आलेख

निगरानी मीडिया के लिए जीआईजेएन ने शुरू की परामर्श सेवा

इस लेख को पढ़ें

पत्रकारिता हमेशा एक चुनौतीपूर्ण पेशा रहा है। लेकिन वॉचडॉग पत्रकारों को सर्वाधिक चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। वॉचडॉग यानी निगरानी पत्रकारों को काफी दृढ़निश्चयी और उद्यमी समझा जाता है। जिन देशों और समाजों में दमनकारी वातावरण हो, वहां सच बोलने वाले पत्रकारों को ज्यादा कठिनाइयां आती हैं।

सत्ता और व्यवस्था की कमियों को उजागर करने और सच को सामने लाने वाली निगरानी पत्रकारिता को आगे बढ़ाना जरूरी है। ऐसे वॉचडॉग मीडिया संस्थानों की मदद करना हमारा कर्तव्य है। जीआईजेएन का मिशन है- निगरानी पत्रकारिता को सुदृढ़ बनाना और विस्तार देना। इसके लिए हमने GIJN Advisory Services (जीआईजेएन परामर्श सेवा ) प्रारंभ की है। इसमें पत्रकारिता के कई नए उपकरण और संसाधन भी शामिल हैं।

जीआईजेएन परामर्श सेवा के तहत एक Help Desk (हेल्प डेस्क) चलाया जाता है। यह हेल्प डेस्क प्रति वर्ष खोजी पत्रकारिता में रुचि रखने वालों के हजारों प्रश्नों के उत्तर देता है। हम खोजी पत्रकारिता संबंधी विभिन्न तकनीक, ऑनलाइन शोध, डेटा विश्लेषण और दुनिया भर के स्रोतों और सहयोगियों को ढूंढने जैसे मामलों में परामर्श देते हैं। हमारे वैश्विक नेटवर्क में 82 देशों के 211 सदस्य संगठनों के अलावा बड़ी संख्या में पत्रकार और विशेषज्ञ शामिल हैं। इसके अलावा, हमारे Resource Center (संसाधन केंद्र) द्वारा विभिन्न भाषाओं में एक हजार से अधिक टिपशीट, रिपोर्टिंग गाइड और निर्देशात्मक वीडियो उपलब्ध कराए गए हैं।

जीआईजेएन परामर्श सेवा में अब व्यापार और प्रबंधन, कानूनी सहयोग, और सुरक्षा संबंधी नए संसाधन उपलब्ध कराए गए हैं। इनमें वॉचडॉग मीडिया संगठनों का गहन मूल्यांकन शामिल है। विश्वस्तर पर मान्यता प्राप्त संगठनों की मदद से जीआईजेएन ऐसी उच्चस्तरीय सेवाएं प्रदान कर रहा है।

 

व्यवसाय और प्रबंधन

Media Development Investment Fund मीडिया डेवलपमेंट इन्वेस्टमेंट फंड (एमडीआईएफ) के साथ हमारी साझेदारी है। इसलिए हम पत्रकारिता के व्यावसायिक पक्ष पर विशेषज्ञों का परामर्श उपलब्ध करा सकते हैं। एमडीआईएफ के पास दुनिया भर में स्वतंत्र मीडिया संस्थानों को तकनीकी सहायता और परामर्श देने का व्यापक अनुभव है। जीआईजेएन परामर्श सेवा के तहत हम कुछ निगरानी मीडिया संगठनों का चयन करेंगे। एमडीआईएफ द्वारा इन्हें राजस्व विविधीकरण, प्रभावी प्रबंधन तकनीकों और टिकाऊ रणनीति जैसे मुद्दों पर परामर्श दिया जाएगा।

