Image: Shutterstock

आलेख

विषय

पत्रकारों का काम प्रभावी और आसान बनाने वाले पांच ऑनलाइन सर्च उपकरण

इस लेख को पढ़ें

इमेज: शटरस्टॉक

इंटरनेट खोज विशेषज्ञ और लेखिका तारा कैलिशैन ने जावा-स्क्रिप्ट का उपयोग करके सर्च उपकरणों का एक संग्रह बनाया है। इन उपकरणों की मदद से शोध करने वाले पत्रकारों का बहुत समय बचता है। इस आलेख में वह बताती हैं कि उनमें से पांच सर्च उपकरण कैसे काम करते हैं। यह पोस्ट मूल रूप से ‘ऑनलाइन जर्नलिज्म ब्लॉग’ पर प्रकाशित हुई थी। अनुमति लेकर यहां पुनर्मुद्रित किया गया है।

25 साल पहले मैंने ‘इंटरनेट रिसर्च के लिए आधिकारिक नेटस्केप गाइड : विंडोज और मैकिंटोश के लिए’ (Official Netscape Guide to Internet Research: For Windows and Macintosh) लिखी थी। उसके एक साल बाद मैंने अपना ब्लॉग ‘रिसर्चबज’ शुरू किया। लेकिन सर्च इंजन और इंटरनेट पर चीजों को खोजने के मामले मेरे लिए आज भी उतने ही रुचिकर हैं। इस साल मैंने इंटरनेट सर्च से जुड़ी चुनौतियों का हल करने की कोशिश की। मैंने उन्हें कम करने के लिए तकनीकों पर काम करना शुरू किया। यह एक सफल प्रयोग रहा।

इसके लिए मैंने जावा-स्क्रिप्ट सीखना शुरू किया। मैंने मई में स्किलशेयर क्लास में कुछ समय बिताया। जून में गिट-हब अकाउंट शुरू किया। मजदूर दिवस यानि एक मई तक मेरे पास लगभग 20 उपकरणों का संग्रह हो गया। इन्हें मैं रिसर्च-बज सर्च गिज्मोस कहती हूं। वे सभी उपकरण SearchGizmos.com पर निशुल्क उपलब्ध हैं। उनमें से कुछ को एपीआई कुंजियों की आवश्यकता होती है। लेकिन इनकी कुंजियाँ भी मुफ्त हैं। पत्रकारों के लिए सबसे उपयोगी पांच सर्च उपकरण निम्नांकित हैं:

 

1. टारगेटेड बैकग्राउंड रिसर्च: गॉशिप मशीन (Gossip Machine)

स्नूप-डॉग के परिणाम आपको सीधे एक प्रमुख समाचार कार्यक्रम तक ले जाते हैं। इमेज:स्क्रीनशॉट

‘गॉसिप मशीन‘ के जरिए आप किसी भी विषय के लिए संभावित समाचार की तारीख का पता लगाने के लिए पांच साल से भी अधिक समय पुराने पेज की तलाश कर सकते हैं। इसमें विकिपीडिया पेज भी शामिल होते हैं। किसी पेज को कितनी बार देखा गया (पेज-व्यू), इस आधार पर यह दैनिक औसत का आकलन करता है। फिर उस औसत से 150 प्रतिशत  या 190 प्रतिशत अधिक बार देखे जाने की ट्रैफिक वाली तिथियों को फ्लैग करता है। यह प्रतिशत आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली सेटिंग के आधार पर निर्भर करता है। इसके बाद यह उन तिथियों के लिए पहले से भरे हुए गूगल समाचार और गूगल वेब खोज लिंक उत्पन्न करता है ताकि आप सीधे अपने विषय के लिए एक गूगल खोज पर जा सकें।

उदाहरण के लिए, ‘‘मार्गरेट एटवुड‘‘ और 2021 की खोज करने पर चार तारीखें सामने आती हैं। पहले गूगल सर्च लिंक पर क्लिक करने से सीबीसी न्यूज पर एक साक्षात्कार से उस दिन प्रकाशित दो वीडियो क्लिप सामने आते हैं। ‘‘ओलंपिक‘‘ और 2019 (जिस वर्ष ओलंपिक नहीं हुआ था) सर्च करने पर उस वर्ष की 24 जून की तारीख सामने आती है। दरअसल इसी तारीख को यह घोषणा की गई थी कि इटली में 2026 में शीतकालीन खेलों का आयोजन होगा।

जिन पृष्ठों को एक दिन में 7,000 से अधिक बार देखा जाता है, उन मामलों में यह उपकरण अच्छा प्रदर्शन करता है। लेकिन कम पेज-व्यू होने पर भी यह महत्वपूर्ण समाचार तिथियों की तलाश में अच्छा काम करता है।

