आलेख

विषय

खोजी पत्रकारों के पसंदीदा ऑनलाइन रिपोर्टिंग उपकरण

इस लेख को पढ़ें

खोजी पत्रकार अब आधुनिक तकनीक का भरपूर उपयोग कर रहे हैं। ऐसे नए उपकरणों के बारे में जानना आपके लिए भी जरूरी है। इस आलेख में दुनिया के आठ खोजी पत्रकारों के पसंदीदा रिपोर्टिंग टूल की जानकारी प्रस्तुत है।

ऐसे कौन-से ओपन सोर्स टूल्स हैं, जो पत्रकारों को जांच में मदद कर सकते हैं? इनकी पहचान करने के कई तरीके हैं। एक आसान रास्ता यह है कि आप दुनिया भर में प्रचलित ऐसे डिजिटल टूल का उपयोग करें, जिन पर पत्रकार भरोसा करते हैं

उदाहरण के लिए:

  • सुरक्षित संचार के लिए- सिग्नल (Signal), प्रोटोन मेल (Protonmail), वेराक्रिप्ट (VeraCrypt)
  • डेटा निकालने के लिए- गूगल पिन प्वाइंट (Google Pinpoint), टेसेरेक्ट (Tesseract), गूगल शीट
  • विजुअल फोरेंसिक के लिए – गूगल अर्थ प्रो (Google Earth Pro), ट्वीट डेक, यूट्यूब-डीएल (youtube-dl)
  • सोशल मीडिया विश्लेषण के लिए – वी-वेरीफाई ट्वीटर एसएनए (WeVerify Twitter SNA), नोड एक्सएल (NodeXL), क्राउड ट्रेंगल (CrowdTangle)

यदि आपको किसी खास विषय या कार्य के लिए टूल की तलाश है, तो व्यापक ओपन सोर्स ऐप्स डैशबोर्ड में श्रेणी के अनुसार टूल ब्राउज कर सकते हैं। जैसे, बीबीसी अफ्रीका आई फोरेंसिक डैशबोर्ड (BBC Africa Eye Forensics Dashboard), मार्क क्रानैट ओएसआईएनटी डैशबोर्ड (Marc Kranat OSINT Dashboard), क्रेग सिल्वरमैन की वेरिफिकेशन हैंडबुक

अगर आपको नई तकनीकों पर मार्गदर्शन चाहिए, तो जीआईजेएन की टिप्स एंड टूल्स लाइब्रेरी (GIJN’s Tips & Tools) और जीआईजेएन टूलबॉक्स (GIJN Toolbox) श्रृंखला देखें।

आज अनगिनत टूल पत्रकारों के सामने उपलब्ध हैं। कई बार पत्रकार कौन सा टूल उपयोग करें इस बात के लिए उन्हें परेशानी और कन्फ़्यूशन का सामना करना पड़ता है। लेकिन कोई टूल अगर आपकी अपेक्षाओं को पूरा करता है, तो वह तुरंत आपका पसंदीदा टूल बन जाता है।

जीआईजेएन ने विभिन्न देशों के आठ खोजी पत्रकारों से उनके पसंदीदा टूल पर चर्चा की। उनसे पूछा गया कि इस साल आपने किन ओपन सोर्स संसाधनों का ज्यादा उपयोग किया। उनके अनुभव और सुझाव यहां प्रस्तुत हैं।

मालिना मैक्लेनन और निमरा शाहिद,  ग्लोबल विटनेस की खोजी पत्रकार हैं।

मालिना मैकलेनन (ग्लोबल विटनेस) कहती हैं – ”मैं सोशल मीडिया पोस्ट के डेटासेट बनाने और नए लीड पर शोध करने के लिए ‘4कैट’ (4cat) सोशल मीडिया डेटा कैप्चर प्लेटफॉर्म का उपयोग करती हूं। मैं ‘विजुअल पिंग’ (Visualping) का भी उपयोग करती हूं। यह किसी वेबसाइट के अपडेट होने पर आपको एक अलर्ट भेजता है। यह हमारी रुचि के उन वेबसाइटों के लिए उपयोगी है, जिन्हें हम हर दिन खोलकर नहीं देखते। उनमें कोई नई पोस्ट आने पर हमें अपडेट मिल जाती है।”

