आलेख

विषय

दृश्यांकन के माध्यम से ऑनलाइन खोज पर प्रसिद्ध पत्रकार हेंक-वैन-एस के टिप्स

इस लेख को पढ़ें

फोटो: पिक्सल

खोजी पत्रकारों को अब कई सूचनाएं हासिल करने तथा विभिन्न स्रोतों से मिली सूचनाओं की पुष्टि के लिए इंटरनेट पर सर्च करना पड़ता है। सर्च के तरीकों के बारे में जितनी अधिक जानकारी होगी, उतना ही बेहतर नतीजा हासिल होगा।

गूगल सर्च में बेहतर नतीजे पाने का आसान तरीका यह है कि सर्च किए जा रहे शब्द के दोनों तरफ उद्धरण चिह्न लगा दें। इससे जिस शब्द पर आप कोई खोज कर रहे हों, उससे जुड़े सटीक नतीजे दिखेंगे। अधिकांश पत्रकार इस बात को जानते हैं।

लेकिन सटीक खोज का एक और उपयोगी तरीका है। आप किसी व्यक्ति और किसी चीज के बीच कोई संबंध ढूंढना चाहें, तो अंग्रेजी के बड़े अक्षरों में ‘एराउंड‘ (AROUND) शब्द का उपयोग कर गूगल सर्च कर सकते हैं। इसके साथ आप किसी संख्या का उपयोग कर सकते हैं।

विजुअल सर्च एंड वेरिफिकेशन (Visual Search and Verification) विषय पर जीआईजेएन के एक वेबिनार में कई तरह की उपयोगी जानकारी सामने आई। इसमें 85 देशों के 487 पत्रकार शामिल हुए। ओपनसोर्स रिपोर्टिंग विशेषज्ञ हेंक-वैन-एस ने ऑनलाइन जांच के उपयोगी तरीके बताए। वह ‘खोजी पत्रकारिता‘ के लोकप्रिय प्रशिक्षक हैं। दिसंबर 2021 में जीआईजेएन के दो डिजिटल कार्यक्रमों में से पहले वेबिनार  में ऑनलाइन जांच पर चर्चा हुई। इसमें सोशल मीडिया डेटा माइनिंग पर भी चर्चा हुई।

हेंक-वैन-एस ने कहा: “रिसर्च का यह तरीका एक नई तरह की सोच है। इसमें आप पहले से जानते हैं उसे छोड़कर चित्रमय सोच के साथ सर्च करते हैं। यह खोज आपके दिमागी विजुअलाइजेशन और कंप्यूटर की तर्कशक्ति को मिलाकर होती है। इसमें आपको काफी धैर्य के साथ बार-बार जांच करनी है। कई बार गल्तियां होंगी, जिन्हें सुधारते रहना होगा।“

हेंक-वैन-एस ने मुताबिक़ “खोजी पत्रकार वैचारिक सोच के आधार पर खोज में माहिर होते हैं। लेकिन जिस विषय पर जांच या खोज करनी हो, उसके मूल तत्वों को चित्रमय दृश्यों के रूप में देखें। इससे आपको बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।“

उन्होंने कहा- “रिवर्स इमेज सर्च और दृश्यांकन वाली सोच को जोड़कर गूगल में निफ्टी फार्मूलों का उपयोग करें। इससे आप की जांच में नए-नए कदम उठाने के रास्ते खुलेंगे।”

जब आप किसी संदिग्ध फोटो या वीडियो की जांच करें तो उस फोटो या वीडियो को या उसके लिंक को गूगल सर्च में पेस्ट करें। जैसे, नीदरलैंड में पुलिस के इस वीडियो की उत्पत्ति कहां हुई? यूट्यूब प्लेटफॉर्म को छोड़कर इसका पता लगाने के लिए हेंक-वैन-एस ने यह कोड टाइप किया- -site:youtube.com यानी यूट्यूब के पहले ‘माइनस साइट‘ लिखा गया।

हेंक-वैन-एस ने इस सोच को सशक्त बनाने के लिए कई ‘ओपेन-सोर्स टूल‘ बनाने में मदद की है। जैसे- फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफॉर्म के लिए एक उन्नत फिल्टर है: हू पोस्टेड व्हाट (Who Posted What?)