2. वैकल्पिक सर्च टाइप करके समय बचाएं: कार्ल्स नेम नेट (Carl’s Name Net)

‘कार्ल्स नेम नेट‘  एक नाम के साथ कई वैकल्पिक कीवर्ड लेता है। यह विविध नाम का एक सेट बनाता है। उन नामों को गूगल, गूगल बुक्स, गूगल स्कॉलर और इंटरनेट आर्काइव के लिए सर्च यूआरएल बनाता है। उदाहरण के लिए, यदि आपने ‘जॉन पॉल स्मिथ‘ टाइप किया है, तो आपको कई सर्च लिंक मिलेंगे। उनमें से प्रत्येक प्लेटफॉर्म के लिए इस प्रकार होंगे:

  • जॉन स्मिथ
  • स्मिथ जॉन पॉल
  • जेपी स्मिथ, इत्यादि

गूगल सर्च के लिए यह दो सेट बनाता है। एक सामान्य नाम रूपों के लिए, और एक असामान्य के लिए। यदि आपने कोई मध्य नाम नहीं लिखा है, तो आपको प्रत्येक संसाधन के लिए नाम खोजों का केवल एक सेट मिलेगा। इंटरनेट आर्काइव के लिए, प्रत्येक नाम का अपना सर्च यूआरएल होता है। यह असामान्य स्थानों से परिणाम निकालने का एक तेज तरीका है। सामान्य रूप से छिपे हुए परिणामों के लिए एक और उपकरण है: द एंटी-बुल्सआई नेम सर्च (The Anti-Bullseye Name Search)।

3. एक कीवर्ड आरएसएस अलर्ट बनाएं: केबरफेग (Kebberfegg) आरएसएस जेनरेटर

मुझे लगता है कि रियली सिंपल सिंडिकेशन (आरएसएस) तकनीक के महत्व को इंटरनेट पर सबसे कम समझा गया है। मैं प्रतिदिन आरएसएस फीड्स का उपयोग करती हूँ और मैं उनके बिना ‘रिसर्च-बज‘ का प्रोडक्शन नहीं कर सकती। बिंग, गूगल न्यूज, रेडिफ और वर्डप्रेस सहित लगभग एक दर्जन संसाधनों के लिए केबरफेग के जरिए कीवर्ड-आधारित आरएसएस फीड उत्पन्न किया जा सकता है। यह किसी कीवर्ड के लिए किसी विशेष साइट की खोज करने वाला आरएसएस फीड होता है।

4. अमेरिकी विश्वविद्यालय के पेज को उनकी विशेषताओं के आधार पर सर्च करें: सुपर एडु सर्च (Super Edu Search)

सुपर एडु पर सर्च का एक उदाहरण। इमेज: स्क्रीनशॉट

गूगल की साइट : एडु सर्च मोडिफायर आपके सर्च परिणामों को तुरंत अधिक समृद्ध और आधिकारिक बनाने का एक शानदार तरीका है। लेकिन अतिरिक्त मापदंडों के साथ उसमें फिल्टर करना निराशाजनक है। सुपर एडु सर्च अमेरिकी शिक्षा विभाग के उच्च शिक्षा संस्थान की जानकारी लेता है और इसे गूगल सर्च फिल्टर के रूप में लागू करता है। क्या आप इंडियाना के सभी सरकारी विश्वविद्यालयों के वेब स्पेस को सर्च करना चाहते हैं? या देश के सभी ऐतिहासिक रूप से काले कॉलेज और विश्वविद्यालय (एचबीसीयू) या शायद टेक्सास में सभी बैपटिस्ट संस्थान का सर्च करना चाहते हैं? अब आप जैसी जरूरत हो, वैसी सर्च कर सकते हैं। इस टूल के लिए एक निःशुल्क कुंजी ( Data.gov API key) की आवश्यकता होगी।

 

 

5. विभिन्न सोशल प्लेटफॉर्म पर कई राजनेताओं के आउटपुट खोजें : कांग्रेसनल सोशल मीडिया एक्सप्लोररCongressional Social Media Explorer) (सीएसएमई)

अमेरिकी कांग्रेस के सदस्यों के पास कई सोशल मीडिया आउटलेट हैं जहां से वे अपने विचार पोस्ट सकते हैं। इसलिए किसी पत्रकार के लिए उस सभी जगह को खोजना मुश्किल है। लेकिन सब पर नजर रखने के लिए अच्छा उपकरण उपलब्ध है। सीएसएमई (CSME) प्रत्येक सदस्य के सोशल मीडिया स्पेस पर केंद्रित गूगल प्रश्नावली उत्पन्न करने के लिए प्रो-पब्लिका एपीआइ का उपयोग करता है। यह ऐसी गूगल प्रश्नावली उत्पन्न करता है जो कई फेसबुक और ट्विटर पोस्ट के साथ-साथ कांग्रेस के प्रत्येक सदस्य के लिए फोटो और वीडियो खोजेगा। एक बार में एक राज्य से संबंधित प्रश्नावली उत्पन्न होती है। यह वर्ष 2011 से अब तक के लिए उपलब्ध हैं। इसमें सीनेट और प्रतिनिधि सभा दोनों शामिल हैं।

