संसाधन

संसाधन

विषय

‘व्हिसलब्लोअर’ के साथ काम में सावधानी जरूरी !

इस लेख को पढ़ें

व्हिसल ब्लोअर के साथ काम के दौरान मीडिया को खास सावधानी बरतना जरूरी है। दुनिया भर में व्हिसलब्लोअर्स  ने पत्रकारों को बड़े मामले उजागर करने में काफी महत्वपूर्ण मदद की है। ज्यादातर मामलों में ऐसे व्हिसल ब्लोअर के बारे में किसी को जानकारी तक नहीं मिल पाती। खुद कोई व्हिसल ब्लोअर भी नहीं चाहता कि लोग उसके बारे में जानें।

कौन है व्हिसल ब्लोअर? यह किसी सिस्टम या संस्थान के भीतर मौजूद ऐसा व्यक्ति है, जो किसी भ्रष्ट या अवैध गतिविधियों को उजागर करने में मदद करता है। ऐसे लोग पत्रकारों के लिए जानकारी का एक महत्वपूर्ण स्रोत होते हैं। सरकारों, कंपनियों और अन्य संगठनों के अंदर किसी पद पर रहते हुए वे महत्वपूर्ण लीड, सबूत, दस्तावेज इत्यादि प्रदान कराते हैं। इससे विभिन्न प्रकार के भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी, अनैतिक कार्य, आपराधिक षड्यंत्रों से लेकर युद्ध अपराधों तक के बड़े मामले उजागर होते हैं।

इसलिए, पत्रकारों के लिए यह समझना जरूरी है कि किसी सूचना को उजागर करने के पीछे किसी व्हिसल ब्लोअर का उद्देश्य अथवा वजह क्या है। साथ ही, उससे मिलने वाली जानकारी और दस्तावेजों को सत्यापित करना भी महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही पत्रकार को यह समझना भी जरूरी है कि व्हिसल ब्लोअर को अपने स्रोत के रूप में कैसे संरक्षित किया जाए और उसकी पहचान गोपनीय रखते हुए कैसे उसकी सुरक्षा का ध्यान रखें। एक पत्रकार के बतौर आपको यह जानकर खुशी होगी कि व्हिसल ब्लोअर के साथ काम करने में सावधानियों पर दुनिया भर में काफी ज्ञानवर्द्धक संसाधनों का खजाना उपलब्ध हैं। साथ ही, इस संबंध में विशेषज्ञता रखने वाले गैर-सरकारी संगठनों की भी बड़ी संख्या है जो विभिन्न रूपों में व्हिसल ब्लोइंग को बढ़ावा देने में सहायक हैं।

पत्रकारों को इस चुनौतीपूर्ण दायित्व में मदद करने के लिए, जीआईजेएन ने संसाधनों की यह सूची बनाई है। यदि आपको लगता है कि इसमें किसी संस्था का नाम या संसाधन को शामिल करना चाहिए, तो हमें hello@gijn.org पर लिखें।

विशेषज्ञों की सलाह

यदि व्हिसल ब्लोअर आपको जानकारी देने के लिए तैयार है, तो उनके साथ विशेष किस्म का व्यवहार करना चाहिए।

जीआईजेएन ने विभिन्न स्रोतों की मदद से व्हिसल ब्लोअर के साथ काम में सावधानी संबंधी मार्गदर्शिका तैयार की है। इस रिपोर्ट में काफी विवरण प्रस्तुत है। इसका समुचित अध्ययन करके लाभ उठाना पत्रकारों के लिए सार्थक होगा।

The Perugia Principles for Journalists, ’द पेरुगिया प्रिंसिपल्स फाॅर जर्नलिस्ट्स’ – (डिजिटल युग में व्हिसल ब्लोअर के साथ काम करना) – इसका प्रकाशन 2019 में हुआ था। इसे जूली पॉसेट्टी, डॉ. सुएलेट ड्रेफस और नाओमी कोल्विन ने लिखा था। अप्रैल 2018 में पेरुगिया, इटली में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर 20 अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारों और विशेषज्ञों की एक गोलमेज चर्चा आयोजित की गई थी। उसमें आए विचारों एवं सुझावों के आधार पर इसे तैयार किया गया था। इसके अलावा विभिन्न खोजी पत्रकारों, कानूनी विशेषज्ञों और शिक्षा की भी राय ली गई थी। इस तरह तैयार की गई इस मार्गदर्शिका में निम्नलिखित 12 सिद्धांतों को शामिल किया गया है-

