इंटरनेट पर दुष्प्रचार का पर्दाफ़ाश कैसे करें

आज दुनिया भर में गलत सूचनाओं और दुष्प्रचार के काफी मामले सामने आ रहे हैं। खोजी पत्रकार ऐसे मामलों की जांच करके पता लगाते हैं कि इसके पीछे कौन है। लेकिन प्रोपब्लिका से जुड़े पत्रकार क्रेग सिल्वरमैन इसे पर्याप्त नहीं मानते। उनका कहना है कि दुष्प्रचार करने वालों की मंशा समझना भी उतना ही जरूरी है।

पत्रकारों के लिए बहुत उपयोगी है इंटरनेट का यह वेब इंस्पेक्टर !

इस web inspector tool (‘वेब इंस्पेक्टर‘ टूल) का अभी बेहद कम उपयोग किया जा रहा है। जबकि यह किसी वेबसाइट के ‘सोर्स-कोड‘ में छिपी हुई जानकारी का खजाना निकाल सकता है। यह किसी ग्राफिक्स का कच्चा डेटा भी निकाल सकता है। यह उन तस्वीरों और वीडियो को डाउनलोड भी कर सकता है, जिनके बारे में हमें लगता है कि इन्हें ‘सेव‘ नहीं किया जा सकता। ‘वेब इंस्पेक्टर‘ टूल और HTML basics (एचटीएमएल बेसिक्स) की सामान्य समझ हो तो पत्रकार किसी भी वेब-पेज से डेटा स्क्रैप कर सकता है। इसके लिए कंप्यूटर विज्ञान में पारंगत होने की आवश्यकता नहीं है।

पुरानी जानकारी खोजने में बहुत उपयोगी है Wayback Machine

Wayback Machine की “Save Page Now” सेवा में उपयोगकर्ताओं द्वारा प्रतिदिन लाखों यूआरएल संग्रहित (आर्काइव) किए जाते हैं। इसमें कोई भी व्यक्ति किसी भी यूआरएल को संग्रहित कर सकता है। यदि आप एक निःशुल्क खाते से लॉग-इन करते हैं, तो आप किसी भी ‘आउटलिंक‘ को संग्रहित कर सकते हैं। किसी ओरिजिनल पेज में दिए गए बाहरी लिंक को भी आप कैप्चर कर सकते हैं। इस कैप्चर प्रक्रिया की एक रिपोर्ट आपको ईमेल में मिल जाएगी।