अतिरिक्त संसाधन

Online Research Tools and Investigative Techniques

Tips for Optimizing Google Search in Investigations, from Online Expert Henk van Ess

Finding People Online: A Tipsheet From Paul Myers


तारा कैलिशैन  ‘गूगल हैक्स‘ और ‘इंटरनेट अनुसंधान के लिए आधिकारिक नेटस्केप गाइड‘ सहित इंटरनेट सर्च पर पुस्तकों की सबसे अधिक बिकने वाली लेखिका हैं। वर्ष 1996 से उन्होंने खोज इंजन और डेटाबेस के बारे में लिखा है। वर्ष 1998 से वह अपने ब्लॉग ‘रिसर्चबज‘ में लिखती हैं। वर्ष 2022 में उन्होंने जावा-स्क्रिप्ट के साथ सर्च उपकरण बनाना शुरू किया और एक नई वेबसाइट ‘सर्च गिज्मोस’  शुरू की।

क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत हमारे लेखों को निःशुल्क, ऑनलाइन या प्रिंट माध्यम में पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।

आलेख पुनर्प्रकाशित करें


Material from GIJN’s website is generally available for republication under a Creative Commons Attribution-NonCommercial 4.0 International license. Images usually are published under a different license, so we advise you to use alternatives or contact us regarding permission. Here are our full terms for republication. You must credit the author, link to the original story, and name GIJN as the first publisher. For any queries or to send us a courtesy republication note, write to hello@gijn.org.

अगला पढ़ें

Recorder panel at IJF24

रिकॉर्डर : रोमानिया में स्वतंत्र मीडिया का अनोखा राजस्व मॉडल

रिकॉर्डर को वर्ष 2017 में एक विज्ञापन राजस्व मॉडल की योजना के साथ लॉन्च किया गया था। अब इसकी 90 प्रतिशत आय दर्शकों से आती है। यह रोमानिया का एक स्वतंत्र खोजी मीडिया संगठन है। वीडियो और वृत्तचित्रों में इसकी विशेषज्ञता है।

समाचार और विश्लेषण

जब सरकारें प्रेस के खिलाफ हों तब पत्रकार क्या करें: एक संपादक के सुझाव

जिन देशों में प्रेस की आज़ादी पर खतरा बढ़ रहा है, वहां के पत्रकारों के साथ काम करने में भी मदद मिल सकती है। पत्रकारों को स्थानीय या अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संगठनों के साथ गठबंधन बनाकर काम करने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा- “आप जिन भौगोलिक सीमाओं तथा अन्य चुनौतियों का सामना कर रहे हों, उन्हें दरकिनार करने का प्रयास करें।“

Nalbari,,Assam,,India.,18,April,,2019.,An,Indian,Voter,Casts

डेटा पत्रकारिता समाचार और विश्लेषण

भारत में खोजी पत्रकारिता : चुनावी वर्ष में छोटे स्वतंत्र मीडिया संगठनों का बड़ा प्रभाव

भारत में खोजी पत्रकारिता लगभग असंभव होती जा रही है। सरकारी और गैर-सरकारी दोनों प्रकार की ताकतें प्रेस की स्वतंत्रता के प्रति असहिष्णु हो रही हैं। उल्लेखनीय है कि विश्व के 180 देशों के प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत वर्ष 2022 में 150वें स्थान पर था। लेकिन वर्ष 2023 में इससे भी नीचे गिरकर 161वें स्थान पर आ गया।

post office boxes, shell companies

शेल कंपनियों के गुप्त मालिकों का पता कैसे लगाएं?

सहयोगियों ने मध्य पूर्व के एक राजा की विदेशी संपत्तियों की खोज की थी। पता चला कि यूके और यूएस में उस राजा के 14 आलीशान भवन थे। ऐसा गुप्त रूप से टैक्स-हेवन में फ्रंट कंपनियों के नेटवर्क के माध्यम से किया गया था। इस बात की नाटकीय पुष्टि तब हुई, जब एजेंटों द्वारा पंजीकरण दस्तावेजों में गुप्त ग्राहक के घर का पता ‘शाही महल‘ के रूप में दर्ज कराने की जानकारी मिली