  1. हर हाल में अपने स्रोत (व्हिसल ब्लोअर) की रक्षा करें। अगर अनुरोध किया गया हो, तो उसका नाम उजागर न करें, उसकी गोपनीयता बरकरार रहे। जहां संभव हो, स्रोत को आपसे सीधे संपर्क के सुरक्षित तरीके प्रदान करें।
  2. खबर उजागर होने के बाद व्हिसल ब्लोअर पर कैसा खतरा आ सकता है, इसका आकलन करें। उसे पहले ही यह सोचने के लिए प्रेरित करें कि उन स्थितियों से कैसे निपटना है।
  3. आपको मिली सूचना का सार्वजनिक हित के साथ क्या संबंध है, इस आधार पर उस खबर का आकलन करें। किसी स्रोत या व्हिसल ब्लोअर के प्रति अपने दृष्टिकोण के आधार पर इसका आकलन नहीं करें।
  4. अपने स्रोत या व्हिसल ब्लोअर की डिजिटल रक्षा की जिम्मेदारी लें। उसके साथ बातचीत में मोबाइल के उपयोग या ई-मेल इत्यादि के दौरान यह ध्यान रखें कि उसके लिए बाद में कोई खतरा न हो। इसके लिए सुरक्षित संचार की गारंटी करें।
  5. अपने ऊपर और अपने स्रोत के ऊपर सबसे बड़े खतरे का आकलन करें। उस खतरे से खुद को और अपने स्रोत को बचाने के लिए ठोस कदम उठाना जरूरी है।
  6. अपने स्रोत या व्हिसल ब्लोअर को डिजिटल जोखिम के बारे में बताएं। खासकर संवेदनशील खबरों के मामले में अपने स्रोत या व्हिसल ब्लोअर को बुनियादी डिजिटल सुरक्षा का प्रशिक्षण दें।
  7. मूल दस्तावेजों और डेटासेट को उनकी संपूर्णता में प्रकाशित करने का प्रयास करें। जहां संभव हो अपनी खबर में डेटासेट का महत्व भी स्पष्ट करें।
  8. अपने स्रोतों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उनके द्वारा प्रदान किए गए डेटा को सुरक्षित तरीके से नष्ट कर दें। अपने नियोक्ता के प्रति आपके स्रोत के नैतिक, कानूनी और दायित्वों को ध्यान में रखते हुए इस दिशा में उचित कदम उठाएं।
  9. गोपनीय स्रोतों या व्हिसल ब्लोअर्स के लिए किसी डिजिटल ड्रॉप बॉक्स की व्यवस्था करें। इसमें व्हिसल ब्लोअर की सुरक्षा की गारंटी हो। उनका नाम उजागर नहीं होने और गोपनीयता की गारंटी हो।
  10. गोपनीय स्रोतों और व्हिसल ब्लोअर की सुरक्षा के लिए स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कानूनों और नियामक ढांचे को अच्छी तरह समझ लें।
  11. समाचार प्रकाशकों को स्रोतों और संग्रहित सामग्रियों के लिए उचित डेटा सुरक्षा प्रदान करने की जिम्मेदारी निभाने के लिए प्रोत्साहित करें। इस संबंधी नीतियों के बारे में पत्रकारों का मार्गदर्शन करने के लिए उचित प्रशिक्षण का भी इंतजाम हो।
  12. इन 12 सिद्धांतों पर आधारित उक्त मार्गदर्शिका का प्रकाशन रूसी, ग्रीक, स्पेनिश और जर्मन भाषाओं में हुआ है।

10 Tips for Journalists Working with Whistleblowers टेन टिप्स फाॅर जर्नलिस्ट्स वर्किंग विथ व्हिसल ब्लोअर्स‘ – (व्हिसल ब्लोअर के साथ काम करने वाले पत्रकारों के लिए 10 टिप्स) – जर्मनी के हैम्बर्ग में आयोजित जीआईजेसी सम्मेलन 2019 में विशेषज्ञों की प्रस्तुति के आधार पर रोवन फिलिप ने यह लेख तैयार किया है।

Working with Whistleblowers: A Guide for Journalists  ‘वर्किंग विथ व्हिसल ब्लोअर्स : ए गाइड फाॅर जर्नलिस्ट्स‘ – (व्हिसल ब्लोअर के साथ काम करने वाले पत्रकारों के लिए मार्गदर्शिका) –

दो अमेरिकी संगठनों ने यह मार्गदर्शिका बनाई थी। पहला संगठन ‘द गवर्नमेंट एकाउंटिबिलिटी प्रोजेक्ट (जीएपी) है। यह व्हिसल ब्लोअर को संरक्षण प्रदान करने वाला एक प्रमुख एनजीओ है। दूसरा संगठन ‘सोसायटी ऑफ प्रोफेशनल जर्नलिस्ट्स‘ है। इसे वर्ष 2017 में प्रकाशित किया गया था। इसमें पत्रकारों से यह अपेक्षा की गई थी कि वे व्हिसल ब्लोअर्स की मदद करेंगे और उन्हें भविष्य में अनजाने प्रतिशोध का शिकार होने से बचाएंगे। इस 36 पेज की मार्गदर्शिका में निम्नलिखित सुझाव दिए गए-

