Photo: Nick Jaussi - nickjaussi.com

संसाधन

» गाइड

जीआईजेएन गाइड: महिला पत्रकारों के लिए संसाधनों का संकलन

इस लेख को पढ़ें

(मार्च 2022 में जीआईजेएन ने महिला पत्रकारों के लिए यह मार्गदर्शिका प्रकाशित की। अब हम वर्तमान पेज को अपडेट करना बंद कर देंगे।)

महिला पत्रकारों को अपना काम करते समय कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। जीआईजेएन ने दुनिया भर में हमारी महिला सहयोगियों की मदद के लिए उपयोगी संसाधन का यह संकलन तैयार किया है। इसमें ऑनलाइन उत्पीड़न से बचाव, कार्यस्थल पर भेदभाव और लिंग आधारित हिंसा जैसे मुद्दों से निपटने के लिए नेटवर्क, संसाधन और उपकरणों का विवरण शामिल है। इसके अलावा, विभिन्न अवसरों और खासकर महिला पत्रकारों के लिए उपलब्ध समर्थन या सुविधाओं की जानकारी भी दी गई है।

इस गाइड में इन विषयों का संग्रह है:

अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क

खोजी पत्रकारिता का क्षेत्र अब भी पुरुष-प्रधान उद्योग बना हुआ है। इसलिए महिला पत्रकारों को आपसी समझ बनाकर अन्य महिलाओं तक पहुंचना और परस्पर सहयोग करना मददगार हो सकता है। ऐसे परस्पर समर्थन यानी ‘पीयर सपोर्ट‘ के लिए ‘प्रोफेशनल नेटवर्क‘ बेहतरीन संसाधन हैं। ऐसे नेटवर्क के जरिए आपको मेंटरशिप (परामर्शदाता), कोलाबोरेशन (सहयोग आधारित रिपोर्टिंग) और कॉन्टैक्ट्स (संपर्क) संबंधी सुविधाएं भी मिलती हैं। इसलिए हमने दुनिया भर की महिला पत्रकारों के लिए क्षेत्रीय और वैश्विक नेटवर्क की यह सूची बनाई है।

जीआईजेएन वीमेन एक ऑनलाइन समूह है। इसे ग्लोबल इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म नेटवर्क (जीआईजेएन) ने बनाया है। इसमें खोजी पत्रकारिता में महिलाओं से संबंधित मुद्दों पर चर्चा होती है।

कॉलिशन फॉर वुमेन इन जर्नलिज्म (Coalition for Women in Journalism) वर्ष 2017 में शुरू किया गया। इसका उद्देश्य दुनिया भर में महिला पत्रकारों के बीच सहयोग को बढ़ावा देना है। इसमें अनुभवी महिला पत्रकारों के जरिए परामर्श, संसाधन, वकालत उपलब्ध कराई जाती है। विभिन्न कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं। इस गठबंधन का संपर्क क्षेत्र लैटिन अमेरिका और एशिया के देशों में फैला है।

इंटरनेशनल वुमेन्स मीडिया फाउंडेशन (International Women’s Media Foundation) वाशिंगटन, डीसी स्थित इस संगठन की स्थापना 1990 में हुई थी। यह अनुदान, प्रशिक्षण, विभिन्न पुरस्कार प्रदान करता है। यह दुनिया भर की महिला पत्रकारों के लिए रिपोर्टिंग यात्राएं आयोजित करता है। इन यात्राओं के जरिए उन विषयों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है, जिन पर पर्याप्त रिपोर्टिंग नहीं हुई हो। इसके पास एक आपातकालीन कोष भी है। यह सुरक्षा प्रशिक्षण भी देता है। इसकी पूरी जानकारी नीचे ‘सुरक्षा‘ वाले खंड में मिल जाएगी।

इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ वुमेन इन रेडियो एंड टेलीविजन (International Association of Women in Radio & Television) यह इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में कार्यरत महिलाओं का वैश्विक नेटवर्क है। अफगानिस्तान, कैमरून, इराक-कुर्दिस्तान, मोल्दोवा, नॉर्वे, दक्षिण अफ्रीका, युगांडा, कंबोडिया, भारत, केन्या, नेपाल, फिलीपींस, तंजानिया और अमेरिका में इसकी शाखाएं (चैप्टर) हैं। यह महिलाओं और मीडिया पर केंद्रित वैश्विक परियोजनाओं में मदद करता है। साथ ही, सम्मेलनों का आयोजन और पेशेवर कौशल प्रशिक्षण के अवसर भी प्रदान करता है।

वुमेन फोटोग्राफ (Women Photograph) यह गैर-लाभकारी नेटवर्क वर्ष 2017 में बनाया गया था। इसका उद्देश्य फोटो जर्नलिज्म के क्षेत्र में महिलाओं का पर्याप्त प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करना है। समाज में जैसी विविधता है, वैसी फोटो पत्रकारिता में भी दिखनी चाहिए। इस नेटवर्क ने दुनिया भर की लगभग 1000 स्वतंत्र वृत्तचित्र फोटोग्राफरों की एक निर्देशिका बनाई है, जिनकी महिला और नन-बाइनरी विजुअल जर्नलिस्ट के बतौर पहचान है। इस नेटवर्क का प्रयास है कि मीडिया में महिलाओं द्वारा ली गई अधिक तस्वीरों का उपयोग हो। वर्ष 2020 में फ्रंट पेज पर बायलाइन छपी तस्वीरों का डेटा आप यहां देख सकते हैं। वुमेन फोटोग्राफ नेटवर्क ने यह डेटा एकत्र किया है।

मीडिया मॉम्स (Media Moms) यह एक आमंत्रित सदस्यों का फेसबुक ग्रुप है। इसमें 500 से अधिक सदस्य हैं। यह ऐसी माताओं का समूह है, जो पत्रकार हैं या मीडिया संस्थान के किसी भी काम या पत्रकारिता शिक्षा से जुड़ी हों। इसमें मीडिया के व्यावसायिक पक्ष में काम करने वाली माताएं भी शामिल हैं। इसका मिशन वक्तव्य है कि हमें अपने काम की समय सीमा और घर पर जीवन को संतुलित करने वाली विशेष चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। यह फेसबुक समूह अपनी स्टोरीज शेयर करने, मुद्दों और समाधानों पर चर्चा करने तथा एक’-दूसरे को भावनात्मक सहयोग प्रदान करने का सहायक मंच है।

अफ्रीका में नेटवर्क

वानाडाटा (WanaData) को ‘कोड फॉर अफ्रीका‘ ने लॉन्च किया है। यह महिला अफ्रीकी पत्रकारों, डेटा वैज्ञानिकों और डेटा-संचालित खबरें लिखने में सहयोग करने वाले तकनीकी लोगों का नेटवर्क है। ट्विटर पर हैशटैग वानाडेटा (#Wanadata) लिखकर आप इसकी खबरें और चर्चा देख सकते हैं। इसकी टीम में शामिल होने तथा अपनी कोई कहानी पिच करने के लिए यह लिंक है। ‘वानाडाटा‘ नेटवर्क अपने भागीदारों के साथ मिलकर एक डिजिटल पत्रकारिता प्रशिक्षण कार्यक्रम भी चलाता है।

अफ्रीकन वुमेन इन मीडिया (African Women in Media) वर्ष 2016 में स्थापित यह एक फेसबुक ग्रुप (Facebook group) है। यह हर साल एक आयोजन करता है। इसका एक साप्ताहिक न्यूजलेटर है, जो मीडिया उद्योग में अफ्रीकी महिलाओं के व्यावसायिक विकास और मीडिया में लैंगिक मुद्दों पर केंद्रित है। वर्ष 2020 में इस नेटवर्क ने ‘फोजो मीडिया इंस्टीट्यूट’ के साथ मिलकर एक अध्ययन प्रकाशित किया। इसमें उप-सहारा अफ्रीका में महिला पत्रकारों के प्रवेश संबंधी बाधाओं का खुलासा किया गया। इसमें 17 अफ्रीकी देशों की 125 महिला पत्रकारों का सर्वेक्षण किया गया।

एसोसिएशन ऑफ मीडिया वुमेन इन केन्या (Association of Media Women in Kenya) वर्ष 1983 में स्थापित यह एक गैर-लाभकारी सदस्यता संगठन है। यह मीडिया के माध्यम से समाज और मीडिया उद्योग में महिलाओं की उपस्थिति दिखाने और समानता पर केंद्रित है। यह महिला पत्रकारों के डिजिटल सुरक्षा सर्वेक्षण सहित संसाधनों का प्रकाशन करता है। यह एक छात्रवृत्ति निधि भी प्रदान करता है।

