आलेख

विषय

उपकरण जो खोजी पत्रकार पसंद करते हैं

इस लेख को पढ़ें

Image: Shutterstock

तथ्यों की परत दर परत व्यापक पड़ताल से एक बड़ा रहस्योद्घाटन ही खोजी पत्रकारिता का मूल है। जीआईजेएन ने अपने एक पिछले लेख में खोजी पत्रकारिता से जुड़े कई अहम बिंदुओं और तकनीकों को साझा किया था, जिन्हें इस्तेमाल करना आमतौर पर खोजी पत्रकारों को काफी पसंद होता है। हमने पाया है कि खोजी पत्रकारिता की ऐसी कई तकनीकें हैं जो पत्रकारों को आसानी से हाथ न आने वाले स्रोतों और डेटा तक पहुंचने में मदद करती हैं। जीआईजेएन अपनी इन दो रिपोर्ट्स के माध्यम से खोजी पत्रकारिता से जुड़े उन उपकरणों को प्रस्तुत कर रहा है, जिनकी खोजी पत्रकारों ने स्वयं बार-बार प्रशंसा की है।

मुझे यहां जांच में बेहद उपयोगी लगे दर्जन भर ऑनलाइन टूल्स को साझा करते हुए खुशी हो रही है। विशेष रूप से वे टूल्स जिनके लिए डिजिटल कौशल में पारंगत होना बहुत ज्यादा जरूरी नहीं है।

खोजी पत्रकारों के लिए Flourish बेहद उपयोगी है। यह ग्राफ़ तैयार करने वाला डेटा विजुअलाजेशन टूल है, जो निःशुल्क और उपयोग में बेहद आसान है।  इसके अलावा BBC Africa Eye टीम द्वारा संकलित 200 टूल का डैशबोर्ड  भी बहुत उपयोगी है। इसे विभिन्न खोजी श्रेणियों में विभाजित किया गया है और इसमें ग्लोबल साउथ के लिए कुछ विशेष डेटासेट शामिल हैं।

स्क्रीनशॉट: बीबीसी अफ्रीका आई के “फोरेंसिक डैशबोर्ड” का एक स्क्रीनशॉट, जो दो दर्जन खोजी श्रेणियों में 200 से अधिक डिजिटल टूल को क्यूरेट करता है

वीडियो क्लिप्स डाउनलोड करने के लिए कुछ नि:शुल्क साइट: 6 जनवरी को अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डीसी में हुए दंगे में संभावित सबूतों को सामने लाने के लिए गैर-लाभकारी संस्था बेलिंगकैट के खोजी पत्रकारों ने एक सामान्य तकनीक का इस्तेमाल किया। उन्होंने सोशल मीडिया क्लिप, स्ट्रीम और तस्वीरों को TweetDeck कॉलम में प्रसारित किया। बेलिंगकैट के पत्रकारों ने अपने स्लैक चैनल पर तत्काल संदेश साझा कर उन वीडियो क्लिप्स को साझा करना शुरू कर दिया, जिसमें दिखाया गया कि किस तरह अमेरिकी राजधानी की कैपिटल बिल्डिंग में ट्रंप समर्थकों ने दंगा फैलाया। खोजी पत्रकारों ने ट्विटर के लिए twittervideodownloader.com और फेसबुक के लिए FBdown.net व इसी तरह YouTube के लिए y2mate.com का उपयोग करके ऐसे वीडियो डाउनलोड किए जो सोशल मीडिया से हटा दिए गए थे। इसका मतलब यह था कि उस दिन वाशिंगटन, डीसी में क्या हुआ था, यह समझने के लिए उनके पास फुटेज का अपना संग्रह था, भले ही ऐसे वीडियो को सोशल मीडिया यूजर ने हटा दिया हो।

यदि इन साइटों से किसी प्लेटफ़ॉर्म की अधिकार नीतियों के उल्लंघन का जोखिम लगता है, तो YouTube डाउनलोड के लिए youtube-dl जैसे कमांड-लाइन सॉफ़्टवेयर का उपयोग भी किया जा सकता है।

पत्रकारों के संग्रह में मदद करने के लिए टूल्स और पिछले कंटेंट को तलाशना: कुछ असामाजिक तत्व कभी-कभी अपने गलत काम के ऑनलाइन सबूतों को बदलने या हटाने की कोशिश करते हैं। विशेष रूप से जब इन सबूतों पर आप उनसे कमेंट के लिए संपर्क करते हैं और उन्हें अपने जांच निष्कर्षों से अवगत कराते हैं। ऐसी स्थिति में उस सबूत को संरक्षित करने के लिए प्रमुख पत्रकार कुछ टूल्स का उपयोग करना पसंद करते हैं। इनमे एक टूल  Hunch.ly है — यह टूल आपकी ऑनलाइन खोज की सामग्री को संग्रहित करता है। इसी तरह  Wayback Machineएक ऐसी साइट है, जिसकी विशेषताएं हाल ही में जीआईजेएन ने अपनी एक रिपोर्ट में बताई थीं। एक और टूल  archive.today वेब पृष्ठ और लंबे टेक्स्ट थ्रेड्स को कॉपी और संरक्षित करने में बहुत मददगार हो सकता है।