वह कहती हैं- ”मुझे भौगोलिक सूचना प्रणाली क्यूजीआईएस (QGIS) पर अपने कौशल को बढ़ाने में भी काफी आनंद आ रहा है। इससे पता चल रहा है कि हमारे संगठन की कुछ आगामी जांचों के लिए भू-स्थानिक डेटा फाइलों को कैसे बनाया जाए।”

कॉरपोरेट वेबसाइटों की निगरानी के लिए एक और उपकरण ट्रैकली (Trackly) है। यह भी पत्रकारों को काफी पसंद है। यह सीमित संख्या में यूआरएल की मुफ्त निगरानी की सुविधा देता है। यह निवेशक संबंध पृष्ठों में किसी भी बदलाव और अनिवार्य प्रकटीकरण का अलर्ट भेजता है। कंपनियों को लगता है कि इस ओर किसी का ध्यान नहीं जाएगा।

निमरा शाहिद (ग्लोबल विटनेस) ने कहा – ”इस समय जांच के लिए मेरा पसंदीदा टूल रिफाइनिटिव ईकॉन (Refinitiv Eikon) है। यह एक वास्तविक समय का वित्तीय डेटा और विश्लेषण पोर्टल है। इसकी मासिक बुनियादी सदस्यता लागत लगभग 300 डॉलर है। वनों की कटाई के साथ बड़े कॉरपोरेट के संबंधों को समझने और धन की हेराफेरी की जांच में यह बहुमूल्य साबित हुआ है। ऐसे लोग अपने लेनदेन संबंधी जानकारी को आसानी से और सार्वजनिक रूप से प्रकट नहीं करते हैं। इसके अलावा, वस्तुओं के बारे में रिफाइनिटिव ईकॉन का व्यापक डेटा जीवाश्म ईंधन से संबंधित आपूर्ति श्रृंखलाओं की जांच में काफी सहायक है।”

एक्सल गोर्ड ह्यूमलेजो – स्वीडिश सार्वजनिक प्रसारक ‘एसवीटी’SVT) में इनवेस्टिगेटिव रिपोर्टर हैं।

कंपनीज हाउस यूके (Companies House UK) एक अच्छा ओपनसोर्स डेटाबेस है। लेकिन इसके बारे में रिपोर्टर बात नहीं करते या पर्याप्त उपयोग नहीं करते हैं।” एक्सल गोर्ड ह्यूमलेजो कहते हैं- ”मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ी हमारी सभी जांचों में यह उपकरण काफी महत्वपूर्ण रहा है। लंबे अरसे से यूके संपत्ति की जांच के लिए किसी शेल कंपनी को खोजने का ठिकाना रहा है। ऐसी कंपनियां अपतटीय टैक्स हेवन द्वीपों में छिपी रहती हैं। लंदन की ऐसी एलएलपी कंपनियां केमैन आइलैंड्स या बहामास जैसी जगहों पर छद्म पार्टियों को एक सम्मानजनक कवर प्रदान कर सकती हैं।”

उन्होंने कहा- ”कंपनीज हाउस यूके नामक उपकरण काफी आसान और अच्छा है। किसी दस्तावेज को प्राप्त करने और कोई फर्म नकली है या असली, इसका पता लगाने में यह काफी उपयोगी है। यह मुफ्त है। यदि आपको किसी एलएलपी कंपनी का मालिक संदिग्ध लगता है, तो आप उस नाम को डेटाबेस में डाल सकते हैं। आप उन सभी कंपनियों को देख सकते हैं, जिनसे वह व्यक्ति जुड़ा है। इसके अलावा, ‘मैरीन ट्रैफिक’ (MarineTraffic) भी यह एक प्रसिद्ध उपकरण है। यह चीजों को ट्रैक करने के लिए काफी शानदार है। मध्य अमेरिका में खनन जैसी कई महत्वपूर्ण खबरों में इसने हमारी काफी मदद की है।”

