न के यौन रूपों का सामना करती हैं। एक अन्य ऑनलाइन उत्पीड़न प्रवृत्ति में तथाकथित साइबर धमकी शामिल है, जो अक्सर सोशल मीडिया के माध्यम से घृणित, डराने वाले या धमकी भरे संदेश भेजना है।

साइबर अपराध के जोखिम से बचने या कम करने के लिए युक्तियाँ

मीडिया डिफेंस ने महिला पत्रकारों को ऑनलाइन अपनी सुरक्षा के लिए व्यवहारिक बिंदु सुझाए हैं:

  • विशिष्ट मुद्दों पर समन्वित ट्रोल हमलों से बचने के लिए, सोशल मीडिया पर आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले हैशटैग से सावधान रहें।
  • सोशल मीडिया पर लाइव लोकेशन डेटा साझा न करें — जब आप दृश्य छोड़ दें या अपनी रिपोर्टिंग समाप्त कर लें, तब यह बताना सुरक्षित है कि आप कहां थे।
  • जब धमकियां स्पष्ट हो जाएं, तो उन्हें अपने सहकर्मियों, संपादक, या प्रबंधन के साथ साझा करें, और अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रक्रियाओं को स्थापित करने के लिए उनके साथ काम करें।
  • आप जो अनुभव कर रहे हैं उसके भावनात्मक प्रभाव को संसाधित करने के लिए अपने आप को स्थान दें — मित्रों, सहकर्मियों, या किसी पेशेवर से बात करें जो आपकी सहायता कर सकता है।
  • खतरे या हमले की रिपोर्ट उस प्लेटफॉर्म पर करने पर विचार करें, जिस पर इसे भेजा गया था, खासकर अगर यह सेवा की शर्तों या आचार संहिता का स्पष्ट रूप से उल्लंघन करता है।
  • अपने मीडिया संगठन को उत्पीड़न के बारे में कर्मचारियों को शिक्षित करने और इस पर बात करने के लिए एक प्रोटोकॉल स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित करें।
  • अधिक जानकारी के लिए IWMF और TrollBusters के संसाधनों की समीक्षा करें।

अंतरंग तस्वीरों के गैर-सहमति से प्रसार के मामले में Media Defence की मीडिया सुरक्षा गाइड आगे इन चरणों का पालन करने की सिफारिश करती है:

  • अपराध का स्थायी दस्तावेजीकरण सुनिश्चित करने के लिए ऑनलाइन पोस्ट की गई सामग्री का रिकॉर्ड (और प्रतियां) बनाएं। इसमें वह तारीख शामिल होनी चाहिए, जिस तारीख को सामग्री पोस्ट की गई थी, जहां इसे पोस्ट किया गया था और इसे किसने पोस्ट किया था। ऐसा करने का स्क्रीनशॉट एक उपयोगी तरीका है।
  • मनोवैज्ञानिक, सामाजिक और कानूनी सहायता लें।
  • पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करें। भले ही आपके देश में अंतरंग तस्वीरों के गैर-सहमति के प्रसार के लिए कोई विशिष्ट प्रावधान न हो, एक अपराध मौजूदा आपराधिक कानून के भीतर स्थित हो सकता है।
  • उस मंच के साथ एक रिपोर्ट दर्ज करें जिस पर सामग्री पोस्ट की गई थी। प्लेटफ़ॉर्म पर आपकी रिपोर्ट में पुलिस रिपोर्ट की एक प्रति शामिल करने में भी मदद मिल सकती है।

स्पाइवेयर और डिजिटल निगरानी

पत्रकार तेजी से निगरानी और जासूसी के अधीन होते जा रहे हैं जिसमें मालवेयर, स्पाइवेयर (जैसा कि हाल ही में पेगासस स्कैंडल में देखा गया है), चेहरे की पहचान सॉफ्टवेयर, और सोशल मीडिया मॉनिटरिंग जैसे अन्य उपकरणों का लक्षित उपयोग शामिल हो सकता है। निगरानी और निगरानी का इस्तेमाल अक्सर पत्रकारों को चुप कराने के लिए डराने-धमकाने के औजार के रूप में किया जाता है। इस तरह की प्रथाओं के अधीन होने के डर का अभिव्यक्ति पर एक गम्भीर प्रभाव पड़ता है और इसके परिणामस्वरूप आत्म-सेंसरशिप भी हो सकती है। एन्क्रिप्शन और गुमनामी जैसे एनोंइमिटी टूल्स पर शिकंजा कसने के लिए राज्यों और सरकारों द्वारा किए गए उपाय भी पत्रकारों की सुरक्षित और स्वतंत्र रूप से रिपोर्ट करने की क्षमता को कम कर रहे हैं, क्योंकि वे प्रेस को जानकारी तक पहुंचने और निगरानी से बचने के लिए सेंसरशिप को रोकने की अनुमति देते हैं।