नाइजीरिया एसोसिएशन ऑफ वुमेन जर्नलिस्ट्स (Nigeria Association of Women Journalists) लगभग 25 साल पहले स्थापित इस नेटवर्क का उद्देश्य मीडिया में महिलाओं की पहुंच और नेतृत्व को बढ़ाना है। यह नाइजीरिया में महिला पत्रकारों को वकालत और प्रशिक्षण प्रदान करता है।

कैमरून मीडिया वुमेन (Cameroon Media Women) यह एक व्हाट्सएप ग्रुप और फेसबुक पेज है। वर्ष 2018 में इसे ‘मी-टू आंदोलन’ के दौरान लॉन्च किया था। इसका हैशटैग (#StopSexualHarassment237) रखा गया था, जो कैमरून देश का ‘कोड‘ है। ट्विटर पर महिला पत्रकारों ने चर्चा करके न्यूजरूम में महिलाओं से जुड़े मुद्दों पर विचार और वीडियो साझा किए।

इंटर-अफ्रीकन नेटवर्क फॉर वुमेन, मीडिया, जेंडर इक्विटी एंड डवलपमेंट (Inter-African Network for Women, Media, Gender Equity and Development)  सेनेगल स्थित इस नेटवर्क की स्थापना वर्ष 2001 में की गई थी। यह पश्चिम और मध्य अफ्रीका के 22 देशों में कार्यरत है। यह अफ्रीका में मीडिया, लैंगिक समानता और विकास के लिए समर्पित है। यह महिला पत्रकारों को प्रशिक्षण प्रदान करता है। साथ ही यह सूचना और प्रशिक्षण के लिए संसाधन किट तैयार करता है। यह सामाजिक उद्यमिता को बढ़ावा भी देता है।

लैटिन अमेरिका में नेटवर्क

चिकास पोडेरोसस (Chicas Poderosas) वर्ष 2013 में आरम्भ किया गया। यह स्पेन और लैटिन अमेरिका के 13 देशों में कार्यरत है। यह खोजी पत्रकारिता पर कार्यशालाओं और हैकथॉन का आयोजन करता है। यह महिलाओं को नेतृत्व क्षमता बढ़ाने के साथ ही डिजिटल और नए मीडिया संबंधी कौशल में प्रशिक्षित करता है। यह परामर्श और फैलोशिप की सुविधा भी प्रदान करता है।

कॉलिशन फॉर वुमेन इन जर्नलिज्म (Coalition for Women in Journalism) वर्ष 2017 में शुरू किया गया। इसका उद्देश्य दुनिया भर में महिला पत्रकारों के बीच सहयोग को बढ़ावा देना है। इसमें अनुभवी महिला पत्रकारों के जरिए परामर्श, संसाधन, वकालत उपलब्ध कराई जाती है। विभिन्न कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं। इस गठबंधन का मैक्सिको में चैप्टर है।

मध्य पूर्व में नेटवर्क

अरब वुमेन मीडिया सेंटर (Arab Women Media Center) वर्ष 1999 में स्थापित यह एक ‘अम्मान‘ आधारित एनजीओ है। यह महिलाओं और युवाओं के लिए नौकरी संबंधी प्रशिक्षण, कौशल विकास और मीडिया साक्षरता पर केंद्रित है। यह महिलाओं और मीडिया पर केंद्रित वृत्तचित्र फिल्मों और संसाधनों का निर्माण करता है। इस क्षेत्र में महिला पत्रकारों को जोड़ने के लिए इसका एक ऑनलाइन नेटवर्क भी है।

सीरियन फिमेल जर्नलिस्ट नेटवर्क (Syrian Female Journalists Network)  नीदरलैंड में स्थित इस नेटवर्क की स्थापना वर्ष 2012 में हुई थी। इसका मिशन सीरिया में महिला पत्रकारों की आवाज को बढ़ाना और उन्हें नेतृत्वकारी स्थिति में लाना है। इसके सदस्यों में पुरुष और महिला दोनों तरह के पत्रकार शामिल हैं। यह सीरिया, तुर्की, लेबनान और जॉर्डन में महिला पत्रकारों को प्रशिक्षण प्रदान करता है। यह लैंगिक समानता और नारीवाद पर भी ध्यान केंद्रित करता है। यह नेटवर्क अपने सदस्यों के बीच संसाधनों और अवसरों को साझा करता है।

मैरी कॉल्विन जर्नलिस्ट्स नेटवर्क (The Marie Colvin Journalists’ Network) यह महिला पत्रकारों का एक ऑनलाइन समुदाय है। इसमें सदस्यों को व्यावहारिक सहयोग और परामर्श मिलता है। इसमें एक-दूसरों के साथ सलाह को साझा किया जाता है। अरब दुनिया में काम करने वाली अरबी भाषी महिला पत्रकारों के लिए यह निशुल्क सुविधा है।

उत्तरी अमेरिका में नेटवर्क

जर्नलिज्म एंड वुमेन सिम्पोजियम (Journalism & Women Symposium) यह वर्ष 1985 में शुरू हुआ। इसका उद्देश्य अमेरिका में महिला पत्रकारों का एक समुदाय तैयार करना है। इसने महिला पत्रकारों की सक्रिय राष्ट्रीय सूची बनाई है। इसके क्षेत्रीय चैप्टर भी हैं। यह नेटवर्किंग और प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करता है। यह मीडिया में महिलाओं को प्रभावित करने वाले मुद्दों के बारे में संसाधन, सहायता, प्रशिक्षण और जानकारी प्रदान करने पर केंद्रित है। हर साल यह एक वार्षिक सम्मेलन का आयोजन करता है। यह महिला पत्रकारों को परामर्श भी प्रदान करता है।

इंटरनेशनल वुमेन्स मीडिया फाउंडेशन (International Women’s Media Foundation) वाशिंगटन डीसी स्थित इस संगठन की स्थापना 1990 में हुई थी। यह अनुदान, प्रशिक्षण, विभिन्न पुरस्कार प्रदान करता है। यह दुनिया भर की महिला पत्रकारों के लिए रिपोर्टिंग यात्राएं आयोजित करता है। इन यात्राओं के जरिए उन विषयों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है, जिन पर पर्याप्त रिपोर्टिंग नहीं हुई हो। इसके पास एक आपातकालीन कोष भी है। यह सुरक्षा प्रशिक्षण भी देता है। इसकी पूरी जानकारी नीचे ‘सुरक्षा‘ वाले खंड में मिल जाएगी।

एसोसिएशन फॉर वुमेन इन कम्युनिकेशन (Association for Women in Communications) यूएस केंद्रित यह नेटवर्क वर्ष 1909 में शुरू हुआ था। यह महिला पत्रकारों के लिए सीखने के अवसर बढ़ाने और एक जॉब-बोर्ड की सुविधा प्रदान करता है। यह महिला नेताओं के एक नेटवर्क के माध्यम से संचार में महिलाओं की भूमिका को बढ़ाने के लिए काम करता है।

एशिया में नेटवर्क

नेटवर्क ऑफ वुमेन इन मीडिया, इंडिया (Network of Women in Media, India) यह भारत में महिला पत्रकारों को उनके अधिकार और नेटवर्किंग प्रदान करने वाला संगठन है। यह मीडिया उद्योग और समाज के भीतर सूचना और संसाधनों को साझा करने, विचारों का आदान-प्रदान करने, मीडिया जागरुकता और नैतिकता को बढ़ावा देने और लैंगिक समानता और न्याय के लिए काम करने का मंच प्रदान करता है। देश भर में इसके 16 चैप्टर हैं।

वर्किंग वुमेन जर्नलिस्ट (Working Women Journalists) यह नेपाल का संगठन है जो मीडिया में महिलाओं के लिए वकालत करता है। मीडिया में महिलाओं की पहुंच बढ़ाने, समान अवसर प्रदान करने की पैरवी करता है। यह प्रशिक्षण, सेमिनार और कार्यशालाएं भी आयोजित करता है।

न्यू-वॉइसेस (NüVoices) यह नेटवर्क चीन के संबंध में काम करने वाली महिला पत्रकारों की मदद करता है। इसका एक फेसबुक पेज है। ग्रेटर चीन, अमेरिका और यूरोप में इसके चैप्टर हैं। इसने महिला विशेषज्ञों की एक निर्देशिका  भी बनाई है।

कॉलिशन फॉर वुमेन इन जर्नलिज्म (Coalition for Women in Journalism) इसका उद्देश्य दुनिया भर में महिला पत्रकारों के बीच सहयोग को बढ़ावा देना है। इसमें अनुभवी महिला पत्रकारों के जरिए परामर्श, संसाधन, वकालत उपलब्ध कराई जाती है। विभिन्न कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं। अफगानिस्तान, पाकिस्तान, चीन और भारत में इसके चैप्टर हैं।