  • व्हिसल ब्लोअर के लिए प्रताड़ना या प्रतिशोध का जोखिम काफी अधिक है। उसे कोई स्पष्ट कानूनी संरक्षण भी प्राप्त नहीं है। इसलिए व्हिसल ब्लोअर और पत्रकार, दोनों को जीएपी द्वारा कानूनी सहायता दी जाएगी। उन्हें ऐसे वकीलों के माध्यम से परामर्श दिया जाएगा जो व्हिसल ब्लोअर कानून के अच्छे विशेषज्ञ हों।
  • किसी खुफिया विभाग में कार्यरत व्हिसल ब्लोअर के साथ काम करने वाले पत्रकारों को यह याद रखना चाहिए कि किसी वर्गीकृत जानकारी के आधार पर खबर के कारण व्हिसल ब्लोअर पर मुकदमा चल सकता है।
  • पत्रकार खुद को अपनी खबर से अलग रखे, उसमें स्वयं कोई पक्ष बनने से बचे। आप कोई रणनीतिकार होने या पीआर सलाह देने के लिए नहीं हैं, और न ही आप व्हिसल ब्लोअर के वकील हो सकते हैं। आप व्हिसल ब्लोअर का भरोसा जीतते हुए अच्छी और मूल्यवान खबरें निकालने का प्रयास करें और अपने स्रोत यानी व्हिसल ब्लोअर की अधिकतम सुरक्षा सुनिश्चित करने का प्रयास करें।
  • कोई कर्मचारी काम की अधिकतम जानकारी आपके पास लेकर आ सकता है। वह जानकारी मानव अधिकारों के हनन, पर्यावरणीय खतरों या राष्ट्रीय सुरक्षा जोखिमों से संबंधित हो सकती है। ऐसे मामलों में पत्रकारों को उसके साथ संवाद में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। ऐसा करके ही आप यह सुनिश्चित कर सकेंगे कि वह कर्मचारी आपको वास्तविक रूप में अधिकतम सूचना प्रदान करेगा।

The Whistleblower Project सोसाइटी ऑफ प्रोफेशनल जर्नलिस्ट्स इन यूएस ने इसे प्रकाशित किया है। इसमें लेखों का संग्रह है। साथ ही, सुरक्षित संचार की आवश्यकता पर चर्चा भी शामिल है।

Covering Whistleblowers: 6 Tips for Journalists ’कवरिंग व्हिसल ब्लोअर्स : सिक्स टिप्स फाॅर जर्नलिस्ट्स’ – डेनिस मैरी ऑर्डवे का यह 2019 का लेख पत्रकारों के लिए काफी सूचनाप्रद है। इस लेख में छह सुझाव दिए गए हैं-

  1. एक व्हिसल ब्लोअर की पहचान उजागर करने से पहले यह विचार करें कि इससे व्हिसल ब्लोअर को तथा अन्य लोगों को जिस नुकसान का सामना करना पड़ सकता है, उसकी तुलना में वह खबर कितनी कीमती है?
  2. व्हिसल ब्लोअर किसी सूचना को लीक क्यों कर रहा है, इस पर ध्यान न दें।
  3. व्हिसल ब्लोअर और ’लीकर्स’ के बीच अंतर समझें।
  4. सुरक्षित संचार की एक रणनीति तैयार करें।
  5. व्हिसल ब्लोअर सुरक्षा कानूनों की समुचित जानकारी हासिल करें। खासकर आप जिस विभाग के व्हिसल ब्लोअर के साथ काम कर रहे हैं, उससे जुड़े कानून को समझें।
  6. पता लगाएं कि व्हिसल ब्लोइंग संबंधी मुद्दों को समझने के लिए कहां जाएं।

The Art of Working with Whistleblowers ’द आर्ट ऑफ वर्किंग विथ व्हिसल ब्लोअर्स’ इस लेख में, Journalism.co.uk ने मीरियन जोन्स के सुझाव प्रस्तुत किए हैं। वह यूनाइटेड किंगडम में ब्यूरो ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिज्म (बीआइजे) के संपादक हैं।  इसमें जोन्स ने कहा है कि आपके स्रोत की गुमनामी और सुरक्षा की रक्षा करना सबसे महत्वपूर्ण है। अगर इसमें थोड़ा-सा भी समझौता होने का खतरा हो, तो उस खबर को बिल्कुल नहीं चलाना चाहिए।

What Journalists Need to Know About Whistleblowers ’व्हाट जर्नलिस्ट्स नीड टू नो अबाउट व्हिसल ब्लोअर्स’ – यह यूएस नेशनल व्हिसल ब्लोअर्स सेंटर द्वारा जारी एक गाइडलाइन है। इसमें पांच विषयों को कवर किया गया है- कानूनों को जानें, गुमनामी की रक्षा करें, व्हिसल ब्लोअर पर खतरे को समझें, खुफिया व्हिसल ब्लोअर के लिए अलग नियम हैं, और लीकिंग बनाम व्हिसल ब्लोइंग।

Protecting Sources and Whistleblowers in a Digital Age ’प्रोटेक्टिंग जर्नलिज़्म सोर्सेस एंड व्हिसलब्लोअर्स इन ए डिजिटल एज’ – लंदन विश्वविद्यालय के अंतर्गत इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस लीगल स्टडीज है। इसके ’द इनफाॅरमेशन लाॅ एंड पाॅलिसी सेंटर’ ने एक रिपोर्ट जारी की। इसे 25 खोजी पत्रकारों, गैरसरकारी संगठनों, मीडिया संगठनों के प्रतिनिधियों और मीडिया वकीलों के एक विशेषज्ञ समूह के साथ चर्चा के आधार पर बनाया गया। सितंबर 2016 में जारी इस रिपोर्ट में पत्रकारों और मीडिया संगठनों को सुझाव दिया गया कि –