उन्होंने इंटरनेट में आवश्यक दस्तावेज खोजने के लिए सही खोज शब्दों का उपयोग करने की सलाह दी। बताया कि चित्रमय सोच वाले दृष्टिकोण के जरिए आप जो चाहते हैं, उसे पहचानना सीखें। जो बात आप पहले से जानते हैं, सर्च में उसे हटा दें। आवश्यक डेटा खोजने के लिए सबसे तार्किक विधि का उपयोग करें। किसी पाठ को खोजने के लिए एक इमेज का उपयोग करना एक अच्छा तरीका है।

http://www.youtube.com/watch?v=k_LPGC0atJo&t=1336s

उनके कुछ महत्वपूर्ण टिप्स:

  • ऑनलाइन सर्च के दौरान ऐसे शब्द लिखकर सर्च करें, जिनके शब्दों के बारे में आपको यकीन है कि वे अवश्य दिखाई देंगे। जैसे, आप ‘मिस्टर एबीसी‘ के साथ किसी ‘साक्षात्कार‘ की तलाश कर रहे हैं। यदि आप सर्च में साक्षात्कार शब्द लिखकर खोज करेंगे तो शायद इसके मिलने की संभावना कम होगी। यदि साक्षात्कारकर्ता ने अपने टेक्स्ट में लिखा हो कि एक विशेष साक्षात्कार में ‘मिस्टर एबीसी‘ ने ऐसा कहा, तभी वह दिखाई देगा। आप ऐसे साक्षात्कार को खोजने के लिए उद्धरण चिह्नों के साथ लिखें- “मिस्टर एबीसी कहते हैं“ और “मैं“ – इससे आपको बेहतर नतीजे मिल सकते हैं।
  • कुछ उदाहरणों से कीवर्ड खोजें। जैसे, यदि आप इंटरनेट में किसी विशेष मानचित्र की खोज करना चाहते हों, तो पहले यह देखें कि एक सामान्य मानचित्रों पर कौन-कौन से शब्द लिखे होते हैं। संभव है कि वहां ‘मानचित्र‘ शब्द न लिखा मिले। लेकिन एक शब्द ‘स्केल‘ हरेक मानचित्र पर मिल सकता है। इसलिए आप जिस मानचित्र की खोज कर रहे हैं, उससे जुड़े अन्य शब्दों के साथ ‘स्केल‘ शब्द खोजने का प्रयास करें।
  • ऑनलाइन जांच के लिए ऐसे शब्द लिखें, जिन्हें आप खोजना चाहते हैं। जिन चीजों को इस सर्च से बाहर रखना हो, उन शब्दों के पहले ‘माइनस‘ का चिन्ह लगा दें। गलत सूचनाओं का भंडाफोड़ के लिए पत्रकारों को अक्सर यह पता लगाना पड़ता कि किसी झूठ को सबसे पहले फैलाने वाला व्यक्ति कौन है। वेबिनार में हेंक-वैन-एस ने पत्रकारों के साथ एक दिलचस्प काम दिया। वे बोले- उन चार वैज्ञानिकों के नाम खोजकर दिखाएं, जिन्होंने गलत दावा किया था कि कोरोना वायरस एक जैविक हथियार था। इसमें ऐसी ही राय रखने वाले अमेरिकी अकादमिक फ्रांसिस बॉयल को छोड़कर यह सर्च करनी थी। ज्यादातर पत्रकारों ने गूगल सर्च में लिखा- ‘कोरोनो वायरस को जैविक हथियार बताने वाले वैज्ञानिक‘ – लेकिन कोई भी पत्रकार उन चार वैज्ञानिकों के नाम नहीं खोज पाया। हेंक-वैन-एस ने समझाया कि ऐसे दावे करने वाले वैज्ञानिकों ने अपने मूल आलेख में ‘वैज्ञानिक‘ या ‘दावा‘ जैसे शब्दों का उपयोग नहीं किया होगा। इसके बजाय “डॉ के साथ दो एस्ट्रीक्स और उद्धरण चिन्ह (“Dr. * *”) लगाकर देखें। गूगल में दो नामों के लिए रिक्त स्थान भरने की सुविधा है। साथ ही, इस खोज में फ्रांसिस बॉयल को छोड़ने के लिए उनके नाम के पहले ‘माइनस‘ चिन्ह लगा दें। इससे आपको बेहतर नतीजे मिलेंगे।
  • सर्च ‘ऑपरेटर‘ का उपयोग करें: अंग्रेजी के कुछ विशेष अक्षरों को सर्च ‘ऑपरेटर‘ कहा जाता है। इनका उपयोग करके आप ऑनलाइन टेक्स्ट खोज में किसी विषय पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। जैसे, एक सर्च ‘ऑपरेटर‘ है- ‘एराउंड‘ (AROUND)। इसे अंग्रेजी के बड़े अक्षरों में लिखा जाता है। इसके बाद कोष्ठक में उन दो शब्दों के बीच कोई संख्या लिखें, जिन्हें आप जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं। यदि आप किसी शीर्षक में दो शब्द खोज रहे हैं, तो संख्या 7 का प्रयास करें। अंग्रेजी में एक वाक्य के लिए औसत 17 शब्द रखें। एक अनुच्छेद सर्च करने के लिए 30 शब्द लिखें। अन्य भाषाओं में औसत वाक्य और शीर्षक लंबाई के अनुसार लिखें। लेकिन सुनिश्चित करें कि ‘एराउंड‘ और कोष्ठक के बीच कोई स्थान न छोड़ें।हेंक-वैन-एस ने उन चार वैज्ञानिकों के नाम की तलाश के लिए गूगल सर्च में लिखा- “Dr. * *” AROUND(7) “coronavirus is a bioweapon” -boyle । इससे उन्हें सही जानकारी मिल गई।

