आलेख

GIJN की ग्लोबल गाइड टू फ्रीडम ऑफ इन्फॉर्मेशन: प्रेरणादायक FOI

इस लेख को पढ़ें

सूचना की स्वतंत्रता (फ्रीडम ऑफ इन्फॉर्मेशन) पर हमारी सीरीज का यह दूसरा भाग  है: GIJN’s Global Guide to Freedom of Information.

दुनिया के कई देशों में फ्रीडम ऑफ इन्फॉर्मेशन (एफओआई) की मदद से खोजी पत्रकारों ने बड़े खुलासे किए हैं। सीरीज के दूसरे भाग में हम आपको कुछ ऐसी ही प्रेरणास्पद एफओआई के बारे में बताते हुए रूबरू करा रहे हैं दुनिया भर के विषय विशेषज्ञों की सलाह से-

पत्रकार कभी-कभी एफओआई प्रक्रिया को लेकर नाखुश नजर आते हैं। इन पत्रकारों का मानना है कि काले निशान के साथ दस्तावेजों के चित्रों को पोस्ट करना ठीक नहीं, यह उस नकाब जैसा है सरकार की सूचनाओं को छिपाता है। सरकारी जानकारी के लिए आधिकारिक अनुरोध करने की प्रक्रिया भी बहुत धीमी और निराशाजनक है, लेकिन इससे बड़े फायदे की संभावना भी उतनी ही अधिक है।

इस स्थिति में पत्रकार क्यों बेहद आशान्वित होकर एफओआई फाइल करते हैं? और इसका विचार उन्हें कहां से मिलता है ?

सूचना के अधिकार का उपयोग करने वाले पत्रकार

द इंडियन एक्सप्रेस के वरिष्ठ संपादक श्यामलाल यादव ने आरटीआई अधिनियम से मिली जानकारी के आधार पर कई सनसनीखेज खुलासे किए। उन्होंने ऐसी ही कई रिपोर्ट का उल्लेख 2017 में लिखी अपनी पुस्तक Journalism through RTI Information, Investigation, Impact में किया है।

उन्होंने लिखा कि RTI अधिनियम ने खोजी पत्रकारिता करने वालों की बहुत मदद की है, नहीं तो कई बार कई जानकारियां खोज निकालना लगभग असंभव होता।

अमेरिका के पत्रकार जेसन लियोपोल्ड ने तो एफओआई के इतने सटीक प्रयोग किये कि उन्हें शासकीय विभागों में “एफओआई आतंकी ” के रूप में जाना जाता है। लियोपोल्ड ने प्रोफेशनल जर्नलिस्ट सोसायटी की मैगजीन ‘क्विल’ को दिए साक्षात्कार में कहा कि:

          ”एफओआई आतंकी होने का मतलब है आक्रामक तरीके से सरकारी दस्तावेजों को प्राप्त करना और एजेंसियों को            अपने पारदर्शितापूर्ण दायित्वों को निभाने के लिए मजबूर करना। लियोपोल्ड कहते हैं कि ‘मैं एफओआई एक्सपर्ट              के रूप में अपना काम बहुत गंभीरता से करता हूं’।”

लियोपोल्ड ने FOI का इस्तेमाल करते हुए कई स्टोरी ब्रेक की हैं। इनमें भूख हड़ताल करने वाले ग्वांतनामो कैदियों, ट्विटर पर आतंकी खतरों की निगरानी के लिए डिपार्टमेंटऑफ होमलैंड सिक्योरिटी मैनुअल पर रिपोर्ट और एफबीआई द्वारा नेल्सन मंडेला की जासूसी प्रमुख हैं। यहां लियोपोल्ड की सफल एफओआई स्टोरी का कलेक्शन मौजूद है।

अमेरिकी स्वतंत्र पत्रकार फिलिप इल ने अपने लंबे एफओआई संघर्षों के बारे में खुलकर लिखा है, लेकिन 2015 में लिखे एक आर्टिकल में वे इस संघर्ष का सुखद अंत लिखते हुए बताते हैं

ब्रिटेन के एक पत्रकार और ब्लॉगर मैट बर्गेस ने अपनी 2015 की किताब Freedom of Information: A Practical Guide for UK Journalists: में कई प्रकार के आवेदनों का जिक्र किया है, जो बहुत उपयोगी साबित हो सकते हैं ।

“एफओआई के जरिए आवेदन का आईडिया और संसाधन कहीं भी मिल सकते हैं, जब तक कि उनका संबंध किसी सरकारी अधिकारी से हो। आवेदन की जानकारी आपकी स्टोरी को नई धार दे सकता है।”

एक स्टोरी के लिए कई एंगल हो सकते हैं, जैसे- आधिकारिक वेतन, नियुक्ति प्रक्रिया, पत्राचार, डेटा सेट के बारे में जानकारी मांगी जा सकती है।

हालांकि बर्गेस और अन्य एफओआई दिग्गज अक्सर नकल का भी सुझाव देते हैं। दूसरों के विचार या आवेदन की नकल पर काम करना उन देशों में सबसे ज्यादा होता है, जो ऑनलाइन एफओआई के जरिए जानकारी मांगते हैं।

एफओआई आवेदनों को देखने वाली यूएस की वेबसाइट को मकार्रोक के संस्थापक माइकल मोर्सि ने FOI पर कई तरह के सुझाव  दिए हैं। इससे जुड़ी जानकारी तक पहुंचने और उसके महत्व पर 85 से अधिक उदाहरणों का संग्रह Freedominfo.org पर देख सकते हैं।