वुमेन इन मीडिया नेटवर्क जापान (Women in Media Network Japan) इसका गठन वर्ष 2018 में 86 महिला पत्रकारों द्वारा किया गया था। इसे यौन उत्पीड़न के खिलाफ आंदोलन (#WithYou movement) के तहत प्रारंभ किया गया था।

यूरोप में नेटवर्क

द सेकेंड सोर्स (The Second Source) यूनाइटेड किंगडम में महिला पत्रकारों के एक समूह ने वर्ष 2017 में इसका गठन किया था। इसका मकसद महिलाओं के लिए वैकल्पिक पेशेवर नेटवर्क प्रदान करने के साथ ही महिला पत्रकारों को मीडिया में उत्पीड़न से बचाना है। इस संगठन का उद्देश्य महिलाओं को उनके अधिकारों के बारे में सूचित करना, जागरूकता बढ़ाना और मीडिया उद्योग में बदलाव लाना है। वर्ष 2018 में ‘द सेकेंड सोर्स‘ ने एक मेंटरशिप प्रोग्राम शुरू किया। इस प्रोग्राम का उद्देश्य उन महिलाओं की मदद करना है, जो पेशेवर पत्रकार के रूप में शुरुआत कर रही हैं, या जो मीडिया उद्योग से बाहर निकलने पर विचार कर रही हैं। जिन महिला पत्रकारों को किसी परामर्श की आवश्यकता हो, उन्हें भी इसमें मदद मिलती है। इसमें कैरियर सलाह के साथ ही काम से संबंधित चुनौतियों से निपटने के लिए सलाह भी मिलती है।

वीमेन इन जर्नलिज्म (Women in Journalism) यूनाइटेड किंगडम में महिला पत्रकारों का यह लंदन स्थित एक पेशेवर नेटवर्क है। यह सेमिनार और पैनल आयोजित करता है। यह अनुसंधान आयोजित करता है। यह नेटवर्किंग कार्यक्रमों की सुविधा भी प्रदान करता है। यह नई और स्थापित दोनों तरह की महिला पत्रकारों को परामर्श (मेंटरिंग) देता है।

प्रेनो ला-उन (Prenons la une) फ्रांस का यह महिला पत्रकारों का एक संघ है जो मीडिया में महिलाओं के उचित प्रतिनिधित्व और न्यूजरूम में पेशेवर समानता की वकालत करता है। यह नेटवर्क कुछ एक महीनों में बैठक करके भेदभाव और उत्पीड़न का सामना करने वाली महिलाओं को सहायता प्रदान करता है।

जर्नलिस्ट-इनबंड (Journalistinnenbund) यह जर्मनी में 400 से अधिक महिला पत्रकारों का एक राष्ट्रव्यापी, क्रॉस-जेनरेशनल नेटवर्क है। इसे वर्ष 1987 में स्थापित किया गया था। देश भर में इसके क्षेत्रीय समूह हैं। उभरती महिला पत्रकारों के लिए इसका एक परामर्श कार्यक्रम है।

चिकास पोडेरोसस स्पेन (Chicas Poderosas Spain) वर्ष 2018 में एक सम्मेलन के जरिए इसे लॉन्च किया गया था। इसमें 155 प्रतिभागी शामिल हुए। यह लैटिन अमेरिकी समूह पर एक स्पिन-ऑफ है। इसका ट्विटर हैंडल @PoderosasES है।

सुरक्षा संसाधन

सुरक्षा को लेकर सभी पत्रकार चिंतित हैं। लेकिन महिलाओं को लिंग आधारित हिंसा, उत्पीड़न, न्यूजरूम और मीडिया क्षेत्र में भेदभाव और ऑनलाइन हमलों जैसे अतिरिक्त खतरों का सामना करना पड़ता है। मीडिया उद्योग में महिलाओं की सुरक्षा में सुधार के लिए कुछ संसाधन नीचे दिए गए हैं।

इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ वुमेन इन रेडियो एंड टेलीविजन ने महिला पत्रकारों के लिए एक सुरक्षा पुस्तिका (Safety Handbook for Women Journalists) प्रकाशित की है। यह 95 पृष्ठ की गाइड है। यह संघर्ष क्षेत्रों में महिला पत्रकारों की सुरक्षा पर केंद्रित है। इसमें जोखिम मूल्यांकन, ऑनलाइन उत्पीड़न और यात्रा सुरक्षा संबंधी अनुभाग शामिल हैं।

कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) ने वर्ष 2019 में दो महत्वपूर्ण संसाधन बनाए हैं:

  1. शारीरिक सुरक्षा : एकल रिपोर्टिंग (Physical Safety: Solo Reporting)
  2. शारीरिक सुरक्षा : यौन हिंसा रोकना (Physical Safety: Mitigating Sexual Violence)

सीपीजे ने अमेरिका और कनाडा में महिला पत्रकारों के सुरक्षा मुद्दों पर सर्वेक्षण किया। उसका विवरण इस ब्लॉग पोस्ट में दिया गया है। सीपीजे के सुरक्षा नोट्स के नए खंड में अतिरिक्त सामग्री जोड़ी गई है। इसकी पत्रकार सुरक्षा मार्गदर्शिका भी उपयोगी है।

इंटरनेशनल वुमेन्स मीडिया फाउंडेशन (International Women’s Media Foundation) – इसने महिला पत्रकारों की सहायता के लिए एक आपातकालीन कोष (Emergency Fund) बनाया है। इसमें कानूनी और चिकित्सा सहायता के अलावा आपातकाल में सुरक्षित यात्रा जैसे खर्च शामिल हैं।

जीआईजेएन ने विभिन्न सुरक्षा गाइडों और ऐसे संगठनों का एक संसाधन पृष्ठ  तैयार किया है, जो पत्रकारों को खतरे में सहायता प्रदान करते हैं। जिस देश में पत्रकार की सुरक्षा को खतरा है, वहां से बाहर ले जाने के अलावा चिकित्सा और कानूनी सहायता प्रदान की जाती है।

यूरोपियन सेंटर फॉर प्रेस एंड मीडिया फ्रीडम (European Center for Press & Media Freedom) ने एक अलार्म सेंटर शुरू किया है। इसमें कोई महिला पत्रकार एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग के जरिए खुद पर हमलों की रिपोर्ट करके मदद मांग सकती हैं। संदेशों को महिला कर्मचारियों द्वारा खोला जाता है और रिपोर्ट को गोपनीय रखा जाता है।

इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स (आईएफजे) (International Federation of Journalists) महिला पत्रकारों के खिलाफ हिंसा रोकने के लिए यह एक अभियान  चला रहा है। इस अभियान में इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन  (International Labor Organization) का सहयोग मिल रहा है। इसके संसाधनों में टूलकिट, प्रकाशन और प्रासंगिक नीतियों के लिंक शामिल हैं। आईएफजे पत्रकारों की समस्याओं का समाधान करने और संबंधित सरकारों पर सार्थक बदलाव के लिए दबाव बनाने के लिए सहायता और संसाधन प्रदान करता है। नवंबर 2019 में आईएफजे ने महिला पत्रकारों की ऑनलाइन ट्रोलिंग के खिलाफ सामूहिक रूप से लड़ने के लिए दिशानिर्देश जारी किए।

आईडब्ल्यूएमएफ के योगा वीडियो – महिला पत्रकारों के लिए सुरक्षा उपायों के साथ ही अपनी देखभाल भी महत्वपूर्ण है। काम का तनाव दूर करने, मानसिक आधात से निपटने और अपने काम पर ध्यान केंद्रित करने के लिए योगा अभ्यास काफी उपयोगी है। आईडब्ल्यूएमएफ ने विशेष रूप से महिला पत्रकारों के लिए यह वीडियो डिजाइन किया है। सुबह और शाम के योगा अभ्यास के लिए इसे देखें।

ट्रॉल-बुस्टर डॉट कॉम (Troll-Busters.com) – एक वैश्विक अभियान है। यह पत्रकारों के लिए ‘ऑनलाइन कीट नियंत्रण‘ प्रदान करता है। यह खासकर महिला पत्रकारों पर केंद्रित है। यह ऑनलाइन खतरों और उत्पीड़न की पहचान, सूचित करने और रोकथाम में विशेषज्ञता रखता है। उनके पास महिला पत्रकारों के लिए विशिष्ट संसाधन और प्रशिक्षण भी हैं।

पेन अमेरिका  (PEN America) ने हाल ही में ‘ऑनलाइन हैरेसमेंट फील्ड मैनुअल‘ जारी किया। यह ऑनलाइन उत्पीड़न और नफरत अभियान से बचाव के लिए व्यावहारिक उपकरणों और उपायों की जानकारी देने वाला फील्ड मैनुअल है। इसे साइबर-स्टॉकिंग, डॉकिंग, हेट स्पीच और डिजिटल उत्पीड़न के अन्य रूपों पर सलाह, मार्गदर्शन और संसाधनों का एक संपूर्ण गाइड कहा गया है। इसमें ‘क्या करें‘ पर सार्वभौमिक सलाह के अलावा विभिन्न प्रासंगिक अमेरिकी कानूनों की जानकारी शामिल है।

