Image: Shutterstock

संसाधन

विषय

ड्रग्स तस्करी की खबरें कैसे लिखें : जीआईजेएन गाइड

इस लेख को पढ़ें

फोटो: शटरस्टॉक

संपादक की टिप्पणी: ग्लोबल इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज़्म कॉन्फ्रेंस इस बार नवंबर में आयोजित की जाएगी। इस कॉन्फ्रेंस में जीआईजेएन की विशेष श्रृंखला के अंतर्गत हमारे नए साथी रिपोर्टर गाइड टू इन्वेस्टिगेटिंग ऑर्गनाइज्ड क्राइम (संगठित अपराध की खोजपरक जांच के लिए गाइड) पर मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। नशीले पदार्थों की तस्करी पर केंद्रित इस अध्याय में जीआईजेएन सदस्य व इनसाइट क्राइम के सह-निदेशक और सह-संस्थापक स्टीवन डुडले ने प्रकाश डाला है। इनसाइट क्राइम अमेरिका में संगठित अपराध की निगरानी, विश्लेषण और जांच पर केंद्रित एक नवाचार है।

नशीले पदार्थों की तस्करी दुनिया की सबसे लाभदायक अवैध गतिविधियों में एक है। नशीले पदार्थों की तस्करी का कुल कारोबार प्रति वर्ष करीब 500 बिलियन डॉलर है, जो स्वीडन जैसे देश के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के बराबर है। नशीले पदार्थ आम आदमी के जीवन पर विपरीत असर डाल रहे हैं। स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों और संबंधित सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च का भी ये भी बड़ा कारण हैं। इसके अलावा नशीली दवाएं हिंसा, नागरिक संघर्ष, राजनीतिक व आर्थिक उथल-पुथल का भी कारण बनी हुई हैं। इस मुद्दे पर अधिकांश कवरेज अक्सर अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क का संचालन कर रहे तथाकथित सरगनाओं और उनके अधीनस्थों पर केंद्रित होता है, जो इस काले कारोबार के मुख्य खिलाड़ी होते हैं। हालांकि, इस अवैध व्यापार से जुड़ी कई और परतों के अलावा इसमें शामिल अन्य लोग व इससे संबंधित अहम मुद्दे भी हैं जो खोजी पत्रकारिता का हिस्सा हो सकते हैं।

सबसे पहले बात करते हैं नशीले पदार्थों के बड़े आपराधिक कारोबारियों की। ये आपराधिक कारोबारी बड़े पैमाने पर वितरण या ‘सप्लाई चेन’ संचालित करते हैं। यह चेन या श्रृंखला किसी भी अन्य वैश्विक व्यापार के नेटवर्क के समान होती है। इस नेटवर्क में भी स्रोत क्षेत्र, वितरण चैनल, लक्षित इलाके और इन इलाकों में नशीली दवाओं को रखने से लेकर उसे लोगों के बीच खपाने तक की पूरी प्रक्रिया सुनियोजित रहती है। इस पूरे नेटवर्क में शामिल लोग एक ही संगठन का हिस्सा भी हो सकते हैं या नेटवर्क का कुछ हिस्सा तीसरे पक्ष के ठेकेदारों द्वारा भी संचालित हो सकता है। कुछ मामलों में, तीसरे पक्ष के ठेकेदार इतना पैसा कमाते हैं कि वे अपना खुद का एक शक्तिशाली आपराधिक संगठन बना लेते हैं। मध्य अमेरिका के शक्तिशाली आपराधिक ड्रग ट्रांसपोर्ट संगठन इनके उदाहरण हैं, जिन्हें अवैध दवाओं को कम दूरी पर ले जाने के लिए अनुबंधित किया जाता है। इसके साथ-साथ पूरे क्षेत्र में तस्करों के कई उपसमूह भी हैं जो मनी लॉन्ड्रिंग में सक्रिय रहते हैं। कभी-कभी पुलिस या सेना के भीतर भी कुछ लोग होते हैं जो ऐसे नेटवर्क की मदद करते हैं या उन्हें संरक्षण देते हैं।