डेविड मैकस्वेनप्रोपब्लिका (ProPublica) में इनवेस्टिगेटिव रिपोर्टर हैं।

“किसी के संपर्क नंबर, ईमेल इत्यादि का पता लगाने के लिए मैं Hiretual का उपयोग करता हूं। इसे ‘हायरईजेड’ भी कहा जाता है। इसमें एक सीमित मुफ्त सेवा शामिल है। यह एक ऐड-ऑन है जिसे आप क्रोम में उपयोग कर सकते हैं।” वह बताते हैं- ”यदि आप किसी के लिंक्डइन पेज पर जाते हैं, तो हायरेचुअल उनका व्यक्तिगत ईमेल और कई बार उनका फोन नंबर भी ढूंढ निकालता है। मुझे इसके बारे में कुछ साल पहले तक पता नहीं था। यह लोगों को खोजने का एक बहुत अच्छा तरीका है।”

“रिकॉर्ड को संभालने के लिए मैं टेबलाऊ (Tableau) का उपयोग करता हूं। डॉक्यूमेंट क्लाउड भी (DocumentCloud) बहुत अच्छा है। सर्च के लिए मैं अलग-अलग इंजनों में एक ही खोज की कोशिश करता हूं। यदि आप किसी अलग सर्च इंजन का उपयोग करते हैं, तो चीजों को अनुक्रमित करने के तरीके के कारण आपको अलग-अलग परिणाम मिलते हैं। इसलिए कभी-कभी मैं आस्क-जीव्स, डकडकगो, या बिंग (Ask Jeeves, or DuckDuckGo, or Bing) का उपयोग करता हूं।”

डेविड मैकस्वेन ने दस्तावेज प्रबंधन ऐप – ‘स्क्रिवेनर’ (Scrivener) की भी जानकारी दी। आमतौर पर पुस्तक लेखकों द्वारा इसका उपयोग किया जाता है। किसी जटिल जांच या काफी साक्षात्कार वाले मामलों को सुव्यवस्थित करने में यह कारगर उपकरण है। हालांकि इसके लिए एकमुश्त शुल्क देना पड़ता है। इस टूल में इंडेक्स बनाने की विशेषता है। प्रत्येक घटना या साक्षात्कार से संबंधित अनुसंधान को एक कार्ड में प्रदर्शित किया जाता है। इससे पत्रकारों को श्रृंखला में प्रत्येक कहानी के लिए उद्धरण और साक्ष्य आसानी से स्थानांतरित करने की सुविधा मिलती है।

डेविड मैकस्वेन कहते हैं- ”आप एक प्रोग्राम का उपयोग कर रहे हैं। इसलिए आप एक अध्याय से दूसरे अध्याय में आसानी से जा सकते हैं। मैं स्रोत ट्रांसक्रिप्ट देख सकता हूं। मुझे जो उद्धरण चाहिए, उन्हें निकाल सकता हूं। मैं चीजों को खो नहीं रहा हूं। मैंने कुछ लिखने के दौरान इसे बहुत सारी सामग्री को नेविगेट करने का एक तेज तरीका पाया। लेकिन अगर आप किसी अन्य शहर में एक रिपोर्टर के साथ काम कर रहे हैं, या एक संपादक के बतौर उस पर गौर करना चाहते हैं, तो ‘स्क्रिवेनर’ आपके लिए नहीं है।”

डेविड मैकस्वेन ने कहा- ”हमें एक अच्छे ओपनसोर्स सोशल नेटवर्क विश्लेषण टूल की आवश्यकता है। मुझे ‘गूगल फ्यूजन टेबल्स’Google Fusion Tables) की याद आती है, जो कुछ साल पहले बंद हो गया था। वह आसानी से समझने वाला टूल था। उसमें आप देख सकते थे कि वह व्यक्ति किन व्यवसायों का मालिक है। आप उनके सामाजिक नेटवर्क को भी देख सकते थे।”

मार्था मेंडोजा  – एसोसिएटेड प्रेस में इनवेस्टिगेटिव रिपोर्टर व पुलित्जर पुरस्कार विजेता हैं।