टेलीग्राम पर दुष्प्रचार और दक्षिणपंथी कट्टरवादी समूहों को ट्रैक करने के नए उपकरण: कई वर्षों से फेसबुक सर्च प्लेटफॉर्म CrowdTangle प्रमुख साइबर खोजी लोगों के लिए सबसे उपयोगी टूल में से एक है। CrowdTangle फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पर दुष्प्रचार फैलाने वाले लोगों पर नज़र रखने के लिए एक शक्तिशाली टूल के रूप में सामने आया है। यही वजह है कि ProPublica के रिपोर्टर क्रेग सिल्वरमैन जो कि गलत सूचना पर नज़र रखने के क्षेत्र में अग्रणी माने जाते हैं, उन्होंने भी पिछले साल एक साक्षात्कार में CrowdTangle को अपने पसंदीदा टूल में सबसे महत्वपूर्ण माना है। हालांकि यह टूल कुछ नए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के साथ काम नहीं करता है, जिन्हें अक्सर टेलीग्राम जैसे दूर-दराज़, सत्तावादी और सशस्त्र समूहों द्वारा पसंद किया जाता है। हाल ही में, दुष्प्रचार का पता लगाने वाले पत्रकारों जैसे बज़फीड की जेन लिट्विनेंको ने टेलीग्राम पर चैनलों का अनुसरण करने के तरीके में सफलता हासिल की। उन्होंने tgstat, Telegago ऐप पर keyword और Google में वाइल्ड कार्ड के साथ विशिष्ट खोज शब्दों का उपयोग किया, जैसे Site:t.me/*। इस बीट के रिपोर्टरों का कहना है कि वे OSINTcurio.us पर साप्ताहिक रूप से खोज दृष्टिकोण पर अपडेट की जांच भी करते हैं। इसी तरह Hoaxy भी दुष्प्रचार वाली खबरों की मैपिंग करने के लिए पसंदीदा टूल है।

बर्नर फोन की वर्चुअल सेवा: हैकिंग और उत्पीड़न के बढ़ते खतरों को देखते हुए, कई पत्रकारों और विशेष रूप से फ्रीलांसरों ने  Google Voice सेवा को एक महत्वपूर्ण टूल माना है। यह सिस्टम आपको अपने मौजूदा फोन नंबर और यहां तक कि अगर आप होटल में हैं तो कमरे के नंबर को एक एकल, अप्राप्य नंबर से जोड़ने की अनुमति देता है – संभावित रूप से, एकमात्र नंबर जिसकी आपको कभी आवश्यकता होगी। यह खोजने योग्य वाइज मेल टेक्स्ट प्रदान करता है और पत्रकारों को वर्चुअल बर्नर फोन के रूप में उत्पीड़न से बचा सकता है।

टू डू लिस्ट के लिए व्यक्तिगत कार्य प्रबंधकः खोजी पत्रकारों का कहना है कि नए डिजिटल संगठनात्मक टूल्स जटिल जांच करने में आश्चर्यजनक रूप से प्रभावी साबित हुए हैं। खोजी पत्रकार Things app और न्यूनतम, वेब-आधारित WorkFlowy project management tool जैसे प्लेटफ़ॉर्म की सलाह देते हैं, जो फ़ोल्डर्स के बजाय इंटरेक्टिव नोट्स का उपयोग करता है। भारत सहित दुनियाभर में पत्रकारों को दबाने के लिए उनके उपकरण दमनकारी अधिकारियों द्वारा जब्त किए जा रहे हैं, ऐसे में  VeraCrypt encryption tool के साथ टू-डू सूची फ़ोल्डरों की रक्षा कर सकते हैं, जो उन फ़ोल्डरों को भी छिपा सकता है ताकि यदि कोई उपकरण यानी खोजी रिपोर्टिंग से जुड़ी जानकारी गलत हाथों में चला जाए तब भी दमनकारियों का उस पर ध्यान नहीं जाएगा।

ईरान के क़ोम में COVID-19 के प्रकोप के दौरान खोदी गई सामूहिक कब्रगाह। Image credit: Satellite image ©️2020 Maxar Technologies