इसमें कोई शक नहीं कि इनमें से कोई भी बड़ा संगठन बिना शीर्ष स्तर के संरक्षण के काम नहीं करता है। यह संरक्षण राजनेताओं, कानून स्थापित करने वाली संस्था, अभियोजन पक्ष या नियामकों में कोई हो सकता है, जो आपराधिक संगठन के व्यावसायिक हितों की रक्षा करता है। इस गुप्त मदद के बदले में वे रिश्वत और अन्य प्रकार की पूंजी प्राप्त करते हैं। उदाहरण के लिए एक राजनेता संरक्षण के एवज में अपने राजनीतिक अभियान के लिए समर्थन की उम्मीद कर सकता है, जिसमें प्रत्यक्ष भुगतान और आर्थिक निवेश का वादा दोनों शामिल हो सकते हैं। बैंकर और आर्थिक रूप से सक्षम कुलीन वर्ग भी चुपचाप नशीली दवाओं के तस्करों के लिए अपने दरवाजे खोलते हैं जो निवेश के सभी प्रकार के अवसरों के साथ-साथ नकद भी लेते हैं। समय के साथ, नशीली दवाओं के तस्कर शासक वर्ग का हिस्सा बन जाते हैं, जिससे कुलीन वर्ग का विस्तार होता है।

नशीले पदार्थों की तस्करी के सहायक प्रभाव भी कवर करने लायक हैं- नशीले पदार्थों की खपत में वृद्धि लोगों को इसमें जकड़ती चली जाती है। इससे स्वास्थ्य पर होने वाला खर्च आसमान छूने लगता है। मादक पदार्थों की तस्करी के क्षेत्रों या बिक्री केंद्रों पर नियंत्रण से संबंधित हिंसा; मादक पदार्थों की तस्करी गतिविधियों द्वारा वित्त पोषित नागरिक संघर्ष; दवाओं का वैधीकरण  या गैर-अपराधीकरण; मादक पदार्थों की तस्करी से निपटने के लिए दंडात्मक दृष्टिकोणों की जमानत के रूप में  क्षति, यानी उधारकर्ता जब डिफाल्टर हो जाता है, तो ऋणदाता को जमानत के रूप में रखी वस्तु को जब्त करने और नुकसान की भरपाई के लिए उसे बेचने का अवसर होता है।  

मुख्य सवाल: स्रोत /सूत्र कौन हैं? आप शोध कैसे करते हैं? आप कहां जाते हैं?

मादक पदार्थों की तस्करी की जांच करना कठिन और खतरनाक है। क्योंकि तस्करी से जुड़ी जानकारी भी कम है और डेटा भी अक्सर संदिग्ध होता है। इसके अलावा, मादक पदार्थों की तस्करी के इर्द-गिर्द सार्वजनिक नीति अत्यधिक विवादास्पद है। चूंकि मादक पदार्थों की तस्करी से निपटने के लिए दंडात्मक दृष्टिकोण अक्सर अधिकांश सरकारों के लिए केंद्रीय स्तंभ होते हैं और इन दंडात्मक नीतियों की जमानत क्षति अक्सर व्यापक होती है।

ज्यादातर मामलों में, सबसे सटीक डेटा प्राप्त करके शुरू करना सबसे अच्छा है। मादक पदार्थों की तस्करी के रुझान पर डेटा आधिकारिक रूप से व स्थानीय स्रोत, साथ ही संयुक्त राष्ट्र जैसी बहुपक्षीय एजेंसियां और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसी सरकारों से प्राप्त किया जा सकता है, जो मादक पदार्थों की तस्करी के रुझानों पर कड़ी नजर रखती हैं। विशेष रूप से, ड्रग्स एंड क्राइम पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (UNODC) और अमेरिकी विदेश विभाग मादक पदार्थों की तस्करी के रुझानों पर नियमित रिपोर्ट जारी करते हैं, जो अक्सर स्थानीय स्रोतों से प्राप्त होते हैं।