मार्था मेंडोजा कहती हैं- “एक उपकरण पिजनली (Pigeonly) का मैं एक साल से खूब उपयोग कर रही हूं। यह पूर्व में कैद किए गए एक व्यक्ति द्वारा शुरू किया गया स्टार्टअप है। अमेरिका में कैदी लोकेटर हैं, लेकिन आपको यह जानना होगा कि किसी व्यक्ति को किस सिस्टम के तहत कैद में रखा गया है। पिजनली के संस्थापक ने यह ऐप बनाया है जिसमें कोई अपने परिजन को आसानी से ढूंढ सकता है। यदि आप तस्वीरें भेजना और संवाद करना चाहते हैं, तो आपको लगभग 11 डॉलर प्रतिमाह का भुगतान करना होगा। लेकिन इस वेबसाइट में एक मुफ्त इनमेट लोकेटर भी है। यह काउंटी सुविधाओं, संघीय तथा अन्य सारी जानकारी उपलब्ध कराता है। आप किसी अन्य देश के ऐसे व्यक्ति की तलाश कर सकते हैं, जो अमेरिका में कैद है। चाहे वह दिल्ली का हो या टोकियो से। यहां आप बस उसका नाम दर्ज करें। इसमें उनकी जाति और उनकी उम्र की जानकारी देनी होगी ताकि आप सामान्य नामों के बीच सही व्यक्ति को आसानी से खोज सकें।”

मार्था मेंडोजा कहती हैं- ”मेरा दूसरा पसंदीदा टूल सीएनएस प्लस कोर्ट हाउस न्यूज का सर्च फंक्शन है। यह सदस्यता-आधारित है। अमेरिका की संघीय अदालत प्रणाली के लिए पेसर (PACER) नामक उपकरण भी है। लेकिन यदि आप राज्यों की अदालतों के मामले देख रहे हैं, तो आपको यह जानना होगा कि मामला किस न्यायालय में है। जबकि सीएनएस प्लस अब राज्यों और संघीय न्यायालयों की अधिकतम जानकारी जुटा रहा है। अगर मैं एन-95 (श्वसन यंत्र) जैसी किसी चीज की सर्च करूं, तो मुझे अनगिनत मुकदमे, आपराधिक मामले मिल जाएंगे। इस परिणाम में मुझे हर मामले का संक्षिप्त विवरण, केस संख्या, अदालत का नाम इत्यादि जरूरी जानकारी मिल जाती है। फिर मैं उस न्यायालय में ऑनलाइन जाकर दस्तावेज प्राप्त कर सकती हूं।”

अनास्तासिया वलीवा द मार्शल प्रोजेक्ट (The Marshall Project) की फेलो, किर्गिस्तान स्कूल ऑफ डेटा की पूर्व पत्रकार हैं। 

अनास्तासिया वलीवा कहती हैं- “मुझे लगता है कि तबुला (Tabula) अब डेटा पत्रकारों का पसंदीदा टूल बन गया है। यह एक निःशुल्क टूल है। यह पीडीएफ फाइलों से डेटा तालिकाएँ निकालता है। यह आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर तालिकाओं का पता स्वयं लगा सकता है। यह पत्रकारों के लिए, पत्रकारों द्वारा बनाया गया उपकरण है। सरकारी आंकड़े टेबल के बजाय पीडीएफ के रूप में मिलते हैं। इसलिए अपने उपयोग के लायक डाटा भेजने के लिए उन एजेंसियों से अनुरोध करने के बजाय हमें ऐसे टूल की जरूरत है। तबुला बहुत आसान है। इसका उपयोग करने के लिए कोडिंग का कोई ज्ञान आवश्यक नहीं है।”

“हमने मध्य एशिया के सभी देशों के लिए महत्वपूर्ण डेटाबेस बनाया है। ऐसा डेटाबेस बहुत कम उपलब्ध है। इसे ‘ओपन डेटा डॉट केजी’ (OpenData.kg) कहा जाता है। इसमें लगभग 200 डेटासेट हैं। यह लगातार बढ़ रहा है। संसदीय कार्यों के रिकॉर्ड, सार्वजनिक निविदा, स्कूलों की स्थिति जैसी विभिन्न जानकारियों को इसमें हमने एक साथ उपलब्ध कराया है। हम अन्य लोगों को भी इसमें योगदान करने के लिए आमंत्रित करते हैं। कोई भी रिपोर्टर इसका इस्तेमाल कर सकता है। यह इंटरनेट पर उपलब्ध रहता है।”