बाइट बैक (Byte Back) ‘इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स‘  (International Federation of Journalists) और एशिया प्रशांत क्षेत्र में पार्टनर संगठनों ने वर्ष 2016 में यह अभियान शुरू किया। बाइट बैक अभियान का मकसद महिला पत्रकारों पर साइबर धमकियों और ऑनलाइन उत्पीड़न का मुकाबला करना है। इसमें ऑनलाइन उत्पीड़न और ट्रोलिंग से निपटने के लिए संसाधन, रणनीति और सहयोग प्रदान किया जाता है।

‘एक्सेस नाऊ‘ की डिजिटल सुरक्षा हेल्पलाइन (Access Now’s Digital Security Helpline) इसमें दुनिया भर के पत्रकारों और संगठनों को निशुल्क सहायता मिलती है। इसके तहत डिजिटल सुरक्षा प्रथाओं को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है। अंग्रेजी, स्पेनिश, फ्रेंच, जर्मन, पुर्तगाली, रूसी, ऑस्ट्रोनेशियन भाषा तागालोग, अरबी और इतालवी में दो घंटे के भीतर त्वरित आपातकालीन सहायता उपलब्ध है।

डीआईवाई गाइड टू फेमिनिस्ट साइबर सिक्यूरिटी (A DIY Guide to Feminist Cybersecurity)  यह महिलाओं की साइबर सुरक्षा के लिए एक गाइड है। इसमें ऑनलाइन ट्रैकिंग, धोखाधड़ी और बेनामी उपकरणों को अवरुद्ध करने, मैलवेयर से बचाव, मजबूत प्रमाणीकरण प्रथा अपनाने, सोशल मीडिया पर गोपनीयता जैसे मामलों के अलावा डिवाइस और संचार एन्क्रिप्शन (स्पेनिश संस्करण) की जानकारी मिलती है।

स्पीक अप एंड स्टे सेफ (आर): ऑनलाइन उत्पीड़न से बचाव की गाइड  (Speak Up & Stay Safe (r): A Guide to Protecting Yourself From Online Harassment) यह फेमिनिस्ट फ्रीक्वेंसी द्वारा जारी किया गया है। इसमें सोशल मीडिया और गेमिंग प्लेटफॉर्म पर डॉक्सिंग, गोपनीयता, कंपार्टमेंटलाइजेशन प्रथाओं, प्रमाणीकरण सुरक्षा को मजबूत करने, व्यक्तिगत वेबसाइट सुरक्षा, भौतिक मेल गोपनीयता का मुकाबला करने जैसे मामलों पर उपयोगी सलाह दी गई है।

एलर्टा माचिट्रॉल ने महिलाओं के खिलाफ डिजिटल हिंसा का मुकाबला करने के लिए वर्ष 2015 में करिस्मा फाउंडेशन ने इसे शुरू किया। यह कोलंबिया-आधारित स्पेनिश-भाषा का अभियान है। यह ऑनलाइन उत्पीड़न से लड़ने के लिए अलर्ट जनरेटर  (Alert Generator) और मनोरंजक तरीके से स्वयं सहायता रणनीतियां प्रदान करता है।

क्रैश ओवरराइड नेटवर्क  (Crash Override Network) का संसाधन केंद्र – इसमें ऑनलाइन दुरुपयोग के मामलों में उपयोगी टूल, गाइड और सेवाओं की सूची दी गई है। इसमें डॉक्सिंग और बगैर सहमति वाली अंतरंग तस्वीरों और व्यक्तिगत डेटा, पासवर्ड और उपकरणों की सुरक्षा भी शामिल है।

ऑनलाइन एसओएस  (Online SOS) यह एक गैर-लाभकारी संगठन है। यह अमेरिकी पत्रकारों पर किसी भी प्रकार के ऑनलाइन उत्पीड़न मामलों पर ध्यान केंद्रित करता है। यह कानून प्रवर्तन एजेंसियों से जुड़ी मदद, कानूनी उपचार, रोजगार से संबंधित विकल्प, केस प्रबंधन, प्लेटफॉर्म पर विस्तार, विशेषज्ञ रेफरल और संकट से निपटने के संबंध में मुफ्त सहायता प्रदान करता है।

टेक बैक द टेक  (Take Back the Tech) यह एक वैश्विक सहयोगी अभियान है। इसका उद्देश्य महिलाओं के खिलाफ हिंसा में प्रौद्योगिकी के उपयोग पर रोक लगाना है। यह प्रौद्योगिकी से संबंधित उत्पीड़न, उपकरणों के लिए डिजिटल सुरक्षा टूलकिट और अधिकारों के लिए संसाधन, आत्म-देखभाल और उत्तरजीवी पीड़ितों को सहायता प्रदान करता है। यह स्थानीय अभियान शुरू करने में भी सहायता करता है।

वर्ष 2019 में अकेली महिला पत्रकार की यात्रा के लिए सबसे खराब और सबसे सुरक्षित देश (The Worst (& Safest) Countries for Solo Female Travel in 2019) पत्रकार आशेर फर्गुसन और लिरिक बेन्सन ने 50 देशों का यह एक अध्ययन किया है। महिलाएं अकेले यात्रा करते समय कैसे सुरक्षित रह सकती हैं, इस पर 42 टिप्स देखें

सेफ्टी ऑफ फिमेल जर्नलिस्ट्स ऑनलाइन ( “Safety of Female Journalists Online Guide) – मीडिया की स्वतंत्रता (आरएफओएम) पर ओएससीई प्रतिनिधि के कार्यालय द्वारा यह 200 पृष्ठ की संसाधन मार्गदर्शिका विकसित की गई है।

महिलाओं से भेदभाव और उत्पीड़न पर संसाधन

पत्रकारिता सहित अधिकांश उद्योगों में कार्यस्थल पर महिलाओं के साथ भेदभाव और उत्पीड़न आम समस्या हैं। काउंसिल ऑन फॉरेन रिलेशंस की ताजा रिपोर्ट  के अनुसार 18 देशों में अब भी महिलाओं को रोजगार करने के लिए अपने पति की अनुमति लेना जरूरी है। 59 देशों में महिलाओं को कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ कोई कानूनी सुरक्षा नहीं मिलती। 104 देशों में महिलाएं किस प्रकार की नौकरी कर सकती हैं, इसे लेकर कई तरह के प्रतिबंध हैं। महिलाओं के साथ वेतन संबंधी भेदभाव भी एक वैश्विक समस्या है। इसलिए महिला पत्रकारों को कार्यस्थल में लैंगिक भेदभाव और यौन उत्पीड़न से निपटने के लिए उपलब्ध कुछ संसाधन यहां प्रस्तुत हैं।

वुमेन इन न्यूज (Women in News) ने अपने मीडिया संगठनों में यौन उत्पीड़न रोकने के लिए नियोक्ताओं और कर्मचारियों के लिए एक टूलकिट विकसित किया है। इसका अरबी, स्पेनिश, फ्रेंच, वियतनामी, बर्मी और रूसी में भी अनुवाद किया गया है। टूलकिट में एक व्यावहारिक मार्गदर्शिका, जागरूकता पोस्टर, आदर्श नीतियां, सर्वेक्षण और संचार टेम्पलेट शामिल हैं। ‘वुमेन इन न्यूज‘ संस्था के पास महिलाओं के लिए बेहतर कामकाजी माहौल बनाने में प्रबंधकों की मदद करने के लिए विभिन्न संसाधन  भी हैं। यह संगठन उप-सहारा अफ्रीका, मध्य पूर्व और दक्षिण पूर्व एशिया में काम करता है। उनके पॉडकास्ट  ‘द बैकस्टोरी‘  में मीडिया संगठनों में महिला नेतृत्व के मुद्दों पर चर्चा होती है।

यूनेस्को और इंटरनेशनल सेंटर फॉर जर्नलिस्ट्स (आईसीएफजे) ने मिलकर महिला पत्रकारों के खिलाफ ऑनलाइन हिंसा पर एक सर्वेक्षण प्रकाशित किया है। इसे ऑनलाइन हिंसा पर अब तक का सबसे व्यापक सर्वेक्षण कहा जा सकता है। इसमें भौगोलिक रूप से भी काफी विविधता है। इस सर्वेक्षण में 113 देशों की 714 महिला पत्रकारों की प्रतिक्रिया शामिल है।

इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स (आईएफजे) (International Federation of Journalists) महिला पत्रकारों के खिलाफ हिंसा रोकने के लिए यह एक अभियान  चला रहा है। इस अभियान में इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन  का सहयोग है। इसके संसाधनों में टूलकिट, प्रकाशन और महिला पत्रकारों के वेतन संबंधी भेदभाव के लिंक शामिल हैं। आईएफजे पत्रकारों की समस्याओं का समाधान करने और संबंधित सरकारों पर सार्थक बदलाव के लिए दबाव बनाने और उत्पीड़न रोकने के लिए सहायता और संसाधन  प्रदान करता है।

टाइम्स अप लीगल डिफेंस फंड (TIME’S UP Legal Defense Fund) यह संगठन अमेरिका में कार्यरत है। कार्यस्थल में यौन उत्पीड़न और भेदभाव की शिकार महिलाओं को यह संगठन वकीलों और मीडिया विशेषज्ञों से जोड़ता है।

वाशिंगटन स्थित ‘प्रेस फॉरवर्ड‘  (Press Forward) ने कार्यस्थल में यौन उत्पीड़न की शिकार महिला पत्रकारों के लिए एक चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका बनाई है। इसके पास अन्य प्रासंगिक संसाधन भी हैं। इन्हें अमेरिकी कानूनों और नीतियों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। लेकिन यह अन्य देशों के लिए भी उपयोगी हैं।

प्रेनो ला-उन (Prenons la une) यह फ्रांस में महिला पत्रकारों का एक संघ है। यह मीडिया में महिलाओं के उचित प्रतिनिधित्व और न्यूजरूम में पेशेवर समानता की वकालत करता है। यह नेटवर्क भेदभाव और उत्पीड़न का सामना कर रही महिलाओं को सहायता प्रदान करता है।

ब्राजीलियाई एसोसिएशन ऑफ इन्वेस्टीगेटिव जर्नलिज्म (अब्राजी)  (Brazilian Association of Investigative Journalism) ने मीडिया उद्योग में महिलाओं के सामने आने वाली चुनौतियों पर शोध किया। इसके निष्कर्षों के आधार पर ‘मुलहेरेस नो जर्नलिज्मो ब्रासीलेरियो‘ (Mulheres No Jornalismo Brasileiro) ने ब्राजील के मीडिया संस्थानों में लिंग-आधारित उत्पीड़न, भेदभाव और हिंसा से निपटने के लिए अनुशंसा तैयार की। वर्ष 2018 में ब्राजील की 50 महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न और भेदभाव के खिलाफ फेसबुक और ट्विटर  पर एक वीडियो घोषणापत्र   जारी किया। इसके लिए हैशटैग “Let Her Work.” का उपयोग किया गया। इस हैशटैग का अर्थ है ‘लेट हर वर्क‘ – यानी उसे अपना काम करने दो।

कैमरून मीडिया वुमेन (Cameroon Media Women) यह एक व्हाट्सएप ग्रुप और बंद फेसबुक पेज है। वर्ष 2018 में इसे ‘मी-टू आंदोलन’ के दौरान लॉन्च किया था। इसका हैशटैग #StopSexualHarassment237 रखा गया था। यह कैमरून देश का ‘कोड‘ है। ट्विटर पर महिला पत्रकारों ने चर्चा करके न्यूजरूम में महिलाओं से जुड़े मुद्दों पर विचार और वीडियो साझा किए।

मी-टू आंदोलन (#MeToo movement) ने एशिया में अपनी गहरी छाप छोड़ी। ‘अनकवरिंग एशिया 2018‘ (GIJN panel at Uncovering Asia 2018) शीर्षक एक जीआईजेएन पैनल में महिला पत्रकारों ने चीन और जापान में यौन उत्पीड़न की जांच और कवर करने संबंधी अनुभव साझा किए। इसके अलावा, यहां जीआईजेएन के हांगकांग ब्यूरो से चीन में मी-टू आंदोलन को कवर करने में खोजी पत्रकारों की भूमिका पर एक श्रृंखला है

द सेकेंड सोर्स (The Second Source) यूनाइटेड किंगडम में महिला पत्रकारों के एक समूह ने इसका गठन किया था। इस संगठन का उद्देश्य महिलाओं को उनके अधिकारों के बारे में सूचित करना, जागरूकता बढ़ाना और मीडिया उद्योग में बदलाव लाना है।

वुमेन इन न्यूज (Women in News) इसका एक ताजा अध्ययन:  ‘ग्लास सीलिंग्स : वीमेन इन साउथ अफ्रीकन मीडिया हाउसेस‘  (Glass Ceilings: Women in South African Media Houses) काफी महत्वपूर्ण है। यह मीडिया संगठनों में लैंगिक उत्पीड़न के सामान्य मुद्दों की पहचान करता है। उनसे निपटने के लिए सिफारिशें भी दी गई हैं।

डिजिटल वुमन लीडर्स  (Digital Women Leaders) इसके द्वारा महिला पत्रकारों को व्यक्तिगत रूप से 30 मिनट के लिए मुफ्त परामर्श प्रदान किया जाता है। इसमें कार्यस्थल पर भेदभाव, उत्पीड़न और वेतन के अंतर जैसे मुद्दे शामिल हैं।

टोटेम प्रोजेक्ट  (The Totem Project) इसने ‘इंटरनेशनल वुमेन मीडिया फाउंडेशन‘ के साथ साझेदारी में उत्पीड़न पर कई ऑनलाइन पाठ्यक्रम बनाए हैं। यह विभिन्न भाषाओं में उपलब्ध हैं।

‘वुमेन डिजर्व बेटर, द डब्ल्यूएचओ कुड लीड द वे‘ (Women deserve better. The WHO could lead the way) प्रोफेसर शीला ट्लाऊ और न्यूजीलैंड की पूर्व प्रधानमंत्री हेलेन क्लार्क, (2022)

जेंडर एंड लैंग्वेज (Gender & Language) लिंग आधारित भाषा किस तरह नन-बाइनरी लोगों पर कोई असर डालती है और समाज उन्हें कैसे देखता है? (2022)

रिपोर्टिंग ऑन सेक्सुअल वॉयलेंस इन कॉन्फ्लीक्ट (Reporting on Sexual Violence in Conflict) डार्ट सेंटर यूरोप, (2022)

इमेज: शटरस्टॉक

सलाहकार ढूँढना

महिला पत्रकारों को अपने बेहतर काम के लिए कुशल सलाहकार, गुरू या मेंटर्स काफी उपयोगी हो सकते हैं। ऐसे लोगों के पास काफी अनुभव और ज्ञान होता है। ये आपको कई तरह के मुद्दों में मदद कर सकते हैं। जैसे, किसी परियोजना को लेकर आगे बढ़ना, उचित वेतन के लिए बातचीत करना, अस्वस्थ कार्य वातावरण में किसी सहयोगी के साथ कठिन संबंध को सुलझाना इत्यादि। आपको बेहतर सलाहकार खोजने में समय लग सकता है। लेकिन विशेष रूप से महिला पत्रकारों के लिए कई संसाधन उपलब्ध हैं। यहां उनकी जानकारी दी गई है।

डिजिटल वुमन लीडर्स  (Digital Women Leaders) इसमें महिला पत्रकारों को 30 मिनट के लिए व्यक्तिगत रूप से निःशुल्क कोचिंग की सुविधा है। इसके अधिकांश सलाहकार (मेंटर्स) अमेरिकी मीडिया में काम करते हैं। लेकिन कुछ अन्य देशों से भी हैं। कार्यस्थल पर उत्पीड़न या वेतन संबंधी भेदभाव के मामले दुनिया भर में लगभग एक जैसे हैं। इसलिए आप किसी भी देश के विशेषज्ञ से सलाह ले सकती हैं।

द सेकेंड सोर्स  (The Second Source) ने यूके में एक ‘मेंटरशिप स्कीम’  शुरू की है। इस प्रोग्राम का उद्देश्य उन महिलाओं की मदद करना है, जो पेशेवर पत्रकार के रूप में शुरुआत कर रही हैं, या जो मीडिया उद्योग से बाहर निकलने पर विचार कर रही हैं। जिन महिला पत्रकारों को किसी नई दिशा अथवा परामर्श की आवश्यकता हो, उन्हें भी इसमें मदद मिलती है। इसमें कैरियर सलाह के साथ ही काम से संबंधित चुनौतियों से निपटने के लिए सलाह भी मिलती है।

जर्नलिज्म एंड वुमेन सिम्पोजियम (Journalism & Women Symposium) यह अमेरिका आधारित संगठन है। इसमें सदस्यों के लिए साल भर का मेंटरिंग प्रोग्राम  (mentoring program) है। इसमें महिला पत्रकारों को उनकी जरूरत और स्थान के आधार पर सलाहकारों के साथ जोड़ा जाता है। उन्हें अपना स्वयं का शेड्यूल और संचार का तरीका निर्धारित करने की सुविधा मिलती है। इसमें कैरियर कोचिंग, अपना रीज्यूमे या बायो-डाटा लिखने में सहयोग, नौकरी के लिए साक्षात्कार, प्रबंधन और नेतृत्व जैसे विषयों पर सहायता मिलती है।