हालांकि, सभी मामलों में सावधानी से आगे बढ़ें: मादक पदार्थों की तस्करी, विशेष रूप से नशीली दवाओं की बरामदगी पर डेटा के मामले में आपको जो तस्वीर दिखाई दे रही हैं, वह उसका केवल एक छोटा सा हिस्सा होती है। कुछ मामलों में वास्तविकता से दूर भी रखा जा सकता है। उदाहरण के लिए, एक सरकार जो अधिक सतर्क है वह अधिक नशीले दवाओं को जब्त कर सकती है, लेकिन यह जरूरी नहीं कि उसकी सीमाओं से गुजरने वाली नशीली दवाओं की कहानी में सच्चाई हो। इसके विपरीत, निष्क्रिय या भ्रष्ट सरकार कुछ नशीले पदार्थों को दिखावे के लिए जब्त कर सकती है, लेकिन फिर भी वह तस्करी गतिविधि को जारी रहने देती है।

नशीले पदार्थों की तस्करी के संचालन को समझने के लिए सबसे अच्छा यह है कि आप स्वयं ही उन लोगों के पास जाए, जो इसका कारोबार करते हैं। इसका मतलब है नशीली दवाओं के तस्करों तक पहुंचने की कोशिश करना या न्यायिक दस्तावेजों में उनकी गवाही की समीक्षा करना। ऐसा करने का सबसे अच्छा तरीका है उनके वकीलों से मिलें जिनके पास अक्सर जानकारी होती है या हो सकता है कि वे आपको अपने ग्राहकों तक पहुंचाने में मदद करने के इच्छुक हों। और निःसंदेह, यदि आप किसी जनसुनवाई या जांच में भाग ले सकते हैं, तो ऐसा करें।

इसलिए, आपको कानून प्रवर्तन और खुफिया जानकारी के स्रोत प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए। पुलिस की मादक पदार्थ निषेधक इकाइयों में अभियोजक विशेष रूप से सहायक होते हैं। अगर वे आपसे कुछ मामलों के बारे में खुलकर बात नहीं कर सकते होंगे, तब भी वे आपको सामान्य रूप से बता सकते हैं कि नशीली दवाओं का कारोबार कैसे काम करता है। आपको क्या करना चाहिए और उनसे परे आपको किससे बात करनी चाहिए। लेकिन इस बात से अवगत रहें कि कानून प्रवर्तन व खुफिया स्रोत नशीली दवाओं के व्यापार और इसका मुकाबला करने के अपने प्रयासों की प्रभावशीलता के बारे में अपने पसंदीदा नैरटिव को ही आगे बढ़ाते हैं।

आपको हर प्रकार से न्यायिक दस्तावेज प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए। ये आम तौर पर सार्वजनिक रिकॉर्ड होते हैं। आपको कई देशों में सार्वजनिक रिकॉर्ड कानूनों का उपयोग करके उनसे अनुरोध करने में निपुण होना चाहिए। इन कानूनों के बारे में जानें और उनका सर्वोत्तम उपयोग कैसे करें इसके बारे में भी जानें। ऐसे विशेषज्ञ संगठन भी हो सकते हैं जो उनसे आपके लिए अनुरोध कर सकते हैं या आपकी मदद के लिए अनुरोध पत्र लिखने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

जैसा कि उल्लेख किया गया है, ऐसी असंख्य कहानियां हैं जो आप मादक पदार्थों की तस्करी के संबंध में कर सकते हैं। उन्हें स्रोतों के माध्यम से डेटा तलाशने  के लिए एक अलग सेट की आवश्यकता होती है, लेकिन आम तौर पर एक ही कार्यप्रणाली काम करती है कि मुख्य सूत्रों को ट्रैक करें। फिर उन्हें दूसरे सूत्रों, न्यायिक और अन्य आधिकारिक दस्तावेजों के साथ जोड़े।

स्क्रीनशॉटः  InSight Crime ने नशीली दवाओं की तस्करी में ग्वाटेमाला सरकार की मिलीभगत का खुलासा किया था