  • स्रोत यानी व्हिसल ब्लोअर की देखभाल और सुरक्षा संबंधी नीतियों को मजबूत करें और इसके लिए सुरक्षित प्रौद्योगिकी का उपयोग करें।
  • जो व्हिसल ब्लोअर गुमनाम रहना चाहते हैं, उनके साथ किस तरह जुड़ना है, इसकी समीक्षा करें।
  • स्रोत के संरक्षण पर पर्याप्त प्रशिक्षण हासिल करें।

यूनेस्को का Protecting Journalism Sources in the Digital Age ’प्रोटेक्टिंग सोर्सेस एंड व्हिसल ब्लोअर्स इन ए डिजिटल एज’ – इसमें 120 देशों में संरक्षित स्रोत यानी व्हिसल ब्लोअर्स के संरक्षण संबंधी कानूनी प्रावधानों पर व्यापक जानकारी मिलती है। इसमें महत्वपूर्ण सुझाव भी दिए गए हैं।

International Bar Association ’इंटरनेशनल बार एसोसिएशन’ – इसके द्वारा 2018 में ’व्हिसल ब्लोअर प्रोटेक्शन : ए गाइड’ का प्रकाशन किया गया। इसमें संबंधित कानूनों की अच्छी जानकारी दी गई है। साथ ही, राष्ट्रीय कानूनों की जानकारी सहित एक परिशिष्ट भी दिया गया है। आईबीए की साइट पर जाकर ’व्हिसल ब्लोअर’ सर्च करें।

अंतरराष्ट्रीय संगठन

Whistleblowing International Network ’व्हिसल ब्लोइंग इंटरनेशनल नेटवर्क’ – यह व्हिसल ब्लोअर संरक्षण के क्षेत्र में काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों और नागरिक समाज समूहों का एक अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क है। स्कॉटलैंड स्थित यह संगठन सदस्यों को कानूनी और व्यवहारिक विशेषज्ञता शेयर करने का मंच प्रदान करता है। यह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्हिसल ब्लोइंग के लिए लोकतांत्रिक संवाद को बढ़ावा देता है। साथ ही यह दुनिया भर में व्हिसल ब्लोअर्स की सुरक्षा हेतु क्षमता-निर्माण का प्रयास करता है। यह दुनिया भर में व्हिसल ब्लोअर्स की मदद करने वाले करते सिविल सोसायटी संगठनों को परामर्श, उपकरण और विशेषज्ञता प्रदान करता है।

The EU Whistleblowing Meter  ’द ईयू व्हिसल ब्लोइंग मीटर’ – यह यूरोपीय संघ के देशों द्वारा 2019 में बनाए गए राष्ट्रीय कानून के निर्देश लागू करने संबंधी प्रयासों को ट्रैक करता है।

National Whistleblower Center ’नेशनल व्हिसलब्लोअर सेंटर’ – यह वाशिंगटन, डीसी में स्थित एक गैर-लाभकारी संस्था है। इसमें देश भर में व्हिसल ब्लोइंग कानूनों और संसाधनों का एक ऑनलाइन डेटाबेस उपलब्ध कराया जाता है। साथ ही, इस संबंध में एडवोकेसी, शिक्षा और सहायता परियोजनाओं को प्रायोजित किया जाता है। इसके द्वारा पत्रकारों, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के समर्थकों, वकीलों और सरकारी अधिकारियों के साथ एक छोटा अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम भी चलाया जाता है।  इसके द्वारा 2019 में The New Whistleblower’s Handbook ’द न्यू व्हिसल ब्लोअर’ हैंडबुक प्रकाशित की गई थी। इसका एक ब्लॉग भी है।

Government Accountability Project ’द गवर्नमेंट एकाउंटिबिलिटी प्रोजेक्ट’- यह वाशिंगटन, डीसी में स्थित है। इसका मिशन व्हिसल ब्लोअर्स की रक्षा करते हुए कॉरपोरेट और सरकार की जवाबदेही सुनिश्चित करना है। साथ ही, नागरिक कार्यकर्ताओं को सशक्त बनाना और पेशेवर लोगों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को बढ़ावा देना है। इसने व्हिसल ब्लोअर्स के लिए सुरक्षा गाइड भी प्रकाशित किया है। 1977 से अब तक जीएपी ने सार्वजनिक और निजी-क्षेत्र के 8,000 से अधिक व्हिसल ब्लोवर्स को मदद पहुंचाई है। इसने Caught Between Conscience & Career: Expose Abuse Without Exposing Your Identity शीर्षक पुस्तक का प्रकाशन भी किया है।

Transparency International’ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल’ – यह भ्रष्टाचार रोकने, पारदर्शिता और जवाबदेही को बढ़ावा देने के लिए सरकार, व्यवसाय संगठनों और नागरिक समाज के साथ काम करती है। बर्लिन में इसका अंतरराष्ट्रीय सचिवालय है। दुनिया भर में इसके 100 से अधिक नेशनल चैप्टर हैं। तीन राष्ट्रीय कार्यालयों में व्हिसल ब्लोइंग पर खास विशेषज्ञता है- ग्वाटेमाला में Accion CiudadanaTransparency International Ireland, और Transparency International Russia.