कॉलिशन फॉर वुमेन इन जर्नलिज्म (Coalition for Women in Journalism) इसके द्वारा मेक्सिको, लैटिन अमेरिका और एशिया में अनुभवी महिला पत्रकारों के माध्यम से सलाह  उपलब्ध कराई जाती है।

चिकास पोडेरोसस  (Chicas Poderosas) इसके 16 देशों में चैप्टर हैं। यह खोजी पत्रकारिता पर कार्यशालाओं और हैकथॉन का आयोजन करता है। यह नेतृत्व, डिजिटल और नए मीडिया कौशल में महिलाओं को प्रशिक्षित करता है। इसमें परामर्श और फैलोशिप की सुविधा भी है।

वीमेन इन जर्नलिज्म (Women in Journalism) यूके में महिला पत्रकारों का यह एक लंदन स्थित पेशेवर नेटवर्क है। इसके पास नवोदित पत्रकारों के साथ ही ऐसी स्थापित पत्रकारों के लिए भी एक परामर्श कार्यक्रम  है, जो वरिष्ठ पदों तक पहुँचना चाहती हैं।

वुमेन इन न्यूज (Women in News) के द्वारा उप-सहारा अफ्रीका, मध्य पूर्व और दक्षिण पूर्व एशिया में महिला पत्रकारों के लिए सामूहिक परामर्श और कोचिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाती हैं।

जर्नलिस्ट-इनबंड (Journalistinnenbund ) यह जर्मनी में उभरती महिला पत्रकारों के लिए इसका एक परामर्श कार्यक्रम है।

लैटिनस इन मेंटरशिप कार्यक्रम (Latinas in Journalism Mentorship Program) यह अमेरिका स्थित लैटिन महिलाओं और नन-बाइनरी पत्रकारों के लिए है जिन्हें मीडिया में काम के दौरान सलाह की आवश्यकता हो।

अनुदान और फैलोशिप

विशेष रूप से महिला पत्रकारों और महिलाओं के बारे में स्टोरीज के लिए डिजाइन किए गए प्रमुख अनुदान और फैलोशिप या छात्रवृत्ति का विवरण यहां प्रस्तुत है। पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए उपलब्ध अनुदान और फैलोशिप की सामान्य सूची के लिए देखें: जीआईजेएन रिसोर्स पेज

इंटरनेशनल वुमेन्स मीडिया फाउंडेशन (International Women’s Media Foundation) के पास दुनिया भर में महिला पत्रकारों के लिए कई अनुदान हैं। इनकी समय सीमा पूरे वर्ष अलग-अलग होती है। इसके कुछ अनुदान/फैलोशिप इस प्रकार हैं-

वानाडाटा (WanaData) महिला अफ्रीकी पत्रकारों, डेटा वैज्ञानिकों और डेटा-संचालित खबरें लिखने में सहयोग करने वाले तकनीकी लोगों का नेटवर्क है। ‘वानाडाटा‘ नेटवर्क ने अपने भागीदारों के साथ मिलकर युगांडा की महिला पत्रकारों के लिए एक डिजिटल पत्रकारिता प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू किया है।

फिमेल जर्नलिस्ट्स लीडरशिप फैलोशिप  (Female Journalists Leadership Fellowship) का मुख्यालय नाइजीरिया के लागोस में है। यह ‘वोले सोयिंका सेंटर फॉर इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म‘  द्वारा संचालित है। इसे ‘फ्री प्रेस अनलिमिटेड‘  का सहयोग प्राप्त है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य नाइजीरियाई महिला पत्रकारों को उनके प्रकाशनों में नेतृत्व की स्थिति लेने और महिला पत्रकारों का एक नेटवर्क बनाने के लिए कौशल-निर्माण, सहयोग और उपकरणों के माध्यम से कम-से-कम तीन साल के अनुभव के साथ सशक्त बनाना है

वुमेन इन न्यूज (Women in News) हर साल उप-सहारा अफ्रीका से 50 महिला पत्रकारों और मध्य-पूर्व व उत्तरी अफ्रीका की 30 महिला पत्रकारों का चयन किया जाता है। इनमें न्यूजरूम प्रबंधन, नेतृत्व और संपादकीय कौशल को आगे बढ़ाने के लिए संपादक या वरिष्ठ पत्रकार शामिल होती हैं। यह कार्यक्रम ऑनलाइन नेतृत्व और मीडिया प्रबंधन प्रशिक्षण, व्यक्तिगत कोचिंग सहायता, सहकर्मी सलाह और राष्ट्रीय और क्षेत्रीय नेटवर्किंग की सुविधा प्रदान करता है।

चिकास पोडेरोसस  (Chicas Poderosas) के लैटिन अमेरिका और स्पेन के 13 देशों में चेप्टर हैं। इसने अमेरिकी समाचार कक्षों में फैलोशिप की सुविधा प्रदान की है। संगठन की न्यू वेंचर्स लैब  महिलाओं के नेतृत्व वाले स्वतंत्र मीडिया उपक्रमों के लिए मार्गदर्शन और वित्तपोषण भी करती है।

फॉरेन पॉलिसी इन्ट्रप्टेड  (Foreign Policy Interrupted) महिलाओं को विदेश नीति के क्षेत्र में फ़ैलोशिप कार्यक्रम  प्रदान करता है। यह कार्यक्रम एक ऑनलाइन शैक्षिक मॉड्यूल और संपादकीय कनेक्शन के माध्यम से मीडिया और ब्रांडिंग कौशल के निर्माण पर केंद्रित है। यह विश्व स्तर पर सभी महिलाओं के लिए खुला है।

डोरिया फेमिनिस्ट फंड (एमईएनए क्षेत्र) (The Doria Feminist Fund) में एमईएनए क्षेत्र की नई और स्थापित दोनों प्रकार की नारीवादी समूहों को अपना काम जारी रखने और स्थापित करने के लिए अनुदान मिलता है।

महिलाओं के लिए पुरस्कार

अपने काम को सुर्खियों में लाने और मान्यता प्राप्त करने के लिए पुरस्कार एक शानदार तरीका है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वैश्विक और क्षेत्रीय पुरस्कारों की एक सामान्य निर्देशिका में काफी अवसरों की जानकारी जीआईजेएन के रिसोर्स पेज में उपलब्ध है। यहां खास तौर पर महिलाओं के लिए उपलब्ध पुरस्कारों की जानकारी दी जा रही है।

वुमेन्स सोल्यूशन रिपोर्टिंग अवार्ड (“Women’s Solutions Reporting Award”) यह एक विश्वस्तरीय नया मीडिया अवार्ड है।

करेज इन मीडिया अवार्ड (Courage in Journalism Awards) – अंतर्राष्ट्रीय महिला मीडिया फाउंडेशन द्वारा यह साहसिक पत्रकारिता पुरस्कार प्रायोजित किया जाता है। इसमें उन महिला पत्रकारों को सम्मानित किया जाता है, जो सच्चाई को उजागर करने के लिए खतरे का सामना करती हैं और खतरे या दबाव के बावजूद रिपोर्टिंग जारी रखती हैं। यह पुरस्कार दुनिया भर की महिला पत्रकारों के लिए खुले हैं और इसमें नामांकन पर विचार किया जाता है।

लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड  (Lifetime Achievement Award) आईडब्ल्यूएमएफ का यह अवार्ड उन अग्रणी महिला पत्रकारों को सम्मानित करता है जिन्होंने प्रेस की स्वतंत्रता और दुनिया भर में महिलाओं की आवाज को आगे बढ़ाने की प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया है। यह अवार्ड सेवानिवृत्त महिला पत्रकार को भी दिया जा सकता है।

एडिटोरियल लीडरशिप अवार्ड  (Editorial Leadership Award)  ‘वीमेन इन न्यूज‘ द्वारा यह अवार्ड दिया जाता है। यह उप-सहारा अफ्रीका में एक महिला संपादक और मध्य-पूर्व एवं उत्तरी अफ्रीका में एक महिला संपादक को दिया जाता है। इसमें उन्हें सम्मानित किया जाता है, जिन्होंने अपने मीडिया संस्थान में और समाज में अनुकरणीय योगदान दिया है।