कानूनी सहायता

कानूनी बचाव- दुनिया भर में मीडिया संगठनों को कानूनी सहायता प्रदान करने वाली गैर-लाभकारी संस्था Media Defence मीडिया डिफेंस के साथ हमारी साझेदारी है। इसके सहयोग से हम कुछ निगरानी मीडिया संगठनों को मुफ्त कानूनी सहायता प्रदान करेंगे। इसके लिए हम पहले उन मीडिया संस्थानों की कानूनी रक्षा संबंधी आवश्यकता का आकलन करेंगे।

कानूनी सेवाएं- Cyrus R. Vance Center for International Justice साइरस आर. वेंस सेंटर फॉर इंटरनेशनल जस्टिस के साथ भी हमारी साझेदारी है। यह एक गैर-लाभकारी संस्था है। यह दुनिया भर में पत्रकारों और नागरिक समाज संगठनों को निशुल्क कानूनी मदद करती है। हमारे द्वारा चयनित वॉचडॉग मीडिया संस्थाओं को इस सेंटर की अतिरिक्त कानूनी सहायता मिलेगी। प्रकाशन या प्रसारण से पहले किसी सामग्री की कानूनी पहलुओं से समीक्षा में मदद की जाएगी। इसके अलावा, मीडिया संस्थान के किसी समझौते या अनुबंध की समीक्षा और एक गैर-लाभकारी या गैर सरकारी संगठन के रूप में पंजीकरण में भी कानूनी मदद की जाएगी।

बचाव और सुरक्षा

सुरक्षा प्रशिक्षण और संसाधन- वॉचडॉग मीडिया पर दुनिया भर में खतरा देखा जा रहा है। अपने सहयोगियों की मदद के लिए हमने ACOS Alliance (A Culture Of Safety) एसीओएस एलायंस  के साथ भागीदारी की है। इसके माध्यम से खोजी पत्रकारों को अत्याधुनिक सुरक्षा, परामर्श और प्रशिक्षण का बेहतर अवसर मिलेगा। एसीओएस एलायंस में 120 से अधिक मीडिया संगठन, पत्रकार संघ और प्रेस स्वतंत्रता संबंधी गैर-सरकारी संगठन शामिल हैं। यह पत्रकारिता के भीतर सुरक्षा की संस्कृति बढ़ाने के लिए काम कर रहा है।

साइबर सुरक्षा- आज पत्रकारों और खासकर खोजी पत्रकारों के लिए डिजिटल सुरक्षा आवश्यक है। हम Ford Foundation फोर्ड फाउंडेशन की एक विशेषज्ञ टीम के साथ काम कर रहे हैं। फोर्ड फाउंडेशन का Cybersecurity Assessment Tool (CAT) साइबर सिक्यूरिटी एसेसमेंट टूल काफी उपयोगी है। इससे वॉचडॉग मीडिया को काफी मदद मिल सकती है। इस टूल का पत्रकारों के लिए उपयोगी संस्करण बनाया जा रहा है। तब तक, फोर्ड फाउंडेशन के मौजूद टूल के माध्यम से ही मीडिया संस्थानों को साइबर सुरक्षा संबंधी ऑनलाइन सहायता दी जाएगी।

तनाव प्रबंधन- वॉचडॉग रिपोर्टिंग काफी कठिन काम है। तनाव से उनका काम प्रभावित होता है। हमने कोलंबिया विश्वविद्यालय के ग्रेजुएट स्कूल ऑफ जर्नलिज्म की एक परियोजना the Dart Center for Journalism and Trauma डार्ट सेंटर फॉर जर्नलिज्म एंड ट्रॉमा के साथ भागीदारी की है। इसके विशेषज्ञों के माध्यम से मीडिया संगठनों और स्वतंत्र पत्रकारों को मनोवैज्ञानिक तनाव पर सलाह मिल सकती है।