Digital Whistleblowing Fund ’डिजिटल व्हिसल ब्लोइंग फंड’ – यह हर्मीस सेंटर फॉर ट्रांसपेरेंसी एंड डिजिटल ह्यूमन राइट्स एंड रिन्यूएबल फ्रीडम फाउंडेशन की एक छोटी-सी अनुदान परियोजना है। इसके माध्यम से खोजी पत्रकारिता समूहों और मानवाधिकार संगठनों को विभिन्न पहलकदमियों हेतु सहायता प्रदान की जाती है। यह सहायता एक सामाजिक मिशन के हिस्से के रूप में दी जाती है। डिजिटल व्हिसल ब्लोइंग पहल। इसके तहत ’द इन्वेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग प्रोजेक्ट इटली’ को सहायता दी गई थी। इसमें एक ऐसा सुरक्षित मंच स्थापित करने का प्रावधान रखा गया था, जिसके माध्यम से व्हिसल ब्लोअर कोई जानकारी सुरक्षित तरीके से भेज सकें।

The International Anti-Corruption Conference ’इंटरनेशनल एंटी करप्शन कॉन्फ्रेंस’  यह भ्रष्टाचार की चुनौतियों पर चर्चा करने के लिए नागरिक समाज, निजी क्षेत्र के प्रतिनिधियों और सरकार को एक साथ लाने वाला वैश्विक मंच है। सम्मेलन में आमतौर पर व्हिसल ब्लोअर संबंधी मुद्दों पर भी चर्चा होती है। ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल में आधारित इस टीम द्वारा हर दो साल में सम्मेलन आयोजित किया जाता है।

उपकरण

Secure Drop ’सिक्योर ड्रॉप’ – यह एक ओपन-सोर्स व्हिसल ब्लोअर सबमिशन सिस्टम है। इसका प्रबंधन ’फ्रीडम ऑफ द प्रेस फाउंडेशन इन द यूएस’ द्वारा किया जाता है। इसके तहत किसी भी गुमनाम स्रोत से प्राप्त दस्तावेजों को सभी मीडिया संगठन सुरक्षित रूप से उपयोग कर सकते हैं। सैन फ्रांसिस्को स्थित इस फाउंडेशन द्वारा ’सिक्योर ड्रॉप’ का उपयोग करने संबंधी तकनीकी सहायता और प्रशिक्षण प्रदान करने की भी व्यवस्था है।

GlobaLeaks ग्लोबालिक्स – इसके माध्यम से सुरक्षित प्लेटफॉर्म बनाने के लिए सॉफ्टवेयर उपलब्ध कराए जाते हैं। इसके जरिए कोई व्हिसल ब्लोअर सुरक्षित रूप से जानकारी लीक कर सकता है। इसमें पत्रकारों को व्हिसल ब्लोअर के साथ सुरक्षित रूप से संवाद की भी सुविधा मिलती है। यह एक ओपन-सोर्स व्हिसल ब्लोइंग फ्रेमवर्क है जो मीडिया संगठनों, कार्यकर्ता समूहों, सामाजिक संगठनों और निगमों की मदद करता है। यह मिलान स्थित ’हर्मीस सेंटर फॉर ट्रांसपेरेंसी एंड डिजिटल ह्यूमन राइट्स’ द्वारा संचालित है। यह व्हिसल ब्लोइंग के लिए सॉफ्टवेयर टूल प्रदान करता है।

Tools for Whistleblowers ’टूल्स फाॅर व्हिसल ब्लोअर्स’   यह सूची माइकल वेरेशैगिन नामक एक खोजी पत्रकार ने तैयार की है। वे  पेंसिल्वेनिया के पिट्सबर्ग में रहते हैं। इसमें समाचार संगठनों और पत्रकारों द्वारा उपयोग में लाए जाने वाले उपकरणों और तरीकों की जानकारी मिलती है।

विभिन्न देशों के संगठन

नीचे दी गई सूची में कई गैर-लाभकारी समूह शामिल हैं जो व्हिसल ब्लोअर्स की मदद करते हैं और उन्हें सुरक्षित तरीके उपलब्ध कराते हैं। यहां हमने व्हिसलब्लोइंग प्रणाली या सॉफ्टवेयर प्रदान करने वाली कंपनियों अथवा कानून फर्मों को शामिल नहीं किया है, हालांकि उनकी कुछ वेबसाइटों में उपयोगी जानकारी उपलब्ध है। हम hello@gijn.org पर आपके सुझावों का स्वागत करते हैं।

अफ्रीका

AfriLEAKS अफ्रीलीक्स – यह अफ्रीकी समाचार संगठनों के एक गठबंधन द्वारा चलाया जाता है जो लीक के लिए सुरक्षित ड्रॉपबॉक्स का उपयोग करता है। कोई भी व्यक्ति या व्हिसल ब्लोअर इसमें अपने दस्तावेज भेज सकता है। यह ’अफ्रीकन नेटवर्क ऑफ सेंटर्स फाॅर इन्वेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग’ तथा ’हर्मीस सेंटर फॉर ट्रांसपेरेंसी एंड डिजिटल ह्यूमन राइट्स’ की संयुक्त परियोजना है।