आइएडब्ल्यूआरटी डॉक्यूमेंट्री अवार्ड  (IAWRT Documentary Awards) यह इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ वुमेन इन रेडियो एंड टेलीविजन द्वारा प्रायोजित है। यह प्रसारण एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में कार्यरत महिलाओं का वैश्विक नेटवर्क है। अफ्रीका, एशिया, यूरोप और उत्तरी अमेरिका में इसकी शाखाएं (चैप्टर) हैं।  इस वृत्तचित्र पुरस्कार के तहत सामाजिक प्रभाव, नवाचार और उभरती प्रतिभा सहित तीन अलग-अलग श्रेणियों में हरेक दो साल में 1000 डॉलर का पुरस्कार दिया जाता है। दुनिया में कहीं भी रेडियो, टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में कार्यरत महिला निर्माताओं, निर्देशकों और पत्रकारों के लिए यह खुला है।

कैरोलीन जोन्स वीमेन इन मीडिया यंग जर्नलिस्ट अवार्ड  (Caroline Jones Women in Media Young Journalists Award) यह वार्षिक पुरस्कार है। यह ग्रामीण और क्षेत्रीय ऑस्ट्रेलिया में काम करने वाली युवा महिलाओं को मान्यता देता है। कैनबरा में पत्रकारिता, राजनीति और सरकार का गहन अनुभव प्राप्त करने के लिए विजेताओं को व्यक्तिगत शिक्षण कोष, सलाह और यात्रा का अवसर मिलता है।

महिला विशेषज्ञों की तलाश कैसे करें

दुनिया भर में मीडिया में महिला विशेषज्ञों का प्रतिनिधित्व बेहद कम है। कई अध्ययनों से इसका पता चलता है। पुरुष और महिला विशेषज्ञों का संतुलन बनाने के लिए काम करने से वर्तमान स्थिति को बदलने में मदद मिल सकती है।

वर्ष 2018 में बीबीसी ने 50:50 प्रोजेक्ट शुरू किया। इसमें बीबीसी रेडियो, टीवी और ऑनलाइन सामग्री में दिखने वाली महिलाओं के अनुपात का रिकॉर्ड रखना शामिल है। ‘ग्लोबल मीडिया मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट‘  (The Global Media Monitoring Project) दुनिया के मीडिया में लैंगिक भेदभाव पर सबसे बड़ा और सबसे लंबा अध्ययन है।

जीआईजेएन ने विशेषज्ञों की खोज करने वाले पत्रकारों के लिए विश्वसनीय डेटाबेस के साथ सेवाओं के लिए एक संसाधन मार्गदर्शिका तैयार की है। यहां कुछ अन्य संसाधन हैं, जहां आप महिला स्रोतों की तलाश कर सकते हैं।

रिक्वेस्ट ए वूमेन साइंटिस्ट (Request a Woman Scientist) यह प्लेटफॉर्म 500 महिला वैज्ञानिक  (500 Women Scientists) नामक पोर्टल द्वारा प्रायोजित है। यह पत्रकारों को विषयवस्तु की विशेषज्ञता समझने, परियोजना सहयोग, सम्मेलनों और पैनल के लिए विज्ञान के क्षेत्र में ख्यातिप्राप्त महिलाओं के व्यापक बहु-विषयक नेटवर्क से जुड़ने में मदद करता है।

शी-सोर्स (SheSource) यह ‘वुमेन्स मीडिया सेंटर (Women’s Media Center) द्वारा तैयार किया गया 1,100 से अधिक महिला विशेषज्ञों का एक डेटाबेस है। इसमें दुनिया भर के विविध विषयों की एक्सपर्ट शामिल हैं, जिन्हें नाम, कीवर्ड और विशेषज्ञता के आधार पर खोज सकते हैं। स्रोत का बायोडेटा और तस्वीरें भी प्रदान की जाती हैं। वेबसाइट पर एक फॉर्म के जरिए विशेषज्ञों से संपर्क किया जा सकता है।

वुमेन प्लस (Women Plus) यह विभिन्न श्रेणियों द्वारा व्यवस्थित 750 से अधिक तकनीकी विशेषज्ञों की सूची है। इसे स्व-नामांकन के आधार पर बनाया गया है।

द वुमेन्स रूम (The Women’s Room) यह मान्यता प्राप्त पत्रकारों द्वारा उपयोग के लिए बनाया गया महिला विशेषज्ञों का एक वैश्विक डेटाबेस है। इसमें आप विशेषज्ञता, कीवर्ड और भौगोलिक क्षेत्र के आधार पर खोज सकते हैं। प्रासंगिक विषयों पर चैट के लिए एक संवाद मंच  भी है।

ए लिस्ट ऑफ फिमेल फॉरेन पॉलिसी एक्सपर्ट्स इसे फॉरेन पॉलिसी इन्ट्रप्टेड (Foreign Policy Interrupted) ने तैयार किया है। यह विदेश नीति में महिलाओं की आवाज को आगे बढ़ाने का एक मंच है। इसने दुनिया भर में महिला विदेश नीति विशेषज्ञों की यह सूची बनाई है। इसे विभिन्न रुचि के क्षेत्र के अनुसार सजाया गया है। एफपीआई महिला विशेषज्ञों के लिए उपकरण और प्रशिक्षण भी प्रदान करता है।

कोट दिस वुमऩ  (Quote This Woman+) यह एक दक्षिण अफ्रीकी गैर-लाभकारी संगठन है। इसने 200 से अधिक महिला विशेषज्ञों का डेटाबेस बनाया है। इसमें कृषि से लेकर जेनोफोबिया तक के विषयों की विशेषज्ञ शामिल हैं। यदि आप पर्याप्त समय दें, तो आपके लिए किसी खास विशेषज्ञ को खोजने में भी मदद मिल सकती है। यह संगठन लिंग स्रोत अंतर को खत्म करने की पैरवी करता है। यह न्यूज स्टोरीज में पुरुषों और महिला विशेषज्ञों के संतुलन की निगरानी करता है। यह महिला विशेषज्ञों को मीडिया प्रशिक्षण प्रदान करता है। आप समाचार प्रवृत्तियों से संबंधित विशेषज्ञ सूचियां प्राप्त करना चाहें तो इसके न्यूजलेटर  के लिए साइन अप करें।

वोसेस एक्सपर्टास (Voces expertas) यह लैटिन अमेरिका में पत्रकारों से परामर्श करने के लिए महिला विशेषज्ञों की एक ऑनलाइन निर्देशिका (स्पेनिश में) है।

एक्सपर्ट्स ऑन जापान एंड कोरिया (Experts on Japan and Korea) इस खुली निर्देशिका में जापान और कोरिया की 257 महिला विशेषज्ञों की सूची है।

एक्सपर्ट्स ऑन हांगकांग, मकाऊ, मेनलैंड चाइना एंड ताइवान (Experts on Hong Kong, Macau, mainland China, and Taiwan) इसमें इन स्थानों के संबंध में 495 महिला विशेषज्ञों की सूची है।

वुमेन मेक द न्यूज – थाईलैंड  (Women Make the News – Thailand) यह थाईलैंड की महिला विशेषज्ञों का एक डेटाबेस है। इसे पत्रकारों के लिए डिजाइन किया गया है। इसमें आप क्षेत्र, विशेषज्ञता, विषयवस्तु, स्थान और सर्च वर्ड द्वारा खोज सकते हैं।

वुमेन प्लस सोर्सलिस्ट (Women + Sourcelist) वाशिंगटन, डीसी-आधारित नीति थिंक टैंक ब्रूकिंग्स इंस्टीट्यूशन, (The Brookings Institution) ने प्रौद्योगिकी नीति पर 600 से अधिक यूएस-आधारित विशेषज्ञों की महिला स्रोत की यह सूची संकलित की है। इसमें महिलाओं के साथ ही कम प्रतिनिधित्व वाले लिंग की पहचान वाले विशेषज्ञ भी शामिल हैं। यह संसाधन पृष्ठभूमि या विशेषता के आधार पर विशेषज्ञों को खोजने की सुविधा देता है।

वुमेन आलसो नो स्टफ (Women Also Know Stuff) इसमें राजनीति विज्ञान संबंधी महिला विशेषज्ञों को केंद्रित किया गया है। साथ ही, दुनिया भर में विभिन्न विषयों की महिला विशेषज्ञों के बारे में 50 अन्य साइटों की सूची भी है।

वुमेन फॉर मीडिया (Women for Media) यह ऑस्ट्रेलिया में 200 से अधिक प्रमुख एवं नेतृत्वकारी महिला विशेषज्ञों का डेटाबेस है। इसे नाम या कीवर्ड द्वारा खोजा जा सकता है।

एक्सपर्ट वुमेन  (ExpertWomen) यह कनाडा में महिला विशेषज्ञों का एक डेटाबेस है। इसमें कीवर्ड द्वारा खोज सकते हैं। उनसे आसानी से कनेक्शन के लिए संपर्क बटन की सुविधा भी है।