    आप किसी ऐसे ईरानी व्यक्ति के बारे में जानना चाहते हैं, जिनके नाम की स्पेलिंग आप नहीं जानते। आपको यह भी नहीं मालूम कि फारसी या किसी अन्य भाषा में उसका नाम कैसे लिखा जाए। लेकिन आप उसकी एक सामान्य तस्वीर लेकर सर्च करें। जैसे, उसके ट्विटर खाते से, या गूगल इमेज पर उसकी पहली तस्वीर के आधार पर सर्च करें।

    इसकी तलाश के बाद हेंक-वैन-एस ने कहा कि ऐसे सूत्रों को पूरी तरह से समझना अथवा लागू करना आसान नहीं है। इसका कोई एक सामान्य रास्ता नहीं है। एकमात्र तरीका है कि आप लगातार कोशिश करें। एक बार असफल होते हैं, तो इसका कारण खोजें और फिर से प्रयास करें। जैसे गणित में किया जाता है।किसी विदेशी भाषा में एक व्यक्ति के नाम की स्पेलिंग नहीं जानते हों, तो गूगल इमेज से उस व्यक्ति की एक सामान्य तस्वीर की खोज लें। ‘कंट्री आइडेन्टिफायर‘ में यह मिल सकती है। इसके साथ उस विदेशी भाषा में आपको जरूरी जानकारी मिल सकती है।