निगरानी से बचने/न्यूनतम करने के लिए युक्तियाँ

निगरानी सुरक्षा उपाय

छवि: शटरस्टॉक

मीडिया डिफेंस ने प्राइवेसी इंटरनेशनल के 10 व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त सिद्धांतों को संक्षेप में प्रस्तुत किया है जो सरकारों द्वारा लागू किए गए निगरानी व्यवस्थाओं के कारण होने वाले नुकसान को सीमित करते हैं। ये सिद्धांत एक ढांचा प्रदान करते हैं जिसका उद्देश्य मौलिक अधिकारों को बनाए रखना है और आदर्श रूप से, घरेलू कानून के साथ मिलकर काम करता है जो डिजिटल अवरोधन को पर्याप्त रूप से प्रतिबंधित करेगा। संदर्भ का एक व्यापक स्रोत ARTICLE 19 की रिपोर्ट Global Principles on Protection of Freedom of Expression and Privacy है।

सामान्य डिजिटल सुरक्षा के लिए सुझाव

वे पत्रकार जिनकी निगरानी की जा सकती है, उन्हें सर्वोत्तम प्रथाओं का पालन करना चाहिए और सूचना सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए।

  • सावधान रहें और उस जानकारी को चुनें जिसे आप स्वेच्छा से ऑनलाइन साझा करते हैं। अपने स्वयं के व्यक्तिगत लॉगिन, पासवर्ड और संपर्क जानकारी के साथ-साथ अपने स्रोतों की सावधानीपूर्वक सुरक्षा करें। असुरक्षित पब्लिक वाईफाई के इस्तेमाल से बचें।
  • अपरिचित या असुरक्षित वेबसाइटों पर न जाएं – विशेष रूप से ऐसी किसी भी वेबसाइट से सावधान रहें जो सुरक्षित “https://” प्रोटोकॉल का उपयोग नहीं करती हैं। (अपने ब्राउज़र के वेब एड्रेस बार में पैडलॉक आइकन देखें।)
  • जहां तक संभव हो, सिग्नल या टेलीग्राम जैसे एन्क्रिप्टेड चैनलों के माध्यम से संवाद करें।
  • अपने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर मजबूत पासवर्ड का उपयोग करें, और एक से अधिक एकाउंट के लिए एक ही पासवर्ड का उपयोग न करने के बारे में सुनिश्चित रहे । अपने पासवर्ड को बार-बार अपडेट करें। जब भी संभव हो, अपने डिवाइस को सुरक्षित करें और अपनी लोकेशन सर्विस को डिसेबल करें।

The Committee to Protect Journalists (CPJ) इन अतिरिक्त कदमों की सिफारिश करती है:

  • डिवाइस, ऐप्स और ब्राउज़रों को नियमित रूप से अपडेट करें।
  • फ़िशिंग या स्पूफ़िंग हमलों से सावधान रहें — ऐसे संदेश जो किसी विश्वसनीय स्रोत से आते हैं, लेकिन आपको धोखा देने की कोशिश कर रहे हैं, जो व्हाट्सएप समूहों, सोशल मीडिया संदेशों, ईमेल या एसएमएस के माध्यम से भेजे जा सकते हैं। किसी भी एम्बेडेड लिंक पर क्लिक करने से बचें; इसके बजाय, एक सर्च इंजन के माध्यम से या भेजने वाले को सीधे सार्वजनिक रूप से प्रकाशित नंबर पर कॉल करके जानकारी को सत्यापित करें।
  • न्यूज़रूम आईटी टीमों को डीडीओएस हमलों से बचाने के लिए वेबसाइटों पर सुरक्षा बढ़ानी चाहिए, साथ ही वेब एप्लिकेशन फायरवॉल को तैनात करना चाहिए और अतिरिक्त सर्वर क्षमता सुनिश्चित करनी चाहिए।
  • समीक्षा करें कि आपके फोन, लैपटॉप, या आपके सोशल मीडिया खातों पर कौन सी जानकारी है। बैकअप लें और फिर उन दस्तावेज़ों, फ़ोटो, वीडियो और अन्य सामग्री को हटा दें जिनमें आपके, आपके परिवार या आपके स्रोतों के बारे में व्यक्तिगत जानकारी शामिल है।
  • अपने सेल फोन को अनलॉक करने के लिए टच आईडी या फेशियल रिकग्निशन जैसे बायोमेट्रिक्स को सक्षम करने के लिए सावधानी से मूल्यांकन करें, क्योंकि इनका उपयोग कानून प्रवर्तन द्वारा डेटा और स्रोत की जानकारी में अनैच्छिक रूप से प्रवेश प्राप्त करने के लिए किया जा सकता है।
  • अपने खातों से लॉग आउट करें और ब्राउज़िंग हिस्ट्री हटाएं।
  • विभिन्न सर्च इंजनों का उपयोग करके अपना नाम सर्च करें और किसी भी स्रोत डेटा को हटा दें जिसे आप पब्लिक डोमेन में नहीं चाहते हैं।
  • बढ़ी हुई ट्रोलिंग गतिविधि के संकेतों के लिए अपने एकाउंट की निगरानी करें।
  • ऑनलाइन उत्पीड़न के जोखिमों और लहर प्रभावों के बारे में परिवार और दोस्तों से बात करें। ऑनलाइन अपशब्द कहने वाले अक्सर पत्रकारों के बारे में रिश्तेदारों और सोशल सर्कल के सोशल मीडिया अकाउंट्स के जरिए जानकारी हासिल करते हैं।
  • वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) का उपयोग करें। यदि आप अपने इंटरनेट सेवा प्रदाता के बारे में चिंतित हैं जो आपकी ऑनलाइन गतिविधि को ट्रैक कर रहा है, खासकर यदि आप संवेदनशील शोध कर रहे हैं। ध्यान रखें कि एक वीपीएन सेवा आपकी इंटरनेट गतिविधि को भी रिकॉर्ड कर सकती है, इसलिए सबसे अच्छी वीपीएन सेवा पर शोध करें।

झूठे आरोपों पर गिरफ्तारी के जोखिम का सामना करना

पत्रकारों पर झूठे आरोपों के आधार पर अवैध गतिविधियों का आरोप लगाया जा सकता है, जिससे आपराधिक सजा हो सकती है। जैसा कि OSCE Safety of Journalist Guidebook नोट करता है, इस रणनीति को सार्वजनिक हित के मामलों पर रिपोर्टिंग को दबाने के लिए तैनात किया गया है, खासकर जब यह रिपोर्टिंग राज्य, सार्वजनिक आंकड़ों या मजबूत प्रभाव वाले संगठित समूहों को कमजोर करती है। कुछ पत्रकारों को मनमाने और झूठे आरोपों में गैरकानूनी रूप से कैद किया जाता है; कई और लोगों को हिरासत में लिया जाता है, कभी-कभी लंबी अवधि के लिए बिना किसी आरोप के या पूर्व-परीक्षण निरोध में।

झूठे आरोप या गिरफ्तारी से बचने के लिए टिप्स

अनुचित रूप से हिरासत में लिए जाने या ट्रम्प-अप आरोपों के लिए दोषी ठहराए जाने का जोखिम एक गतिशील अवधारणा है जो समय के साथ बदलती है और खतरों, कमजोरियों और क्षमताओं की प्रकृति में बदलाव के साथ बदलती है। इसका मतलब है कि जोखिम का समय-समय पर आकलन किया जाना चाहिए, खासकर अगर आपके काम करने का माहौल या सुरक्षा की स्थिति बदलती है। जोखिम को स्वीकार्य स्तर तक कम करने के लिए, Reporters Without Borders Safety Guide पत्रकारों को निम्न सिफारिश करती है:

  • अतिसंवेदनशील कारकों को कम करें। यह स्थान को लेकर फोन या नेटवर्क को लेकर हो सकती है
  • सुरक्षा क्षमता बढ़ाएँ: क्षमताएँ वे शक्तियाँ और संसाधन हैं जिन्हें एक समूह या रक्षक सुरक्षा की एक उचित डिग्री प्राप्त करने के लिए उपयोग कर सकते हैं। सुरक्षा या कानूनी मुद्दों में प्रशिक्षण, एक टीम के रूप में एक साथ काम करने वाला समूह, साथ ही एक फोन और सुरक्षित परिवहन तक पहुंच सुनिश्चित करना, रक्षकों के अच्छे नेटवर्क और डर से निपटने के लिए एक उचित रणनीति, क्षमताओं के उदाहरण हैं।