खोजी पत्रकारिता में महिलायें

न्यूज रूम में महिलाएं : समानता, विविधता और लचीलेपन पर दृष्टिकोण।  (Women in newsrooms: perspectives on equity, diversity, and resilience)

सीपीजे के लिए मेक्सिको संबंधी रिपोर्टिंग से जुड़े अनुभव: मार्सेला तुराती  (Marcela Turati on the chilling implications of Mexico’s probe into her reporting)

रायटर संस्थान: यह समाचार साइट भारत में दूरदराज के लोगों तक पहुंचने के लिए डिजिटल पत्रकारिता में सैकड़ों युवा महिलाओं को प्रशिक्षण दे रहा है।

बारहवीं ‘ग्लोबल इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म कांफ्रेंस‘ (#GIJC21) में ‘महिला और खोजी पत्रकारिता: नेतृत्व पर सुझाव‘ विषय पर चर्चा हुई। इसमें सबने माना कि एक उद्योग के रूप में पत्रकारिता का क्षेत्र पहले से ही महिलाओं के लिए काफी अकेलेपन का स्थान रहा है। खोजी पत्रकारिता में यह स्थिति और भी अधिक भयावह है।

खोजी पत्रकारिता में नेतृत्व के लिए महिलाओं को नौ सुझाव इसे पढ़ना उपयोगी होगा। आप नीचे दिए गए पैनल को देख सकते हैं :

 

जीआईजेसी 21 (#GIJC21): टिप्स और प्रस्तुति

ग्यारहवीं ‘ग्लोबल इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म कांफ्रेंस‘ (#GIJC19)  (11th Global Investigative Journalism Conference in Hamburg ) हैम्बर्ग में हुई थी। इसमें दस महिला खोजी पत्रकारों ने अपने व्यक्तिगत अनुभव साझा किए। उन्होंने पत्रकारिता की स्थिति और महिलाओं के सामने आने वाले मुद्दों पर प्रकाश डाला। उस चर्चा का वीडियो  आप यहां देख सकते हैं।

दसवीं ‘ग्लोबल इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म कांफ्रेंस‘ में शीर्ष महिला विशेषज्ञों ने मीडिया जैसे पुरुष-प्रधान क्षेत्र में सफलता के लिए आठ उपाय बताए।

भारत में, महिला पत्रकारों ने महिला-केंद्रित एक ग्रामीण समाचार पत्र लॉन्च किया। यह अब राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में है।

मेक्सिको में खोजी पत्रकारिता में  महिलाएं काफी अग्रणी भूमिका में हैं। इनमें पुलित्जर पुरस्कार विजेता और हार्वर्ड नीमन फेलो सम्मानित महिला पत्रकार शामिल हैं।

ब्राजील में, महिला पत्रकारों ने देश के उत्तर-पूर्वी राज्य पर्नामबुको में महिलाओं की हत्या संबंधी विशेष रिपोर्टिंग के लिए वन-बाई-वन प्रोजेक्ट लॉन्च किया।

अमेरिका में महिलाएं खोजी पत्रकारिता के स्वर्ण युग  का नेतृत्व कर रही हैं। वर्ष 2018 की यह वार्तालाप श्रृंखला की चर्चा (#WomenWhoDare ) सुनें।

दो अमेरिकी प्रोफेसरों ने ‘डेटा नारीवाद‘  (Data Feminism) नामक पुस्तक लिखी है। इसमें यह भी विचार किया गया है कि डेटा विज्ञान और संचार के क्षेत्र में नारीवादी सोच को कैसे लागू किया जा सकता है। इसकी पांडुलिपि अभी सहकर्मी समीक्षा और टिप्पणियों के लिए खुली है। इसमें डेटा पत्रकारिता के कई उदाहरण हैं। डेटा का उपयोग करके संरचनात्मक असमानताओं और विभिन्न प्रकार के शक्ति असंतुलन को चुनौती देने की बात कही गई है।

हमें नारीवादी खोजी पत्रकारिता की आवश्यकता क्यों है?“Why we need feminist investigative journalism,”) यह वीडियो देखें। इस पैनल को 50.50 (50.50) के संपादकों ने मॉडरेट किया था। यह दुनिया में लैंगिक विषयों, कामुकता और सामाजिक न्याय को कवर करने वाला ‘ओपन डेमोक्रेसी‘ का स्वतंत्र मीडिया है। 50:50 ने हाल ही में ‘ट्रैकिंग द बैकलैश‘  (Tracking the Backlash) नामक एक खोजी परियोजना शुरू की। इसमें रूढ़िवादी और कट्टरपंथी समूहों के नेटवर्क की जांच की जाती है जो महिलाओं के यौन और प्रजनन अधिकारों के खिलाफ दकियानूसी विचार रखते हैं।

रिफ्यूज वूमन  (Refuge Woman) ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म इन यूके (The Bureau of Investigative Journalism in the UK) की यह एक अनूठी परियोजना है। इसमें घरेलू हिंसा संबंधी खबरों को एक मंच पर लाया।

विविधता

डेटा

महिला पहचान वाली खोजी पत्रकारों की खबरें और महिला-पहचान के मुद्दे (2022)

कैरियर

रिपोर्ट्स

Sexual Harassment in the Media: 2020-2021 Research (WAN-IFRA Women in News in partnership with City, University of London). (2022)

Report on Women Human Rights Defenders Targeted with Pegasus in Bahrain & Jordan published by Frontline Defenders & Access Now. (2022)


यह गाइड जीआईजेएन की कंट्रीब्यूटिंग एडिटर किरा जालन द्वारा तैयार की गई है। अगर महिला पत्रकारों से सम्बंधित कोई अन्य महत्वपूर्ण संसाधन की जानकारी इसमें नहीं आ सकी हो, तो कृपया अपने सुझाव  hello@gijn.org पर ईमेल करें। हम आपके सुझावों के आधार पर इस सूची का विस्तार करेंगे।

अतिरिक्त संसाधन

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

embracing failure open source reporting

क्रियाविधि

ओपन सोर्स रिपोर्टिंग में अपनी गलतियों से सीखें

ओपन सोर्स क्षेत्र में काम करने का मतलब डेटा के अंतहीन समुद्र में गोते लगाना है। आप सामग्री के समुद्र में नेविगेट करना, हर चीज़ को सत्यापित करना और गुत्थियों को एक साथ जोड़कर हल करना सीखते हैं। हालांकि, ऐसे भी दिन आएंगे जब आप असफल होंगे।

इमेज: मैसूर में एक मतदाता सहायता केंद्र पर जानकारी लेते हुए भारतीय नागरिक, अप्रैल 2024, इमेज - शटरस्टॉक

भारतीय चुनावों में फ़ैक्ट चेकिंग के सबक

लोकतंत्र के मूल्यों को बनाए रखने के लिए तथ्यों के आधार पर मतदाताओं को निर्णय लेने का अवसर मिलना आवश्यक है। इसके लिए ‘शक्ति‘ – इंडिया इलेक्शन फैक्ट चेकिंग कलेक्टिव का निर्माण किया गया। इस प्रोजेक्ट में गूगल न्यूज इनीशिएटिव की मदद मिली। इस पहल का नेतृत्व डेटालीड्स ने किया। इसके साझेदारों में मिस-इनफॉर्मेशन कॉम्बैट एलायंस (एमसीए), बूम, द क्विंट, विश्वास न्यूज, फैक्टली, न्यूजचेकर तथा अन्य प्रमुख फैक्ट चेकिंग (तथ्य-जांच) संगठन शामिल थे। इंडिया टुडे और प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) जैसे मीडिया संस्थानों ने भी इसमें भागीदारी निभाई।

Recorder panel at IJF24

रिकॉर्डर : रोमानिया में स्वतंत्र मीडिया का अनोखा राजस्व मॉडल

रिकॉर्डर को वर्ष 2017 में एक विज्ञापन राजस्व मॉडल की योजना के साथ लॉन्च किया गया था। अब इसकी 90 प्रतिशत आय दर्शकों से आती है। यह रोमानिया का एक स्वतंत्र खोजी मीडिया संगठन है। वीडियो और वृत्तचित्रों में इसकी विशेषज्ञता है।

समाचार और विश्लेषण

जब सरकारें प्रेस के खिलाफ हों तब पत्रकार क्या करें: एक संपादक के सुझाव

जिन देशों में प्रेस की आज़ादी पर खतरा बढ़ रहा है, वहां के पत्रकारों के साथ काम करने में भी मदद मिल सकती है। पत्रकारों को स्थानीय या अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संगठनों के साथ गठबंधन बनाकर काम करने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा- “आप जिन भौगोलिक सीमाओं तथा अन्य चुनौतियों का सामना कर रहे हों, उन्हें दरकिनार करने का प्रयास करें।“