  • किसी व्यक्ति की खोज के लिए उसकी इमेज का उपयोग करें। यह पता लगाएं कि विदेशी मीडिया में उसे कैसे कवर किया जाता है। उस व्यक्ति की प्रोफाइल फोटो से लिंक लें और कैमरा आइकन पर क्लिक करने के बाद उसे गूगल इमेज में पेस्ट करें। जेपीईजी के आगे खोज बॉक्स में व्यक्ति का नाम ‘कंट्री आइडेन्टिफायर‘ से बदलें। जैसे, ईरान के लिए site:ir लिखें।हेंक-वैन-एस ने कहा- “आप किसी ऐसे ईरानी व्यक्ति के बारे में जानना चाहते हैं, जिनके नाम की स्पेलिंग आप नहीं जानते। आपको यह भी नहीं मालूम कि फारसी या किसी अन्य भाषा में उसका नाम कैसे लिखा जाए। लेकिन आप उसकी एक सामान्य तस्वीर लेकर सर्च करें। जैसे, उसके ट्विटर खाते से, या गूगल इमेज पर उसकी पहली तस्वीर के आधार पर सर्च करें।
  • हू पोस्टेड व्हाट? –  इसका प्रयोग करें। इंस्टाग्राम इमेज को खोजने के लिए तारीख का उपयोग करें। कुछ इमेज को सामान्य ‘रिवर्स इमेज सर्च‘ में खोजना मुश्किल होता है। उनके लिए इंस्टाग्राम में उस स्थान का नाम टाइप करके एक जियोलोकेशन लिंक प्राप्त करें। फिर इसे ‘हू पोस्टेड व्हाट‘ में पेस्ट करें? साथ में अनुमानित तारीख भी डाल दें। आप यह भी पता कर सकते हैं कि उस फोटो को किस व्यक्ति ने पोस्ट किया है। गूगल सर्च के माध्यम से उनका ट्विटर अकाउंट भी ढूंढ सकते हैं। इमेज के बारे में उनसे कुछ पूछने के लिए उनसे संपर्क भी कर सकते हैं।

जब किसी इमेज को आप ‘रिवर्स इमेज सर्च‘ में नहीं खोज पाएं, तो ‘हू पोस्टेड व्हाट‘ का उपयोग करें। इसमें एक जियो-लोकेशन कोड लिंक और कोई तारीख लिखें। संभव है कि आपको उपयोगी जानकारी मिल जाए। यह उस फोटो को ढूंढने के साथ ही उसके स्रोतों के लिए भी ले जा सकता है।

  • आप जानते हैं कि एक वायरल वीडियो कहां पोस्ट किया गया। लेकिन आप यह भी जानना चाहते हैं कि वह लिंक अन्य किन जगहों पर दिखाई दिया। आप केवल इतना जानते हैं कि इसे यूट्यूब पर पोस्ट किया गया था। आप गूगल में लिंक पेस्ट करें और ‘माइनस‘ चिन्ह के साथ यूट्यूब प्लेटफॉर्म को खोज से बाहर कर दें। जैसे – -site:youtube.com ।इंस्टाग्राम से हटाई गई इमेज को खोजने के लिए भी ‘एक्सक्लूड‘ करने का यही तरीका उपयोग करें। हटाए गए इंस्टाग्राम लिंक को गूगल सर्च में पेस्ट करें। इसे जोड़ें -site:Instagram.com । संभव है कि आपको यह मिल जाए कि उस लिंक को किसी तृतीय-पक्ष साइट से कॉपी और आर्काइव किया गया था।
  • जिस चीज की तलाश करनी हो, उससे जुड़े किसी भी चित्र या दृश्य के बारे में सोचें । उसके विजुअल सुराग क्या हो सकते हैं? जैसे, किसी कंपनी के ‘लोगो‘ भी ऐसी चित्रमय सोच का उदाहरण प्रस्तुत करते है। यदि किसी कंपनी की वेबसाइट पर आपको आवश्यक जानकारी नहीं मिल रही है, तो उसके ‘लोगो‘ की तलाश करें। कई जगहों पर वह ‘लोगो‘ दिख सकता है। जैसे कि कस्टमर लोगो अक्सर कॉर्पोरेट वेबसाइटों पर प्रदर्शित होते हैं। आप गूगल इमेज में एक सामान्य रिवर्स इमेज खोज कर सकते हैं। गूगल सर्च बाॅक्स में आप कंपनी के वेब पते के आगे “-site:” लिखकर कंपनी से जुड़े नतीजों को बाहर कर सकते हैं।
  • जब सर्च के उन्नत उपकरण काम न करें, तो मामूली शाब्दिक खोज का प्रयास करें। हेंक-वैन-एस ने इसका एक दिलचस्प उदाहरण दिया। एक संदिग्ध आतंकवादी की किसी हवाई अड्डे पर खींची गई फोटो का डिटेल पता लगाना था। ‘टिन आई‘TinEye) और ‘यांडेक्स‘ (Yandex ) जैसे शक्तिशाली ‘रिवर्स इमेज टूल‘ भी इसे खोजने में विफल हुए। लेकिन उस दृश्य वर्णन करने वाले एक शब्द ने एक बड़े ‘सुराग‘ का काम किया। उस आतंकवादी के पीछे एक बड़ा पीला टेडी बियर था। इसलिए गूगल इमेज सर्च में लिखा- ‘एयरपोर्ट येलो टेडी बियर‘ – बस इतने पर ही वह इमेज मिल गई। हेंक-वैन-एस ने कहा कि गूगल इमेज में हरा या नीला इत्यादि रंगों की खोज केवल तभी काम करती है, जब उस रंग का नाम अंग्रेजी में लिखा जाए।