Platform to Protect Whistleblowers in Africa ’प्लेटफाॅर्म टू प्रोटेक्ट व्हिसल ब्लोअर्स इन अफ्रीका’ – यह पेरिस स्थित, एक एडवोकेसी और कानूनी सहायता समूह है। इसने वर्ष 2020 में अंतर्राष्ट्रीय कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स को विभिन्न दस्तावेज (ईमेल, स्लाइड प्रेजेंटेशन, इनवॉयस और कॉन्ट्रैक्ट्स) प्रदान किए थे। इसके आधार पर पूर्व एंगोलन राष्ट्रपति की अरबपति बेटी इसाबेल डोस सैंटोस संबंधी जांच रिपोर्ट सामने आई थी।

दक्षिण अफ्रीका

Open Democracy Advice Centre ’ओपन डेमोक्रेसी एडवाइस सेंटर’ – इसका मिशन खुलापन और पारदर्शी लोकतंत्र को बढ़ावा देना है। यह कॉरपोरेट और सरकार में जवाबदेही की संस्कृति को बढ़ावा देने और मानवाधिकारों पर नागरिकों को शिक्षित करने, पारदर्शिता को बढ़ावा देने, सूचना और डेटा तक नागरिकों की पहुंच बढ़ाने और व्हिसल ब्लोइंग की मदद करने जैसे प्रयासों में संलग्न है।

यूरोप / यूरेशिया

The European Center for Whistleblower Rights  ’द यूरोपियन सेंटर फाॅर व्हिसल ब्लोअर राइट्स’ – यह बर्लिन में स्थित है। यह व्हिसल ब्लोअर की मदद करता है और इस संबंध में एडवोकेसी करता है। वर्ष 2019 में इसने व्हिसल वायर, त्रैमासिक का अपना पहला अंक प्रकाशित किया।

व्हिसल ब्लोअर के संरक्षण हेतु काम करने वाले राष्ट्रीय यूरोपीय समूहों की इस सूची को भी देखें।

The Southeast Europe Coalition on Whistleblower Protection  ’साउथ इस्ट यूरोप काॅलिशन ऑन व्हिसल ब्लोअर प्रोटेक्शन’ – यह 12 देशों के संगठनों का एक गठबंधन है।

Fishyleaks ‘फिशिलीक्स’ इसे ओवर फिश कैम्पेन ने तैयार किया था। यह यूरोपीय संघ के पानी में मछली पकड़ने संबंधी अवैध गतिविधि की जांच की एक पहल है।

अल्बानिया

The Center for the Study of Democracy and Governance ’सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेमोक्रेसी एंड गवर्नेंस’ –  इसने अल्बानिया में व्हिसल ब्लोइंग के लिए एक मार्गदर्शिका बनाई है।

ऑस्ट्रिया

Whistleblowing Austria – इसकी स्थापना वर्ष 2011 में हुई थी। यह गलत कामों और कदाचार का खुलासा करने में नागरिकों की मदद करता है।

फ्रांस

Transparency International France ’ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल फ्रांस’ – इसकी वेबसाइट पर व्हिसल ब्लोअर्स किसी भ्रष्टाचार का खुलासा कर सकते हैं।

La Maison des Lanceurs d’Alerte  – यह एक फ्रांसीसी संगठन है। यह व्हिसल ब्लोअर्स को कानूनी सहायता, मनोवैज्ञानिक और वित्तीय मदद देता है। उन्हें मीडिया से जोड़ने में भी सहायता करता है। यह ऑनलाइन संसाधन (गाइड, संपर्क, टिप्स और कानूनी जानकारी) भी प्रदान करता है।

जर्मनी

Whistleblower Network ’व्हिसल ब्लोअर नेटवर्क’ – यह वर्ष 2006 में पत्रकारों और व्हिसल ब्लोअर द्वारा बनाया गया एक स्वयंसेवी संगठन है। यह एसोसिएशन व्हिसल ब्लोअर, शोधकर्ताओं और पत्रकारों को सलाह और सेवा प्रदान करता है। इसके वेबसाइट पर व्हिसल ब्लोइंग संबंधी जानकारी और दैनिक ताजा समाचार के साथ एक ब्लॉग की भी सुविधा है।

हंगरी

K Monitor Watchdog for Public Funds ’के मॉनिटर वॉचडॉग फाॅर पब्लिक फंड’ – इसे वर्ष 2007 में हंगेरियन और अंतरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार संबंधी मामलों को खबरों में लाने के लिए एक मंच के रूप में स्थापित किया गया था। यह एसोसिएशन खोजी पत्रकारिता के माध्यम से सूचना से लैस समाज के विचार को बढ़ावा देता है। इसके वेबसाइट पर पत्रकारों के साथ ही व्हिसल ब्लोअर्स के लिए संसाधन और डेटाबेस उपलब्ध है।

आयरलैंड

Transparency International Ireland ’ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल आयरलैंड’ – इसकी स्थापना 2004 में हुई थी। यह सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के लिए बेहतर कार्य का परिवेश बनाने के लिए काम करता है। इसका मिशन शिक्षा, सूचना और अनुसंधान के माध्यम से लोगों को सशक्त बनाना है। इसका ’स्पीक-अप सेफली गाइड’ आयरलैंड के व्हिसल ब्लोइंग कानून को समझने में मदद करता है।