इसके अतिरिक्त, SEEMO Safety Net Manual निम्नलिखित का सुझाव देता है:

  • यदि आप दबाव में हैं या बाहरी खतरों का सामना कर रहे हैं, लेकिन इसे सार्वजनिक रूप से साबित नहीं कर सकते हैं, तब भी इसके बारे में पत्रकार मंडलियों में प्रचार करें।
  • दबाव का कोई भी सबूत — एसएमएस या ईमेल संदेश, दस्तावेज़, और ऑडियो या वीडियो क्लिप — सुरक्षित स्थान पर रखें, और इसे उन लोगों के साथ साझा करें जिन पर आप भरोसा करते हैं।
  • प्रत्यक्ष दबाव या किसी भी प्रकार के खतरे के मामलों में जिसे साबित करना संभव हो, पत्रकार को प्रेस या मीडिया संघों के साथ-साथ जनता को भी सूचित करना चाहिए।
  • पत्रकार या उसके परिवार के किसी सदस्य के खिलाफ प्रत्येक धमकी और शारीरिक हमले की सूचना पुलिस को दी जानी चाहिए और प्रकाशित की जानी चाहिए।
  • इस तरह के मामलों में पत्रकारिता की एकजुटता का अत्यधिक महत्व है। प्रत्येक गंभीर खतरे या शारीरिक हमले को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अवगत कराया जाना चाहिए।

इसके अलावा, सीपीजे ने गिरफ्तारी और नजरबंदी का सामना कर रहे पत्रकारों के लिए एक Physical and Digital Safety Kit तैयार की है:

डिजिटल सुरक्षा सलाह

  • किसी भी संभावित हिरासत या गिरफ्तारी से पहले अपने डिवाइस और अपने डेटा को सुरक्षित करने के लिए कदम उठाएं। यह आपके और आपके स्रोतों के बारे में जानकारी तक अन्य लोगों की पहुंच की संभावना को कम कर सकता है। जानें कि डाक्युमेंट्स और फ़ोटो सहित कौन सा डेटा आपके डिवाइस पर रखा गया है और यह कहाँ स्थित है।
  • ऐसे डेटा को हटा दें जो आपको जोखिम में डालता है। ध्यान रखें कि परिष्कृत तकनीकी क्षमता वाले अधिकारी या आपराधिक समूह अभी भी डिलीट की गई सामग्री को रिकवर करने में सक्षम हो सकते हैं। अपनी ब्राउज़िंग हिस्ट्री नियमित रूप से साफ़ करें, और अपने सभी एकाउंट्स से नियमित रूप से लॉग आउट करें।
  • अपने सोशल मीडिया एकाउंट् में सामग्री तक लोगों की पहुंच को सीमित करें। अपने सभी एकाउंट्स, विशेष रूप से ईमेल और सोशल मीडिया की सामग्री की नियमित रूप से समीक्षा करें। जानिए कौन सी जानकारी आपको या दूसरों को जोखिम में डाल सकती है।

शारीरिक सुरक्षा सलाह

  • शोध करें और समझें कि आप जिस क्षेत्र या देश में रिपोर्ट कर रहे हैं, वहां पत्रकार के रूप में आपके कानूनी अधिकार क्या हैं। पता लगाने की कोशिश करें: आप किस चीज के लिए गिरफ्तार किए जा सकते हैं और किसके लिए नहीं; पिछले पत्रकार की गिरफ्तारी का विवरण और उनके साथ कैसा व्यवहार किया गया; किस दिन सरकार या कानून प्रवर्तन इकाइयों द्वारा गिरफ्तारी किए जाने की संभावना है; गिरफ्तार किए जाने पर आपको कहां ले जाने की संभावना है; और वकीलों तक पहुँचने की आपकी क्षमता।

अधिक जानकारी के लिए, कृपया इन CPJ Risk Assessment टेम्प्लेट को देखें, जो भाषा के आधार पर हैं।

Image: Shutterstock

यदि आपको हिरासत में लिया गया है/गिरफ्तार किया गया है:

  • आपको गिरफ्तार करने से पहले पुलिस अधिकारी आपको बता दें कि आपको गिरफ्तार किया जा रहा है और किस कारण से। गिरफ्तारी के लिए अग्रणी स्थान, समय और परिस्थितियों पर ध्यान दें।
  • गिरफ्तारी की तस्वीर लेने या फिल्माने से बचने की सलाह दी जाती है – इससे पुलिस भड़क सकती है और आपके उपकरण क्षतिग्रस्त या जब्त हो सकते हैं या शारीरिक नुकसान हो सकते हैं।
  • इसमें शामिल पुलिस अधिकारियों के नाम, बैज या यूनिट नंबर, विभाग, और आसानी से पहचाने जाने योग्य विशेषताओं सहित, जितना हो सके, उनके बारे में अधिक से अधिक जानकारी का दस्तावेजीकरण करें।
  • आसपास खड़े व्यक्तियों पर ध्यान दें जो आपकी गिरफ्तारी के गवाह हो सकते हैं।
  • यदि आप पर किसी पुलिस अधिकारी द्वारा हमला किया जाता है, तो अपनी चोटों, प्राप्त चिकित्सा उपचार और किसी भी अस्पताल के दौरे का रिकॉर्ड रखने का प्रयास करें। नामों को नोट करने और जिम्मेदार लोगों का एक दृश्य विवरण लेने का प्रयास करें।

अधिक जानकारी के लिए, यह CPJ का Pre-Assignment Security Assessment और GIJN  की यह रिपोर्ट देखें कि जब आपके घर पर सरकारी छापे पड़ें तो कैसे संभलें। (विशेष रूप से रूस पर केंद्रित)।

झूठी खबर और प्रचार

शब्द “प्रोपोगंडा,” “मिस इनफ़ॉर्मेशन,” और “फेक न्यूज़” अक्सर अर्थ में एक जैसे होते हैं। उनका उपयोग कई तरह के तरीकों को संदर्भित करने के लिए किया जाता है जिसमें जानकारी साझा करने से जानबूझकर या अनजाने में नुकसान होता है – आमतौर पर किसी विशेष नैतिक या राजनीतिक कारण या दृष्टिकोण के प्रचार के संबंध में।

Council of Europe इस समूह के अंतर्गत आने वाले ज्ञान के तीन अलग-अलग उपयोगों को अलग करती है:

  • मिस इनफ़ॉर्मेशन: गलत सुचना या गलत जानकारी जो गलती से या अनजाने में बनाई गई या फैल गई है।
  • डिस इनफ़ॉर्मेशन: झूठी सूचना जो जनमत को प्रभावित करने या सच्चाई को अस्पष्ट करने के लिए जानबूझकर बनाई और फैलाई जाती है।
  • माल इनफ़ॉर्मेशन नुकसान पहुंचाने के लिए जानबूझकर साझा की गई सच्ची जानकारी।

European Parliament आगे झूठी खबरों और प्रचार के सामान्य तत्वों की पहचान करती है:

  • मेनिपुलेटिव इन नेचर : झूठी या हेरफेर या भ्रामक (दुष्प्रचार), या अनैतिक तकनीकों (प्रचार) का उपयोग करने वाली सामग्री के लिए डिज़ाइन की गई सामग्री।
  • इंटेशन: ऐसी सामग्री जिसमें असुरक्षा पैदा करने, एकजुटता को तोड़ने या शत्रुता को भड़काने, या सीधे लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को बाधित करने का इरादा है।
  • पब्लिक इंटरेस्ट : सामग्री जनहित के विषय के बारे में है।
  • डिससेमीनेशन : ऐसी सामग्री जो संचार के प्रभाव को बढ़ाने के लिए अक्सर स्वचालित प्रसार तकनीकों का उपयोग करती है।

सोशल मीडिया और दुष्प्रचार/प्रचार

हालांकि तथाकथित फेक न्यूज़ कोई नई घटना नहीं है, लेकिन हाल ही में सोशल मीडिया जैसे सूचना और संचार प्रौद्योगिकी के परिष्कृत रूपों की व्यापक उपलब्धता के साथ इसने नया महत्व प्राप्त कर लिया है। उदाहरण के लिए, टेक्स्ट, इमेज, वीडियो या लिंक को ऑनलाइन शेयर करना, जानकारी को घंटों के भीतर वायरल होने देता है – और सुरक्षा संबंधी चिंताओं को भी उठाता है। फिर भी, सोशल मीडिया और सिटीजन जर्नलिस्ट द्वारा उत्पन्न सामग्री आज विरोध प्रदर्शनों की रिपोर्ट के लिए महत्वपूर्ण स्रोत हैं।