जांच से संबंधित फ्री सेटेलाइट चित्रः सेटेलाइट चित्र कभी-कभी जांच के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। उदाहरण के लिए, बोत्सवाना शहर की एक गैर-लाभकारी संस्था इंक के दो खोजी संपादकों ने एक बार एक सेटेलाइट कंपनी से एक छवि (चित्र) खरीदने के लिए अपने वेतन में से पैसे दिए। इस छवि ने साबित कर दिया कि बोत्सवाना के राष्ट्रपति ने एक निजी गेम लॉज (रिसोर्ट) बनाने के लिए सैन्य संसाधनों का उपयोग किया था। हालांकि, कई पत्रकारों को यह जानकर आश्चर्य हुआ है कि कई सेटेलाइट कंपनियां इस तरह की खोजी पत्रकारिता के लिए इस तरह के सबूत को मुफ्त में उपलब्ध कराने पर विचार कर रहीं हैं। उदाहरण के लिए, इसी तरह सेटेलाइट कंपनी से प्राप्त एक तस्वीर ने ईरान में COVID-19 की मौत के बारे में सरकार के दावों को खारिज कर दिया था। यहां जेआईजेएन की व्यापक मार्गदर्शिका देखें।

क्रेग सिल्वरमैन का डिजिटल टूल बॉक्सः ऑनलाइन दावों की जांच और भ्रामक जानकारी फैलाने वाले असामाजिक तत्वों को ट्रैक करने के लिए सिल्वरमैन की निशुल्क  Verification Handbook  बहुत अहम है। यहां तक कि कई रिपोर्टर इसके ओपन सोर्स टूल्स (open source tools) को मास्टर चाबी की तरह इस्तेमाल करते हैं।

निगरानी करने वाली टेक्नॉलजी के लिए नए डेटाबेसः जीआईजेएन सदस्य फॉरबिडन स्टोरीज के नेतृत्व में The Pegasus Project और यूके स्थित शोध एजेंसी Forensic Architecture द्वारा निर्मित the Digital Violence platform ने सरकारों द्वारा जासूसी प्रौद्योगिकी परिनियोजन पर नजर रखी। खासतौर पर पत्रकारों और विद्रोहियों के लिए, जिन्हें धमकियां मिलती हैं। इस बीच, सिटीजन लैब की हालिया रिपोर्ट Running in Circles  में 25 सरकारों को सूचीबद्ध किया गया है, जिन्होंने एक नई तरह की निगरानी तकनीक हासिल की है जो आपके फोन को बिना हैक कर उसे इंटरसेप्ट कर सकती है और आपको इसके बारे में पता भी नहीं चलेगा। इसी तरह Electronic Frontier Foundation अमेरिका में चेहरे की पहचान और अन्य निगरानी प्रणालियों के 8,000 परिनियोजन के अपने डेटाबेस के साथ अन्य देशों में कानून प्रवर्तन जासूसी प्रणालियों की जांच के लिए एक वैचारिक रोड मैप प्रदान करता है।

यूजर के अनुकूल नि:शुल्क एन्क्रिप्शन (सांकेतिक भाषा में लिखना) टूल्सः रिपोर्टर एन्क्रिप्टेड ईमेल के लिए एक Protonmail account और सुरक्षित संदेश के लिए एक Signal account खोल सकते हैं। कुछ खोजी पत्रकारों ने जीआईजेएन को बताया कि वह LastPass जैसे मुफ्त पासवर्ड मैनेजर के इस्तेमाल भी करते हैं। यह आपके द्वारा चुने गए सिंगल मास्टर पासवर्ड से जुड़े सुरक्षित पासवर्ड उत्पन्न करेगा। बहुत हद तक सुरक्षित Firefox जैसे ब्राउज़र का उपयोग करें और  Internet Explorer जैसे ब्राउज़र को हटा दें।

इंटरव्यू के लिए ऑटोमेटेड ट्रांसक्रिप्शन टूल जैसे Otter या Pear Note का इस्तेमाल करें।  पत्रकारों का कहना हैं कि ये न केवल समय बचाते हैं बल्कि खोजी कीवर्ड होने से पैटर्न को जोड़ने में भी मदद करते हैं।

शक्तिशाली नए शिपिंग और आपूर्ति श्रृंखला ट्रैकर्सः पत्रकारों ने दुनिया के 90,000 जहाजों के बेड़े में जहाजों को बारीकी से ट्रैक करने के लिए नवीन तरीके खोजे हैं और जीआईजेएन ने उन संसाधनों की एक व्यापक सूची तैयार की है, जिनका वे सबसे अधिक उपयोग करते हैं। इनमें Marine Traffic app उनका पसंदीदा है। व्यापार पर ओपन-सोर्स डेटा के लिए UN Comtrade Database का उपयोग हो सकता है। वाणिज्यिक पोर्टल के लिए Panjiva, Datamyne, or ImportGenius का इस्तेमाल करें।