इटली

IrpiLeaks यह खोजी पत्रकारिता के लिए इतालवी केंद्र आईआरपीआई का व्हिसल ब्लोइंग प्लेटफॉर्म है। यह खासतौर पर यूके में माफिया पर लीक संबंधी मामले देखता है।

नीदरलैंड

House for Whistleblowers  ’हाउस फाॅर व्हिसल ब्लोअर’ – इसके द्वारा व्हिसल ब्लोअर को सलाह और मनो-सामाजिक सहायता दी जाती है। यह व्हिसल ब्लोअर के साथ सामाजिक दुर्व्यवहार मामले में अनुसंधान करता है। यह व्हिसल ब्लोवर्स के बारे में ज्ञान देने के साथ ही नियमों का उल्लंघन रोकने में योगदान करता है।

PubLeaks यह 40 से अधिक डच मीडिया संस्थानों द्वारा संचालित एक सुरक्षित प्लेटफॉर्म है। इसकी स्थापना 2013 में हुई थी। यह हर्मीस सेंटर द्वारा विकसित ग्लोबालिक्स सॉफ्टवेयर पैकेज पर आधारित है।

पोलैंड

Stefan Batory Foundation  ’स्टीफन बेटाॅरी फाउंडेशन’ – एक 1988 में स्थापित स्वतंत्र निजी पोलिश फाउंडेशन है। यह एक सूचित, खुले और लोकतांत्रिक समाज के निर्माण के मिशन के तहत स्थापित हुआ था।

रूस

Transparency International Russia,’ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल रूस’ – यह 1999 में स्थापित किया गया। यह सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों में पारदर्शिता और जवाबदेही के लिए भ्रष्टाचार से लड़ने हेतु मीडिया और नागरिक समाज को एकजुट करता है।

सर्बिया

Pistaljka, यह व्हिसल ब्लोअर्स को अपने दस्तावेज लीक करने के लिए एक सुरक्षित साइट है और उन्हें कानूनी सहायता प्रदान करता है।

स्पेन

XNET  यह व्हिसल ब्लोअर सुरक्षा की वकालत करता है। यह एक एन्क्रिप्टेड व्हिसल ब्लोअर सिस्टम का संचालन भी करता है।

यूक्रेन

Initiative 11 यह यूक्रेन में व्हिसल ब्लोअर संरक्षण को बढ़ावा देने वाले नागरिक समाज संगठनों का एक गठबंधन है।

यूनाइटेड किंगडम

Protect ’पब्लिक कन्सर्न एट वर्क’ – पीपीसीडब्ल्यू – वर्ष 1993 में व्हिसल ब्लोइंग चैरिटी की स्थापना हुई थी। इसका उद्देश्य व्हिसल ब्लोइंग में मदद करना है ताकि खतरों, गलत कामों और गंभीर जोखिमों से जनता की भलाई को खतरा हो या गंभीर नुकसान होने से पहले पता लगाया जाए। यह एक मुफ्त गोपनीय हेल्पलाइन चलाता है, विभिन्न संगठनों को सहायता और सेवाएं प्रदान करता है, और नीतिगत व शैक्षणिक गतिविधियों में संलग्न है।

The Whistler ’द व्हिस्लर’ – यह ’कम्पैशन इन केयर’ तथा ’सेंटर फॉर इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म’ को साथ लेकर बना एक फैलोशिप गठबंधन है। इसमें  धर्म, नस्ल या राजनीति की परवाह किए बिना सभी व्हिसल ब्लोअर का मदद की जाती है। यह व्हिसल ब्लोअर्स द्वारा व्हिसल ब्लोअर्स के लिए एक संगठन है जो कानूनी, भावनात्मक और वित्तीय सहायता प्रदान करता है।

लैटिन अमेरिका / कैरिबियन

ग्वाटेमाला

Accion Ciudadana यह 1996 में स्थापित किया गया था। वर्ष 2006 से यह ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल का एक अध्याय है। यह ग्वाटेमाला में पारदर्शिता और अखंडता के लिए काम करने वाला एक नागरिक समाज संगठन है।

मेक्सिको

MexicoLeaks यह आठ मैक्सिकन संगठनों द्वारा समर्थित एक प्लेटफॉर्म है- एनिमल पोलिटिको, एमिक्यूस, मेसडे 131, पीरियोडिस्टस डे ए पाई, पॉडर, प्रोसीसो, आर 3 डी, और एरेस्टेगुई नोटिकियास।

उत्तरी अमेरिका

कनाडा

Anti-Corruption and Accountability Canada ’एंटी करप्शन एंड एकाउंटिबिलिटी कनाडा’ – यह व्हिसल ब्लोअर्स को निशुल्क परामर्श देता है।

संयुक्त राज्य अमेरिका

Creative Commons photo c/o Flickr

Government Accountability Project (GAP) ’गवर्नमेंट एकाउंटिबिलिटी प्रोजेक्ट’ – (जीएपी) यह वाशिंगटन डीसी स्थित एक गैर-लाभकारी, सार्वजनिक हित समूह है जो व्हिसल ब्लोइंग को बढ़ावा देता है।