मुक़दमों का अध्ययन

ग्वाटेमाला के आंतरिक मामलों के मंत्री

पूर्व सैन्य अधिकारी मौरिसियो लोपेज़ बोनिला के 2012 में ग्वाटेमाला के आंतरिक मंत्री बनने के एक साल बाद, उन्हें मार्लोरी चाकोन रॉसेल नाम के एक शख्स के कुछ मैसेज आने लगे। चाकोन वो शख्स था, जिसे हाल ही में अमेरिकी ट्रेजरी विभाग ने अपनी किंगपिन सूची में जोड़ा था। मनी लॉन्ड्रिंग और मादक पदार्थों की तस्करी के अपराधियों की सूची में चाकोन का नाम सबसे ऊपर था। लेकिन उन भेजे गए संदेशों में चाकोन के पास लोपेज़ बोनिला के लिए एक प्रस्ताव था। इसमें उसने कहा था कि सरकार द्वारा जारी वाहनों और अंगरक्षकों के साथ ड्रग तस्करों की प्रतिद्वंद्वी से मेरी रक्षा करें, इसके बदले में चाकोन ने बोनिला को बड़ी रकम देने का वादा किया था। लोपेज़ बोनिला इस सौदे के लिए सहमत हो गए। बाद में उन्होंने चाकोन के साथ उनके घर में आमने-सामने की बैठक के दौरान भारी रिश्वत स्वीकार की। लेकिन उन्हें यह नहीं पता था कि ड्रग एन्फोर्समेंट एडमिनिस्ट्रेशन (DEA) ने चाकोन के आवास में रिकॉर्डिंग डिवाइस और वीडियो कैमरे लगाए हैं। मेरे द्वारा लिखी गई इस InSight Crime स्टोरी ने तत्कालीन आंतरिक मंत्री और नशीले पदार्थों के कारोबारियों के बीच आपसी संबंध के साथ ही आंतरिक मंत्री की अन्य जालसाजियों का भी खुलासा किया था जो उस समय नशीले पदार्थों के तस्करों के साथ काम कर रहा था, वह खुद को ग्वाटेमाला में अमेरिकी सरकार का सबसे अच्छा सहयोगी भी बता रहा था। यह स्टोरी चाकोन द्वारा अपने वकील के माध्यम से प्रदान की गई गवाही, डीईए एजेंटों और ग्वाटेमेले जांचकर्ताओं और कानून प्रवर्तन अधिकरियों के अलावा लोपेज़ बोनिला के साथ कई साक्षात्कारों के बाद संभव हो सकी । इस खबर के प्रकाशित होने के दो महीने बाद, लोपेज़ बोनिला को अमेरिका में मादक पदार्थों की तस्करी के अपराधों के लिए आरोपी घोषित किया गया था।

माली नार्को के आतंक का जाल

ड्रग एन्फोर्समेंट एडमिनिस्ट्रेशन (DEA) ने 2009 में पश्चिम अफ्रीका में एक स्टिंग ऑपरेशन किया था। स्टिंग ऑपरेशन के दौरान मेज (टेबल) के एक तरफ तीन मालियन नागरिक थे, जो खुद को अल-कायदा का सदस्य बता रहे थे और उनका कहना था कि वे साहरा रेगिस्तान से यूरोप में ड्रग्स की तस्करी में सहायता कर सकते हैं। मेज के दूसरी तरफ दो आदमी थे, एक वेश बदलकर DEA एजेंट व दूसरा, पैसे लेकर मुखबिरी करने वाला। इन दोनों ने खुद को कोलंबिया के क्रांतिकारी सशस्त्र बलों (FARC) के रूप में पेश किया, जो कोकीन तस्करी को लेकर डील कर रहे थे। बैठक के कुछ समय बाद, तीन मालियन नागरिकों को गिरफ्तार कर लिया गया, फिर उन्हें अमेरिका ले जाया गया जहां उन पर मुकदमा चलाया गया और उन्हें “नार्को-आतंकवाद” के लिए दोषी ठहराया गया। जिंजर थॉम्पसन द्वारा ProPublica की यह खबर , नार्को-आतंकवाद क़ानून के उपयोग के लिए अमेरिकी कानून प्रवर्तन कार्यवाही के बारे में बात करने के लिए बेहद उपयोगी साबित हुई।