गलत या गलत सूचना के जोखिम को न्यूनतम करने के लिए युक्तियाँ

गलत सूचना से निपटने के लिए, PEN America निम्नलिखित कार्यों की सिफारिश करता है:

  • यह न मानें कि विषय सामग्री वैध है; सोशल मीडिया से प्राप्त सभी विषय सामग्री को सावधानीपूर्वक सत्यापित करें। ऐसा करने के तरीके के बारे में अधिक जानकारी के लिए, वीडियो को सत्यापित करने के तरीके पर जीआईजेएन की एडवांस्ड गाइड या फर्स्ट ड्राफ्ट की पॉकेट गाइड देखें।
  • किसी विरोध से संबंधित ऑनलाइन एकाउंट्स या ईमेल एड्रेस से उत्पन्न किसी भी जानकारी को सत्यापित करने का ध्यान रखें।
  • झूठी न्यूज़ साइटों से सावधान रहें जो अक्सर वैध समाचार स्रोतों, विशेष रूप से स्थानीय समाचारों की नकल करने के लिए डिज़ाइन की जाती हैं। मदद के लिए Poynter का PolitiFactNewsGuard का ट्रैकिंग सेंटर, या Factcheck.org देखें।

यूनेस्को आगे निम्नलिखित चेकलिस्ट की सिफारिश करता है:

  • लेखक/रिपोर्टर, विशेषज्ञता निर्धारित करें: इसे किसने बनाया? पत्रकार के बारे में क्या विवरण उपलब्ध हैं, जिसमें उनकी विशेषज्ञता और उनके द्वारा काम की गई अन्य स्टोरी शामिल हैं।
  • काम के प्रकार की पहचान करें: यह क्या है? समाचार रिपोर्ट से राय, विश्लेषण और विज्ञापनदाता (या प्रायोजित/”मूल”) सामग्री को अलग करने के लिए लेबल देखें।
  • उद्धरणों और संदर्भों पर ध्यान दें: खोजी या गहन स्टोरी के लिए, तथ्यों और दावों के पीछे के स्रोतों तक पहुंच को समझें।
  • स्थानीय स्थिति या समुदाय का निर्धारण करें।
  • विविध आवाज़ों की पहचान करें: विविध दृष्टिकोणों को लाने के लिए न्यूज़रूम के प्रयास और प्रतिबद्धता क्या हैं?

व्यंग्य

व्यंग्य को अभिव्यक्ति की अंतर्राष्ट्रीय स्वतंत्रता के प्रावधानों द्वारा निहित रूप से संरक्षित किया गया है। यूरोपियन कोर्ट ऑफ़ ह्यूमन राइट्स – 2007 के मामले में वेरेइनिगंग बिल्डेंडर कुन्स्टलर विरुद्ध ऑस्ट्रिया – ने व्यंग्य को “… कलात्मक अभिव्यक्ति और सामाजिक टिप्पणी का एक रूप और, अतिशयोक्ति  और वास्तविकता के विरूपण की अपनी अंतर्निहित विशेषताओं द्वारा, स्वाभाविक रूप से उकसाने और आंदोलन करने का लक्ष्य रखा है। तदनुसार, इस तरह की अभिव्यक्ति के कलाकार के अधिकार के साथ किसी भी हस्तक्षेप की विशेष सावधानी से जांच की जानी चाहिए।”

फिर भी, व्यंग्य अक्सर कानूनी हमले का शिकार होता है, मुख्यतः मानहानि या कॉपीराइट कानूनों की आड़ में। व्यंग्य और मानहानि के बीच मुख्य अंतर यह है कि व्यंग्य जनता द्वारा विश्वास करने का इरादा नहीं है। व्यंग्य ह्रदय में चुभता है, आलोचनात्मक और हमलावर होता है।

व्यंग्य करने के कानूनी जोखिमों से बचने/न्यूनतम करने के लिए युक्तियाँ

Reporters Committee for Freedom of the Press ने व्यंग्य में मानहानि के मुकदमे से बचने के लिए निम्नलिखित सुझाव दिए।