Project on Government Oversight (POGO) ’प्रोजेक्ट ऑन गवर्नमेंट ओवरसाइट’ (पीओजीओ) – यह वाशिंगटन डीसी स्थित स्वतंत्र वॉचडॉग संगठन है जो सरकारी कार्यों में सुधार और सुशासन लाने के लिए व्हिसल ब्लोअर, पत्रकारों और सरकारी अधिकारियों के साथ काम करता है।

National Whistleblower Center ’नेशनल व्हिसल ब्लोअर सेंटर’ – यह वाशिंगटन डीसी स्थित एक गैर-लाभकारी संगठन है जो व्हिसल ब्लोइंग पर एडवोकेसी, जागरुकता और सहायता परियोजनाओं को प्रायोजित करता है।

Whistleblower Aid ’व्हिसल ब्लोअर एड’ – यह वाशिंगटन डीसी स्थित एक गैर-लाभकारी संगठन है। यह उन सरकार और कॉरपोरेट के कानून तोड़ने वालों के खिलाफ रिपोर्ट करने वालों लोगों की मदद करता है।

The Whistleblower Support Fund ’द व्हिसल ब्लोअर सपोर्ट फंड’ – यह एक गैर-लाभकारी संस्था है जो व्हिसल ब्लोवर्स को रणनीतिक परामर्श, भावनात्मक और पेशेवर सहायता, वकीलों के लिए रेफरल, सामाजिक कार्यकर्ता, करियर काउंसलर प्रदान करती है।

The Whistleblower Blog ’द व्हिसल ब्लोअर ब्लॉग’ – यह एक संपादकीय स्वतंत्र समाचार और सूचना स्रोत है। यह Kohn, Kohn & Colapinto, LLP. द्वारा संचालित निशुल्क सार्वजनिक सेवा है।

The National Council of Nonprofits ’द नेशनल काउंसिल फाॅर नॉन प्रॉफिट’ – यह गैर-लाभकारी संस्थाओं के लिए महत्वपूर्ण व्हिसल ब्लोइंग नीतियों पर संसाधनों को सूचीबद्ध करती है।

एशिया

IndonesiaLeaks  यह व्हिसल ब्लोवर्स को गोपनीय रूप से जानकारी प्रस्तुत करने के लिए एक जगह प्रदान करता है जिसका पत्रकारों द्वारा उपयोग किया जा सके।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

संपर्क और नेटवर्किंग

2023 ग्लोबल इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म नेटवर्क के वैश्विक सम्मेलन की रूपरेखा

यदि आपने अभी तक गोथनबर्ग, स्वीडन GIJC23 में आने का मन नहीं बनाया है, तो अभी भी आप गोथेनबर्ग में हमारे साथ शामिल हो सकते हैं। गोथनबर्ग शहर में सम्मेलन स्थल के आस-पास के होटल भरने शुरू हो गए हैं। इसलिए पंजीकरण के लिए ज़्यादा इंतजार न करें।

Investigating AI Audio Deepfakes

टिपशीट

फर्जी एआई ऑडियो की जांच कैसे करें

एडवांस्ड स्पीच डीपफेक के द्वारा बिल्कुल असली लगने वाले नकली ऑडियो बनाए जा सकते हैं। उसकी सच्चाई को उस व्यक्ति के नजदीकी दोस्त भी नहीं पहचान सकेंगे। ऐसे ऑडियो क्लिप की जांच के लिए विशेषज्ञ और नए उपकरणों की आवश्यकता होती है। अक्सर पत्रकार किसी नेता के बारे में अपने ज्ञान, रिकॉर्डिंग की खराब गुणवत्ता, संदर्भ या सामान्य सामान्य ज्ञान के आधार पर किसी ऑडियो क्लिप में किए गए फर्जीवाड़े को तुरंत पहचान लेते हैं।

ऐप्स की ‘प्राइवेसी पॉलिसी’ को कैसे समझें?

आम तौर पर अधिकांश प्राइवेसी पॉलिसी में एक पूर्व-अनुमानित संरचना का पालन किया जाता है। इसलिए आप उनकी तह तक जाने की कला सीख सकते हैं। उसके मुख्य हिस्सों का पता लगा सकते हैं। लंबा दस्तावेज होने के बावजूद केवल महत्वपूर्ण जानकारी को निकालने के लिए झपट्टा मार सकते हैं। आप कुछ सूचनाओं के संग्रह के आधार पर उससे बाहर निकलने या विकल्प चुनने के अवसर का लाभ उठा सकते हैं। अधिक गहराई तक जाने और अधिक व्यक्तिगत प्रकटीकरण से जुड़े बिंदुओं को भी बेहद कम समय में आसानी से समझ सकते हैं।

दीर्घकालिक खोजी रिपोर्टिंग को जारी रखने या रोकने का निर्णय कैसे लें?

संपादकों के अनुसार न्यूनतम स्टोरीज प्रकाशित करने का भी काफी महत्व है। ऐसी स्टोरी आने के बाद विस्सल-ब्लोअर सामने आते हैं। किसी संगठन के भीतर के लोग आकर कोई बड़ी जानकारी देते हैं। संपादकों के अनुसार ऐसी खबरें प्रकाशित करने के दौरान पारदर्शिता महत्वपूर्ण है। पाठकों को स्पष्ट रूप से बताना सुनिश्चित करें कि क्या साबित किया जा सकता है और क्या नहीं।