फ़ार्मा कंपनी के मालिक सैकलर परिवार की भूमिका 

हम अक्सर कल्पना भी नहीं कर सकते हैं कि कुछ प्रतिष्ठित परिवार या कंपनी नशीले पदार्थों की तस्करी करते होंगे, लेकिन कई मशहूर दवा कंपनियां बड़े पैमाने पर अवैध नशीली दवाओं के उपयोग की नींव रखने में बड़ी भूमिका निभाती हैं, कभी-कभी जानबूझकर, कभी-कभी अनजाने में। ऐसा ही एक मामला पर्ड्यू फार्मा (Purdue Pharma) का है। यह सैकलर परिवार के स्वामित्व वाली एक विशाल दवा कंपनी है। जो, वर्षों से, अमेरिका में बड़े पैमाने पर नशीले पदार्थ ऑक्सीकॉन्टीन को बेच रही थी, जिससे नशे की लत पड़ जाती है। कंपनी ने नशीले पदार्थों के बारे में बहुत ही महीन और गलत वैज्ञानिक आंकड़ों के आधार पर एक आक्रामक, भ्रामक मार्केटिंग की। जब डॉक्टरों ने यह दवा लिखने में कटौती कर की, तो लोगों का रूझान अवैध ओपिओइड (नशीले पदार्थों) की तरफ बढ़ गया। पहले हेरोइन और बाद में सिंथेटिक ओपिओइड, फेंटेनाइल। इसका परिणाम पिछले एक दशक में अत्यधिक मौतों के रूप में सामने आया। पैट्रिक रैडेन कीफ की The New Yorker में प्रकाशित खबर में उस परिवार के खिलाफ हुई कानूनी कार्रवाई और उसके उत्थान से लेकर पतन तक की कहानी बयां की गई है। जैसा कि लेख से पता चलता है कि इसके बाद उस परिवार ने लोक-हितैषी उपहारों के माध्यम से अपनी प्रतिष्ठा को चमकाने की कोशिश की, जिसमें न्यूयॉर्क में मेट्रोपॉलिटन म्यूज़ियम ऑफ़ आर्ट के लिए एक विंग दान करना और साथ ही दुनिया भर के कला संग्रहालयों और विश्वविद्यालयों को अन्य बड़े दान देना शामिल है।

नशीले पदार्थों की तस्करी की जांच कैसे करें: 5 सुझाव और उपकरण

  1. थोड़ा ही काफी है: एक केस, एक व्यक्ति, एक कहानी पर फोकस करने की कोशिश करें। इससे आपको जांच के दायरे को सीमित रखने और उनका सही तरीके से प्रबंधन करने में मदद मिलेगी।
  2. मुख्य सूत्र खोजें: सूत्र साक्षात्कार या अपनी जांच को सही दिशा देने के लिए मुख्य सूत्र से जुड़ी जानकारी को सुरक्षित रखें। यह आपको मानवीय कहानियों को अधिक विस्तृत और सम्मोहक  अंदाज में प्रस्तुत करने में मदद करेगा।
  3. धैर्य और सावधानी के साथ स्रोत विकसित करें:  श्रेष्ठ खबर पहली कोशिश में नहीं होती है। संपर्क बनाएं व उनकी समय-समय पर परख करते रहें और उन स्रोतों के साथ संबंध विकसित करें जो किसी एक कहानी से परे हैं।
  4. गहराई से जांच करेंः नशीले पदार्थों की तस्करी की कहानियां केवल सनसनी फैलाने वाली खबरें मात्र नहीं हैं, वे बनावटी संबंधों, सिस्टम से जुड़ी समस्याओं और हमारे जीवन को नियंत्रित करने वाले विषयों को जानने का अवसर प्रदान करती हैं। पाठकों को आकर्षित करने के लिए मादक पदार्थों की तस्करी की खबरों का उपयोग एक शानदार मौके की तरह करें, जिससे आप बड़े मुद्दों पर बात कर सकें।
  5. सबसे पहले सुरक्षा: ऐसी जोखिम भरी खबरें करने का मतलब यह नहीं है कि तस्करों का पता लगाने के चक्कर में खुद शहीद हो जाए। सबसे पहले छोटी सी घटना का विवरण प्रकाशित करें। ऐसी कहानियां खोजें जो आपके लिए कारगर हों, जिनका आपके संपादक और प्रकाशक समर्थन करें और जो आपको या आपके प्रिय लोगों को खतरे में नहीं डालें।