सबूत तलाशना और समय के साथ यात्रा: पत्रकारों ने Google Earth Pro के साथ-फोरेंसिक जांच से लेकर जटिल पर्यावरणीय परियोजनाओं तक पर खोजी खबरें निकाली है, जो न केवल पत्रकारों को घटनाओं का सटीक स्थान खोजने में मदद करता है, बल्कि समय के साथ उस दृश्य में परिवर्तन देखने की भी अनुमति देता है। इसकी लैंडस्केप सुविधा आपको एक दृश्य को देखने की अनुमति देती है क्योंकि आपकी खबर के विषय ने इसे देखा था। इसी तरह घड़ी आइकन पहले और बाद की तुलना के लिए एक सही समय सीमा प्रदान करता है।

और भी पढ़ें:

The Forensic Methods Reporters Are Using to Reveal Attacks by Security Forces

My Favorite Tools 2020: Top Investigative Journalists Tell Us What They’re Using

GIJN Resource Center: Reporting Tips and Tools


रोवन फिलिप जीआइजेएन के रिपोर्टर हैं। पहले वह दक्षिण अफ्रीका के संडे टाइम्स के मुख्य संवाददाता थे। एक विदेशी संवाददाता के रूप में उन्होंने दुनिया भर के दो दर्जन से अधिक देशों से समाचार, राजनीति, भ्रष्टाचार और संघर्ष पर रिपोर्टिंग की है।

 

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

मानव तस्करी रिपोर्टिंग टूल्स और टिप्स

मानव तस्करी की रिपोर्टिंग के दौरान कैसे रहें सुरक्षित

अपने देश में मानव तस्करी पर रिपोर्टिंग में एक अतिरिक्त जोखिम मौजूद है। आपकी खबर प्रकाशित होने के बाद एक विदेशी पत्रकार की तरह आपके पास देश छोडकर जा़ने का विकल्प नहीं है। इसलिए एनी केली ने सुझाव दिया कि आपके ऊपर ऐसे लोग हों, जो आपका समर्थन करें। आपकी खबरों को उच्चस्तरीय समर्थन मिलना महत्वपूर्ण है। ऐसी मदद पाने के लिए किसी बड़े या अंतर्राष्ट्रीय संगठन के साथ साझेदारी करना लाभदायक होगा।

रिपोर्टिंग टूल्स और टिप्स

कुछ स्टोरी आईडिया जिन्हें पत्रकार हर देश में दोहरा सकते हैं

कुछ विषय हैं, जो दुनिया के कमोबेश हर कोने में पाए जाते  हैं। जैसे, भ्रष्टाचार, अवैध कार्य, सत्ता का दुरुपयोग जैसी बातें अधिकांश देशों में मौजूद हैं। इनमें कई की कार्यप्रणाली भी लगभग एक जैसी होती हैं। इसलिए अन्य देशों के प्रमुख खोजी पत्रकारों के अनुभवों के आधार पर यहां कुछ ऐसी खोजपूर्ण खबरों के बारे में जानकारी प्रस्तुत है, जिन्हें दुनिया भर में दोहराया जा सकता है।

embracing failure open source reporting

क्रियाविधि

ओपन सोर्स रिपोर्टिंग में अपनी गलतियों से सीखें

ओपन सोर्स क्षेत्र में काम करने का मतलब डेटा के अंतहीन समुद्र में गोते लगाना है। आप सामग्री के समुद्र में नेविगेट करना, हर चीज़ को सत्यापित करना और गुत्थियों को एक साथ जोड़कर हल करना सीखते हैं। हालांकि, ऐसे भी दिन आएंगे जब आप असफल होंगे।

इमेज: मैसूर में एक मतदाता सहायता केंद्र पर जानकारी लेते हुए भारतीय नागरिक, अप्रैल 2024, इमेज - शटरस्टॉक

भारतीय चुनावों में फ़ैक्ट चेकिंग के सबक

लोकतंत्र के मूल्यों को बनाए रखने के लिए तथ्यों के आधार पर मतदाताओं को निर्णय लेने का अवसर मिलना आवश्यक है। इसके लिए ‘शक्ति‘ – इंडिया इलेक्शन फैक्ट चेकिंग कलेक्टिव का निर्माण किया गया। इस प्रोजेक्ट में गूगल न्यूज इनीशिएटिव की मदद मिली। इस पहल का नेतृत्व डेटालीड्स ने किया। इसके साझेदारों में मिस-इनफॉर्मेशन कॉम्बैट एलायंस (एमसीए), बूम, द क्विंट, विश्वास न्यूज, फैक्टली, न्यूजचेकर तथा अन्य प्रमुख फैक्ट चेकिंग (तथ्य-जांच) संगठन शामिल थे। इंडिया टुडे और प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) जैसे मीडिया संस्थानों ने भी इसमें भागीदारी निभाई।