क्षमता निर्माण आकलन

वॉचडॉग मीडिया के क्षमता निर्माण में मदद संबंधी मूल्यांकन भी किया जाएगा। Investigative Journalism Media Assessment Program (IJ-MAP) इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म मीडिया एसेसमेंट प्रोग्राम (आईजे-एमएपी) के साथ भी हमारी साझेदारी है। यह मीडिया संगठनों की संरचना और क्षमता का मूल्यांकन करता है। इसमें न्यूज रूम की मूल बातों से लेकर राजस्व विविधीकरण तक शामिल हैं। निगरानी पत्रकारिता के काम में काफी चुनौतियां होती हैं। इसलिए ऐसे संगठनों के पास अपनी ताकत और कमजोरियों को समझने और भविष्य की योजना बनाने के लिए समुचित समय नहीं बचता है। ऐसे संगठनों को हम कई मामलों में मदद कर सकते हैं। जैसे- जांच की पद्धति, वॉचडॉग रिपोर्टिंग की संरचना और प्रबंधन, डेटा एकत्रीकरण और विश्लेषण, वितरण और डिजिटल आउटरीच, वित्तीय प्रबंधन और नेतृत्व, इत्यादि।

आईजे-एमएपी की मदद से हम एशिया में तीन निगरानी मीडिया संस्थानों को परामर्श सेवा प्रदान करेंगे। ऐसे तीन चयनित संस्थानों का निशुल्क गहन मूल्यांकन किया जाएगा। उन्हें सहयोग हेतु प्राथमिकता के क्षेत्रों में विशेषज्ञों का परामर्श भी प्रदान किया जाएगा। इसके लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 जून 2021 है। अधिक जानकारी और आवेदन पत्र के लिए यहां देखें।

किसी भी जानकारी के लिए जीआईजेएन हेल्पडेस्क पर संपर्क करें।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

Invetigative Agenda for Climate Change Journalism

जलवायु समाचार और विश्लेषण

जलवायु परिवर्तन पत्रकारिता के लिए खोजी एजेंडा

दुनिया भर में हजारों पत्रकार जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव पर रिपोर्टिंग कर रहे हैं। ऐसी पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए कई नेटवर्क स्थापित किए गए हैं। ऐसी पत्रकारिता जनसामान्य को सूचित करने और जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण है। यह सत्ता में बैठे उन लोगों को चुनौती देने के लिए भी जरूरी है, जो पर्यावरण संरक्षण की बात करते हैं, लेकिन वास्तव में पृथ्वी को जला रहे हैं। ऐसी सत्ता की जवाबदेही सुनिश्चित करना ही खोजी पत्रकारिता का मौलिक कार्य है।

टिपशीट

पत्रकार अपने स्मार्टफ़ोन से एक बेहतर फोटो कैसे ले सकते हैं

जेपीईजी फ़ाइलें अधिक पूर्ण चित्र बनाने के लिए फ़ोन की कम्प्यूटेशनल शक्ति का उपयोग करती हैं। प्रोरॉ फ़ाइलें तब तक उतनी बेहतर नहीं होंगी, जब तक कि आप उन पर काम न कर लें। वे सफेद के संतुलन और हाइलाइट्स पर बेहतर नियंत्रण प्रदान करती हैं। इनमें छाया और त्वचा टोन का अधिक गतिशील रेंज मिलता है।

Using Social Network Analysis for Investigations YouTube Image GIJC23

रिपोर्टिंग टूल्स और टिप्स

खोजी पत्रकारिता के लिए उपयोगी है ‘सोशल नेटवर्क एनालिसिस’

सोशल नेटवर्क एनालिसिस। यह कनेक्शन, पैटर्न और अनकही कहानियों की एक आकर्षक दुनिया है। पत्रकारों के टूलकिट में यह एक नई शक्तिशाली सुविधा जुड़ी है। यह हमारी दुनिया को आकार देने वाले रिश्तों के छिपे हुए जाल को उजागर करने में सक्षम बनाती है। यह केवल बिंदुओं को जोड़ने तक सीमित नहीं है। इससे सतह के नीचे मौजूद जटिल कहानियां भी उजागर हो सकती हैं।