अंत में, मादक पदार्थों की तस्करी एक ऐसा व्यवसाय है जो देशीय सीमाओं के पार फैला है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में समान रूप से फैला है, जिसमें हर वर्ग व जाति के लोग शामिल हैं। यह सार्वजनिक व निजी जीवन के लगभग हर कोने को प्रभावित करता है। इसे ऐसे कवर करें, जिससे व्यवसाय करने वालों को टुकड़ों में तोड़ दें, इसके पीछे की राजनीति और अर्थशास्त्र को समझें। इसे चलाने वाले लोगों की कहानियों को बताएं और इससे कैसे समाज प्रभावित हो रहा है इस पर प्रकाश डालें।

यह भी पढ़ें

Investigative Journalism in a Dangerous Country

A Reporter’s Guide: How to Investigate Organized Crime’s Finances

Follow the Money: How Open Data and Investigative Journalism Can Beat Corruption


स्टीवन डुडले, InSight Crime के सह-निदेशक और सह-संस्थापक हैं। इनसाइट क्राइम का उद्देश्य अमेरिका में संगठित अपराध की निगरानी, विश्लेषण और जांच करना है। वे वॉशिंगटन में अमेरिकन यूनिवर्सिटी के Center for Latin American and Latino Studies में सीनियर फेलो हैं और Miami Herald के पूर्व ब्यूरो प्रमुख तथा पुस्तक MS-13:The Making of America’s Most Notorious Gang के लेखक भी हैं। 

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

जीआईजेएन के स्वीडन में आयोजित सम्मेलन GIJC23 की झलकियां

इन चार वर्षों के दौरान प्रेस की स्वतंत्रता पर खतरों की संख्या और तीव्रता में भी वृद्धि हुई है। इन खतरों ने अब काफी घातक रूप धारण कर लिया है। लेकिन इसकी प्रतिक्रिया भी हुई है। खोजी पत्रकारिता अब पहले से ज्यादा मजबूत और समृद्ध हो चुकी है।

threats democracy journalism tips expose disinformation

रिपोर्टिंग टूल्स और टिप्स

लोकतंत्र पर पांच खतरे और उन्हें उजागर करने के लिए तरीके

फर्जी खबरों की तुलना में सत्य को विकृत करना अधिक प्रभावी है। यह एक जैसी आवाज की प्रतिध्वनि वाले इकोसिस्टम या इको चैंबर बनाने जैसी स्थिति है। इसमें एक ही बात को दोहराने और आगे बढ़ाने के लिए संयोजन या समन्वय में काम करने वाली कई पार्टियां हैं। ये समूह इसे टीवी, इंटरनेट और रेडियो पर प्रसारित करते हैं। लोग एक ही चीज को बार-बार सुनते हैं, तो वह कथा वास्तविक का आधार बन जाती है। इसके कारण साक्ष्य-आधारित रिपोर्टिंग को अब जरूरी नहीं समझा जाता। यह एक बड़ा खतरा है।

अवार्ड

ग्लोबल शाइनिंग लाइट पुरस्कार नाइजीरिया, वेनेज़ुएला, उत्तर मैसेडोनिया और दक्षिण अफ़्रीका के समाचार संस्थानों को 

यह पुरस्कार विकासशील या परिवर्तनशील देशों में खतरनाक परिस्थितियों में की जाने वाली खोजी पत्रकारिता का सम्मान करते है। इस बार प्रविष्टियाँ इतनी अधिक थीं कि पुरस्कार निर्णायकमंडल ने दो अतिरिक्त परियोजनाओं को उत्कृष्टता के प्रमाण पत्र देने का फैसला किया

साइबर जासूसी की महामारी का सामना कर रहे हैं दुनिया के पत्रकार

“पहले किसी जासूसी सॉफ्टवेर को आपके फ़ोन पर सक्रिय करने के लिए आपको किसी लिंक पर क्लिक करना होता था लेकिन अब पेगासस स्पाइवेयर के नवीनतम संस्करण में अब इसकी आवश्यकता नहीं होती है,” उन्होंने बताया। “एक पल आपका फ़ोन सुरक्षित है, अगले ही पल कोई सरकार का आदमी आपकी बातचीत सुन रहा है, और आपको अंदाज़ा भी नहीं है”।