Why don’t journalists utilize FOI laws for their investigations? कैटालिना गेटे का 2019 का लेख इसी पर है। कैटालिना स्वयं को ‘प्रारंभिक चरण का संचार” शोधकर्ता  बताते हुए इस विषय पर कुछ अध्ययनों की समीक्षा कर रही हैं।

सूचना के अधिकार के उपयोग के कुछ उदाहरण

GIJN कॉलम “FOIA ” में सूचना अधिनियम अनुरोधों की स्वतंत्रता पर आधारित वास्तविक दुनिया की कहानियां हैं।

ब्लड ट्रांसफ्यूजन, ट्रैफिक टिकट, जेलों में ड्रग्स, नीतिगत भ्रष्टाचार (जनवरी 2017)

मत्स्य पालन परमिट, डकैती, फुटबॉल खिलाड़ी ड्रग की जांच, भूमि खरीद (March 2017)

क्रेडिट कार्ड का उपयोग, वेतन, पुलिस जांच की लागत, सेवानिवृत्ति पार्टियां (April 2017)

रैनसमवेयर: नंबर, लागत, तैयारी (May 2017)

सरकारी डेटा (June 2017)

GIJN की ग्लोबल गाइड से लेकर फ्रीडम ऑफ इंफॉर्मेशन तक की पूरी श्रृंखला यहां मौजूद है:

  • प्रस्तावना
  • टिप्स एंड ट्रिक्सः  मौजूदा कानूनों का उपयोग करने के बारे में सबसे अच्छी सलाह का एक संग्रह।
  • प्रेरणादायक एफओआई: एफओआई का उपयोग करने में सक्रिय पत्रकारों के बारे में कहानियां और क्या पूछना है के बारे में विचार ।
  • ग्लोबल रिसोर्सेस: देशों के मुताबिक मार्गदर्शन और राष्ट्रीय संसाधनों के लिंक।


    इस गाइड को GIJN के संसाधन केंद्र के निदेशक टोबी मैकिन्टोश और वॉशिंगटन डीसी में स्थित एक गैर-लाभकारी वेबसाइट FreedomInfo.org,के संपादक द्वारा तैयार किया गया। उन्होंने 39 साल तक ब्लूमबर्ग बीएनए के साथ काम किया और उन्होंने कई अमेरिकी एफओआई आवेदन दायर किए हैं और दुनिया भर में एफओआई नीतियों के बारे में लिखा है। वह FOIANet के अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क के एक सदस्य स्टीयरिंग समिति के सदस्य भी हैं।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

टिपशीट

अपना ख़ुद का न्यूज़ स्टार्टअप स्थापित करने के लिए दस टिप्स

मीडिया संगठनों में प्रबंधन संबंधी कार्यों के लिए किसी प्रोफेशनल प्रशासक के बजाय खबरों का जुनून रखने वाले पत्रकारों को रखा जाता है। जबकि एक पेशेवर प्रशासक (एडमिनिस्ट्रेटर) नियुक्त करना पहला कदम होना चाहिए।

पतनशील लोकतंत्र में कैसे टिके पत्रकारिता? भारत और हंगरी के संपादकों ने बताए पाँच उपाय

भारत में मीडिया संगठनों पर मनी लॉन्ड्रिंग या टैक्स-चोरी जैसे आर्थिक अपराधों के आरोप लगाए जाते हैं। पहले पत्रकारों के खिलाफ मानहानि के आरोपों का इस्तेमाल किया जाता था। उस पारंपरिक न्यायिक रणनीति को बदलकर अब आर्थिक आरोप लगाने का प्रचलन बढ़ा है। अदालतों में धीमी कानूनी प्रक्रिया के कारण यह परेशानी ज्यादा बढ़ जाती है। पत्रकारों के उत्पीड़न का एक तरीका उनकी यात्रा पर प्रतिबंध लगाना है।

Invetigative Agenda for Climate Change Journalism

जलवायु समाचार और विश्लेषण

जलवायु परिवर्तन पत्रकारिता के लिए खोजी एजेंडा

दुनिया भर में हजारों पत्रकार जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव पर रिपोर्टिंग कर रहे हैं। ऐसी पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए कई नेटवर्क स्थापित किए गए हैं। ऐसी पत्रकारिता जनसामान्य को सूचित करने और जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण है। यह सत्ता में बैठे उन लोगों को चुनौती देने के लिए भी जरूरी है, जो पर्यावरण संरक्षण की बात करते हैं, लेकिन वास्तव में पृथ्वी को जला रहे हैं। ऐसी सत्ता की जवाबदेही सुनिश्चित करना ही खोजी पत्रकारिता का मौलिक कार्य है।

टिपशीट

पत्रकार अपने स्मार्टफ़ोन से एक बेहतर फोटो कैसे ले सकते हैं

जेपीईजी फ़ाइलें अधिक पूर्ण चित्र बनाने के लिए फ़ोन की कम्प्यूटेशनल शक्ति का उपयोग करती हैं। प्रोरॉ फ़ाइलें तब तक उतनी बेहतर नहीं होंगी, जब तक कि आप उन पर काम न कर लें। वे सफेद के संतुलन और हाइलाइट्स पर बेहतर नियंत्रण प्रदान करती हैं। इनमें छाया और त्वचा टोन का अधिक गतिशील रेंज मिलता है।