रोजा फर्नेक्सद ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म  में खोजी स्वास्थ्य रिपोर्टर हैं। 

पंजीवा (Panjiva) मेरा पसंदीदा उपकरण है।”फर्नेक्स कहती हैं। पंजीवा एक एआई-संचालित आपूर्ति श्रृंखला मंच है। इसमें आठ मिलियन कंपनियों के डेटा और एक अरब से अधिक शिपमेंट रिकॉर्ड उपलब्ध हैं। ”मुझे चिकित्सा संबंधी डेटा में बहुत दिलचस्पी है। जिन खबरों पर मैं काम करती हूं, वह पंजीवा के बिना संभव नहीं होगा। दुर्भाग्य से यह महंगा उपकरण है। मैंने अभी तक इम्पोर्ट जीनियस’ (ImportGenius) को आजमाने का प्रयास नहीं किया है। पंजीवा में 999 डॉलर प्रति माह से लेकर 10,000 डॉलर सालाना जैसे कई प्लान हैं। लेकिन आप गूगल सर्च के जरिए पंजीवा के कुछ डेटा निशुल्क खोजने का प्रयास कर सकते हैं। इसके लिए सर्च वर्ड को उद्धरण में लिखने के बाद ‘साइट : पंजीवा डॉट कॉम’ लिखना होगा।

रोजा फर्नेक्स कहती हैं- “आम तौर पर, हम जैसा डेटाबेस चाहते हैं, वह उस रूप में मौजूद नहीं होता है। इसलिए हमें अलग-अलग डेटा जुटाकर उसे बनाना होता है। मौजूद डेटाबेस के विभिन्न टुकड़ों को जोड़कर इससे बनाया जाता है। मैंने आखिरी जांच कोवैक्स पर की थी। वह संगठन पूरी दुनिया में समान रूप से टीके वितरित करना चाहता है। लेकिन जो डेटा मुझे मिल रहा था, वह यह था कि अधिकांश देशों में कोई केंद्रीय डेटाबेस नहीं है। कितने टीके कहां दिए गए हैं, ऐसा बताने वाला कोई डेटा नहीं मिल रहा था।”

व्लादिमीर थोरिक – खोजी पत्रकारिता संस्थान ‘राइज मोल्दोवा’ (RISE Moldova) में रूसी भाषा के संपादक

व्लादिमीर थोरिक ने तीन मुफ्त फोन सब्सक्राइबर ऐप को उपयोगी पाया। ये तीनों ऐप मोल्दोवन नागरिकों को रूसी सेना में अवैध रूप से भर्ती कराने वालों की पहचान करने में उपयोगी थे। ऐसी भर्ती करने वालों के लिए फोन नंबर, सड़क विज्ञापन और टेलीग्राम पोस्ट इत्यादि की जानकारी निकालना आसान था।

व्लादिमीर थोरिक बताते हैं- ”मैंने एक जांच में कुछ अच्छे उपकरणों का इस्तेमाल किया। यह जांच रूसी भाड़े के सैनिकों द्वारा रूसी सेना में मोल्दोवन निवासियों की भर्ती के बारे में थी, जो क्रेमलिन के कब्जे वाले ट्रांसनिस्ट्रिया क्षेत्र में स्थित है। ये उपकरण किसी फोन नंबर के मालिक का पता लगाने में सक्षम हैं। इनसे पता चल सकता है कि उस नंबर के मालिक को अन्य ग्राहकों ने किस नाम से दर्ज किया है। ये मुफ्त ऐप हैं- आईकॉन (Eyecon), ट्रू-कॉलर (Truecaller) और गेट कॉन्टैक्ट (Getcontact)। उन ग्राहकों की पहचान करने में ‘गेट कॉन्टैक्ट’ बहुत प्रभावी है, जिनके पास रूसी मोबाइल फोन नंबर हों।”

व्लादिमीर थोरिक की टीम ने सेना में भर्ती होने के लिए इच्छुक उम्मीदवारों के रूप में उन रिक्रूटर नंबरों को कॉल किया। विभिन्न टेलीग्राम बॉट्स का भी उपयोग किया गया। इस जांच का वर्णन इस जीआइजेएन फीचर में किया गया है।

क्या आपके पास साझा करने के लिए कोई पसंदीदा या नया रिपोर्टिंग टूल या डेटाबेस है? कृपया हमें बताएं कि वह क्या है और आप इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं।

अतिरिक्त संसाधन

Investigative Tools That Reporters Love

How Reporters Exposed the Spies Implicated in the Navalny Poisoning

9 Watchdog Reporters and Lessons Learned from Their Mistakes


रोवन फिलिप जीआइजेएन के वरिष्ठ रिपोर्टर हैं। पहले वह दक्षिण अफ्रीका के संडे टाइम्स के मुख्य संवाददाता थे। एक विदेशी संवाददाता के रूप में उन्होंने दुनिया भर के दो दर्जन से अधिक देशों से समाचार, राजनीति, भ्रष्टाचार और संघर्ष पर रिपोर्ट दी है।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

इमेज: मैसूर में एक मतदाता सहायता केंद्र पर जानकारी लेते हुए भारतीय नागरिक, अप्रैल 2024, इमेज - शटरस्टॉक

भारतीय चुनावों में फ़ैक्ट चेकिंग के सबक

लोकतंत्र के मूल्यों को बनाए रखने के लिए तथ्यों के आधार पर मतदाताओं को निर्णय लेने का अवसर मिलना आवश्यक है। इसके लिए ‘शक्ति‘ – इंडिया इलेक्शन फैक्ट चेकिंग कलेक्टिव का निर्माण किया गया। इस प्रोजेक्ट में गूगल न्यूज इनीशिएटिव की मदद मिली। इस पहल का नेतृत्व डेटालीड्स ने किया। इसके साझेदारों में मिस-इनफॉर्मेशन कॉम्बैट एलायंस (एमसीए), बूम, द क्विंट, विश्वास न्यूज, फैक्टली, न्यूजचेकर तथा अन्य प्रमुख फैक्ट चेकिंग (तथ्य-जांच) संगठन शामिल थे। इंडिया टुडे और प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) जैसे मीडिया संस्थानों ने भी इसमें भागीदारी निभाई।

Recorder panel at IJF24

रिकॉर्डर : रोमानिया में स्वतंत्र मीडिया का अनोखा राजस्व मॉडल

रिकॉर्डर को वर्ष 2017 में एक विज्ञापन राजस्व मॉडल की योजना के साथ लॉन्च किया गया था। अब इसकी 90 प्रतिशत आय दर्शकों से आती है। यह रोमानिया का एक स्वतंत्र खोजी मीडिया संगठन है। वीडियो और वृत्तचित्रों में इसकी विशेषज्ञता है।

समाचार और विश्लेषण

जब सरकारें प्रेस के खिलाफ हों तब पत्रकार क्या करें: एक संपादक के सुझाव

जिन देशों में प्रेस की आज़ादी पर खतरा बढ़ रहा है, वहां के पत्रकारों के साथ काम करने में भी मदद मिल सकती है। पत्रकारों को स्थानीय या अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संगठनों के साथ गठबंधन बनाकर काम करने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा- “आप जिन भौगोलिक सीमाओं तथा अन्य चुनौतियों का सामना कर रहे हों, उन्हें दरकिनार करने का प्रयास करें।“

Nalbari,,Assam,,India.,18,April,,2019.,An,Indian,Voter,Casts

डेटा पत्रकारिता समाचार और विश्लेषण

भारत में खोजी पत्रकारिता : चुनावी वर्ष में छोटे स्वतंत्र मीडिया संगठनों का बड़ा प्रभाव

भारत में खोजी पत्रकारिता लगभग असंभव होती जा रही है। सरकारी और गैर-सरकारी दोनों प्रकार की ताकतें प्रेस की स्वतंत्रता के प्रति असहिष्णु हो रही हैं। उल्लेखनीय है कि विश्व के 180 देशों के प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत वर्ष 2022 में 150वें स्थान पर था। लेकिन वर्ष 2023 में इससे भी नीचे गिरकर 161वें स्थान पर आ गया।