अतिरिक्त संसाधन

GIJN Masterclass with Paul Myers: Online Research Tips for Digging into the Pandemic and Beyond

A Red Camaro, an Orange Garbage Can and White Magnolias: Crowdsourcing a Convict on Instagram — an analysis from Henk van Ess

4 Questions for Online Super-Sleuth Paul Myers


रोवन फिलिप जीआईजेएन के संवाददाता हैं। वह पहले दक्षिण अफ्रीका के लिए संडे टाइम्स के मुख्य संवाददाता थे। एक विदेशी संवाददाता के रूप में उन्होंने दुनिया भर के दो दर्जन से अधिक देशों से समाचार, राजनीति, भ्रष्टाचार और संघर्ष पर रिपोर्टिंग की है।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

Invetigative Agenda for Climate Change Journalism

जलवायु समाचार और विश्लेषण

जलवायु परिवर्तन पत्रकारिता के लिए खोजी एजेंडा

दुनिया भर में हजारों पत्रकार जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव पर रिपोर्टिंग कर रहे हैं। ऐसी पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए कई नेटवर्क स्थापित किए गए हैं। ऐसी पत्रकारिता जनसामान्य को सूचित करने और जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण है। यह सत्ता में बैठे उन लोगों को चुनौती देने के लिए भी जरूरी है, जो पर्यावरण संरक्षण की बात करते हैं, लेकिन वास्तव में पृथ्वी को जला रहे हैं। ऐसी सत्ता की जवाबदेही सुनिश्चित करना ही खोजी पत्रकारिता का मौलिक कार्य है।

टिपशीट

पत्रकार अपने स्मार्टफ़ोन से एक बेहतर फोटो कैसे ले सकते हैं

जेपीईजी फ़ाइलें अधिक पूर्ण चित्र बनाने के लिए फ़ोन की कम्प्यूटेशनल शक्ति का उपयोग करती हैं। प्रोरॉ फ़ाइलें तब तक उतनी बेहतर नहीं होंगी, जब तक कि आप उन पर काम न कर लें। वे सफेद के संतुलन और हाइलाइट्स पर बेहतर नियंत्रण प्रदान करती हैं। इनमें छाया और त्वचा टोन का अधिक गतिशील रेंज मिलता है।

Using Social Network Analysis for Investigations YouTube Image GIJC23

रिपोर्टिंग टूल्स और टिप्स

खोजी पत्रकारिता के लिए उपयोगी है ‘सोशल नेटवर्क एनालिसिस’

सोशल नेटवर्क एनालिसिस। यह कनेक्शन, पैटर्न और अनकही कहानियों की एक आकर्षक दुनिया है। पत्रकारों के टूलकिट में यह एक नई शक्तिशाली सुविधा जुड़ी है। यह हमारी दुनिया को आकार देने वाले रिश्तों के छिपे हुए जाल को उजागर करने में सक्षम बनाती है। यह केवल बिंदुओं को जोड़ने तक सीमित नहीं है। इससे सतह के नीचे मौजूद जटिल कहानियां भी उजागर हो सकती हैं।