  • कटाक्षपूर्ण सांकेतिक भाषा का प्रयोग यह संकेत देगा कि स्टोरी सीधी खबर नहीं है।
  • उस प्रकाशन के संदर्भ पर विचार करें जिसमें स्टोरी चलेगी, जिसमें यह भी शामिल है कि उस प्रकाशन में पहले व्यंग्य या हास्यपूर्ण व्यंग प्रकाशित करने का इतिहास है या नहीं।
  • प्रकाशन या प्रसारण के प्रकार पर विचार करें – क्या यह एक प्रिंट पत्रिका, समाचार पत्र, ब्लॉग, टीवी या रेडियो समाचार प्रसारण या पत्रिका है? इसके आंतरिक संपादकीय संदर्भ पर विचार करें – क्या यह पुस्तक आलोचनापरक, एक ऑप-एड या समाचार पृष्ठ, एक व्यंग्यपूर्ण वेबसाइट या प्रसारणकर्ता है और उसके प्राथमिक भौगोलिक स्थान या दर्शकों पर विचार करें।
  • अपरंपरागत शीर्षक का प्रयोग शुरू से ही पाठकों को सचेत करेगा कि स्टोरी सीधी खबर नहीं है।
  • कहानी में अविश्वसनीय या  कटाक्षपूर्ण आइटम, विशेषज्ञों या समूहों के नाम जो हास्यास्पद हैं या एक मूर्खतापूर्ण संक्षिप्त रूप है, और उद्धरण जो अविश्वसनीय, अतार्किक या अति-शीर्ष हैं, सभी संकेत दे सकते हैं कि एक कहानी वास्तविक तथ्यों को नहीं बता रही है।
  • वास्तविक लोगों के नामों का उपयोग करने के बजाय, काल्पनिक नामों का उपयोग करने पर विचार करें जो वास्तविक लोगों के करीब हों या उनका सुझाव दें।
  • स्टोरी में उस वास्तविक घटना का उल्लेख करने पर विचार करें जिस पर आप हास्यव्यंग्य कर रहे हैं। वास्तविक घटना के तुरंत बाद हास्य व्यंग्य प्रकाशित करना, जबकि अभी भी जनता के दिमाग में है, यह संकेत देता है कि कहानी वास्तविक घटना पर टिप्पणी कर रही है।
  • किसी भी प्रकार की चेतावनी, यदि आपने अंत में छोटे-छोटे शब्दों में लिख दी है तो वह थोड़ी बहुत तो मदद कर सकती है लेकिन आवश्यक नहीं कि आप सब प्रकार के क़ानूनी दायित्वों से मुक्त हो जाएँ।

कॉपीराइट समस्याएं

कॉपीराइट बौद्धिक संपदा कानून का एक रूप है, जो U.S. Copyright Office, के अनुसार, “कविता, उपन्यास, फिल्में, गीत, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और वास्तुकला जैसे साहित्यिक, नाटकीय, संगीत और कलात्मक कार्यों सहित लेखक के मूल कार्यों की रक्षा करता है।” कॉपीराइट तथ्यों, विचारों, प्रणालियों या संचालन के तरीकों की रक्षा नहीं करता है, हालांकि यह इन चीजों को व्यक्त करने के तरीके की रक्षा कर सकता है।

“फेयर यूज” एक ऐसा शब्द है जो ऐसे मामलों में प्राधिकरण या प्रतिपूर्ति प्राप्त किए बिना कॉपीराइट सामग्री का उपयोग करने की क्षमता को संदर्भित करता है, विशेष रूप से जहां उपयोग के सांस्कृतिक या सामाजिक लाभ लागत से अधिक होते हैं। यह एक सामान्य अधिकार है जो उन स्थितियों में भी लागू होता है जहां कानून प्रश्न में विशिष्ट उपयोग के लिए स्पष्ट प्राधिकरण प्रदान नहीं करता है। स्वतंत्र अभिव्यक्ति के अधिक परिचित अधिकारों की तरह, लोग बिना किसी औपचारिक अधिसूचना या पंजीकरण के इस अधिकार का उपयोग करते हैं।

कॉपीराइट उल्लंघन के जोखिम से बचने/न्यूनतम करने के लिए युक्तियाँ

A Journalist’s Guide to Copyright Law and Eyewitness Media  मार्गदर्शिका कॉपीराइट से संबंधित जोखिमों को कम करने के लिए निम्नलिखित प्रमुख बिंदुओं का सुझाव देती है:

  • कंटेंट निर्माता को सत्यापित करें – कॉपीराइट धारक वह है जिसने प्रकाशित करने के लिए कॉपीराइट कराया है।
  • सामग्री को स्पष्ट, सीधी भाषा में उपयोग करने की अनुमति मांगें और बताएं कि सामग्री का उपयोग कैसे और कब किया जाएगा।
  • कॉपीराइट से संबंधित स्थानीय कानून की जाँच करें। कॉपीराइट के उचित उपयोग की व्याख्या हर देश में अलग-अलग होती है।
  • क्रेडिट के बिना किसी भी सामग्री या फोटो का उपयोग न करें। हालाँकि, ऐसा करते समय आपको किसी व्यक्ति की सहमति के बिना उसका नाम प्रकाशित करने के नैतिक विचारों और कानूनी गोपनीयता के मुद्दों को भी ध्यान में रखना चाहिए।
  • हमेशा स्रोत और सूचना की विश्वसनीयता की जांच करें।
  • ऐसे दस्तावेज़ों या छवियों को थोक में पुनर्प्रकाशित न करें जो कॉपीराइट हैं या दूसरों से संबंधित हैं। इंटरनेट पर पाई जाने वाली सामग्री कॉपीराइट कानूनों द्वारा मुक्त या असुरक्षित नहीं है, जब तक कि वह बहुत पुरानी न हो या क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के अंतर्गत न हो। यदि आपको लगता है कि सामग्री को टिप्पणी, आलोचना, व्यंग्य, या अन्य “उचित उपयोग” के रूप में उपयोग करने के लिए आपके पास एक मजबूत तर्क है, तो सर्वोत्तम प्रथाओं या पेशेवर वकील से परामर्श लें; “उचित उपयोग” या तथाकथित सतही ज्ञान के अन्य, संदिग्ध उदाहरणों पर भरोसा न करें।

मीडिया संस्थानों का बंद होना

मीडिया आउटलेट बंद होना एक वैश्विक प्रवृत्ति है। सत्तावादी शासन तेजी से दमनकारी कानून अपनाते हैं, जो दुनिया भर में मीडिया की स्वतंत्रता को गंभीर रूप से नष्ट कर देता है। दुनिया भर में मीडिया आउटलेट्स के बंद होने के मामले काफी बढ़ गए हैं।

शटडाउन के जोखिम को कम करने/से बचने के लिए युक्तियाँ
  • सरकारों की निगरानी के जोखिम को कम करने के लिए डिजिटल सुरक्षा दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन करें।
  • सरकारी  सेंसरशिप पर स्थानीय कानून की जाँच करें।
  • संवेदनशील सामग्री छुपाएं; मीडिया आउटलेट्स के साथ सामग्री साझा करना सेंसर किए जाने की संभावना कम है।
  • यदि संभव हो, तो दमनकारी मीडिया वातावरण के खतरे का सामना करने पर विदेश से कार्य करें।

चेतावनी:  इस दस्तावेज़ में दी गई जानकारी कानूनी सलाह नहीं है और इसे कानूनी सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। इस दस्तावेज़ में जानकारी केवल मार्गदर्शन के उद्देश्य से प्रदान की गई है।

अतिरिक्त संसाधन

GIJN’s Advisory Services: Capacity Building for the World’s Watchdog Media

Seeking Comment for Your Investigation: Tips for the ‘No Surprises’ Letter

What to Do When Authorities Raid Your Home

इस गाइड के लिए जीआईजेएन के संपादक निकोलिया अपोस्टोलू और रीड रिचर्डसन थे। शीर्ष पर चित्रण मलेशियाई राजनीतिक कार्टूनिस्ट ज़ुनार (ज़ुल्किफली अनवर उल्हक) द्वारा किया गया है।

Media Defence  अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन है जो पूरी तरह से पत्रकारों, नागरिक रिपोर्टरों और स्वतंत्र मीडिया के कानूनी बचाव पर केंद्रित है। इसका महत्व इसलिए है क्योंकि दुनिया भर में पत्रकारों की रिपोर्टिंग के लिए खतरे निरंतर बढ़ रहे हैं। मीडिया डिफेंस ने 900 से अधिक मामलों में 110 देशों में निवासरत पत्रकारों की मदद की है। इसके काम ने मीडिया कर्मियों के लिए 290 से अधिक वर्षों की नजरबंदी को रोकने में योगदान दिया है तथा उनको 646 मिलियन अमेरिकी डालर से अधिक के नुक़सान से बचाया है। मीडिया डिफेंस ने दुनिया के 90 से अधिक वकीलों को प्रशिक्षित किया है।

जिन खोजी पत्रकारों को सहायता की आवश्यकता है, वे जीआईजेएन के हेल्प डेस्क के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *